सत्ता के लिए विचारधारा से समझौता कर क़द छोटा कर लिया नीतीश ने- पवन वर्मा


तमाम महत्वपूर्ण किताबों के लेखक पवन वर्मा भारतीय विदेश सेवा के लिए 1976 में चुने गये थे। तमाम देशों में राजदूत रहे। लेकिन अफसरशाही की सीमा से पार जाकर समाज के लिए कुछ करना चाहते थे। नीतीश कुमार से प्रभावित पवन वर्मा जेडीयू में शामिल हुए और राज्यसभा में भेजे गये। पर जब ‘संघमुक्त भारत’ का नारा देने वाले नीतीश कुमार मोदी के शरण में चले गये और उन्होंने सीएए और एनआरसी का समर्थन किया तो वे अलग हो गये। उनसे भारतीय लोकतंत्र की मौजूद स्थिति पर बात की सौम्या गुप्ता ने।


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
वीडियो Published On :


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।