रायबरेली: हत्‍यारा गृहमंत्री का ”रिश्‍तेदार” है, इंसाफ़ तो मिलने से रहा, खुदकुशी सही…!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
वीडियो Published On :


यह वीडियो चौबीस घंटे से कम समय में वायरल हो चुका है। ट्विटर पर इसे हज़ारों बार रीट्वीट किया जा चुका है। कोई ऐसा अधिकारी या नेता नहीं जिसे इस वीडियो में लोगों ने टैग न किया हो। खुद गृहमंत्री राजनाथ सिंह को भी, जिनके साथ वीडियो में एक आरोपी की रिश्‍तेदारी बतायी जा रही है।

यह महिला रायबरेली के थाना कोतवाली की रहने वाली है। रायबरेली कांग्रेस अध्‍यक्षा सोनिया गांधी की चुनावी सीट है। देश की सबसे वीआइपी चुनावी सीटों में एक। वीडियो में इस महिला को ध्‍यान से सुनिए।

आज से कोई दस साल पहले इस महिला की मां के साथ गैंग रेप हुआ। फिर इसके पिता की हत्‍या कर दी गई। महिला ने अपने मां-बाप को इंसाफ दिलाने के लिए सीबीआइ जांच की मांग की, लेकिन उस मामले में एफआइआर तक दर्ज नहीं हुई। नतीजा यह हुआ कि साल भर पहले इसके भाई की हत्‍या कर दी गई। जब इसने भाई को इंसाफ दिलाने के लिए आवाज़ उठायी तो बहन के साथ गैंगरेप कर के हत्‍या कर दी गई।

दोनों ही मामलों में एफआइआर अब तक नहीं हुई है, ऐसा इस महिला का कहना है। इसके बच्‍चे भूखे हैं। ये रोज लखनऊ में एफआइआर करवाने की कोशिश में आती है। प्राथमिकी नहीं लिखी जाती। बीती 24 तारीख को इसकी बेटी ने घर में ज़हर खा लिया। अगले दिन वह फिर एफआइआर करवाने आई।

जब कोई चारा नहीं बचा तो इसने मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के आवास के बाहर आत्‍मदाह करने की कोशिश की। दि राइजिंग न्‍यूज़ नाम के यूट्यूब चैनल ने इसे शूट कर के 5 नवंबर को अपलोड किया है।

देश के वीआइपी चुनावी सीट से आने वाली इस महिला को एक अदद एफआइआर करवाने के लिए अपनी जान देनी पड़ रही है क्‍योंकि उसके मुताबिक दोषी सारे भारतीय जनता पार्टी से हैं और इनमें एक व्‍यक्ति गृहमंत्री राजनाथ सिंह का रिश्‍तेदार है।

इस महिला ने वीडियो जिनके नाम दोषियों के रूप में गिनाए हैं वे हैं- गजानन सिंह, भानुप्रताप सिंह, सत्‍येंद्र सिंह, भाजपा जिलाध्‍यक्ष रायबरेली आरपी सिंह।

महिला कहती है- आरपी सिंह राजनाथ सिंह के रिश्‍तेदार हैं इसलिए एफआइआर नहीं दर्ज हो रही है।

महिला कहती है- हमें न्‍याय नहीं मिलेगा तो हम आत्‍महत्‍या नहीं करेंगे तो और क्‍या करेंगे।

 

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।