Home टीवी क्‍या NDTV ने पी. चिदंबरम का साक्षात्‍कार रोक कर ठीक किया?

क्‍या NDTV ने पी. चिदंबरम का साक्षात्‍कार रोक कर ठीक किया?

SHARE

 

क्‍या 6 अक्‍टूबर को एनडीटीवी ने बरखा दत्‍त द्वारा लिया गया पी. चिदंबरम का साक्षात्‍कार रोक कर ठीक किया? इस साक्षात्‍कार को न चलाए जाने पर थोड़ी देर हलचल मची थी जब दि वायर ने इसकी निंदा में अपने संपादक सिद्धार्थ वरदराजन का लेख छापा था। अब, जबकि गुबार बैठ गया है तो इस बात की समीक्षा की जानी चाहिए कि क्‍या एनडीटीवी का फैसला सही था? भले ही बहाना गलत रहा हो?



यह बात छुपी हुई नहीं है कि पी. चिदंबरम का एनडीटीवी के साथ पुराना रिश्‍ता रहा है। वह रिश्‍ता भी कोई बहुत पाक-साफ़ नहीं है, बल्कि उस पर ढेरों सवाल उठाए जा चुके हैं। ज़ाहिर है, अगर चिदंबरम का साक्षात्‍कार प्रसारित कर दिया जाता, तो यह प्रथम दृष्‍टया ”कनफ्लिक्‍ट ऑफ इंटरेस्‍ट” यानी हितों के टकराव का मामला होता, दूजे उस रिश्‍ते पर दोबारा नए सिरे सवाल खड़े होने शुरू हो जाते। एनडीटीवी के पास इससे बचने का यही तरीका था कि साक्षात्‍कार रोक दिया जाए और एक मौजूं बहाना गढ़ लिया जाए। बहाना बना ”राष्‍ट्रीय सुरक्षा” का।

पीछे मुड़कर देखें तो हम पाते हैं कि 5,500 करोड् की हेरफेर के मामले में एनडीटीवी की कहानी में कई रोचक किरदार मौजूद हैं जिनमें एक पूर्व कैबिनेट मंत्री चिदंबरम भी हैं। मोटे तौर पर यह मामला मीडिया, सत्‍ता और आवारा पूंजी के रिश्‍तों का है जिसे एक ईमानदार नौकरशाह और उसके ठोस वकीलों ने सामने लाने का काम किया था। इसकी कीमत उन्‍हें क्‍या चुकानी पड़ी, यह आइआरएस अफसर एस.के. श्रीवास्‍तव से बेहतर कोई नहीं बता सकता जिनकी जिंदगी पी. चिदंबरम के वित्‍त मंत्री और गृह मंत्री रहते हुए नरक बन गई थी।

श्रीवास्‍तव ने जब अपनी जांच में एनडीटीवी के घोटाले का परदाफाश किया, तो चैनल की ओर से उनके ऊपर काफी दबाव डाला गया। जब वे नहीं माने, तो सीधे चिदंबरम तक बात पहुंची और उन्‍होंने श्रीवास्‍तव को प्रताडि़त करना शुरू किया। एनडीटीवी और उसके निदेशकों की अनियमितताओं की जांच से श्रीवास्‍तव को दूर रखने के लिए चिदंबरम ने अपनी ताकत का इस्‍तेमाल किया। आखिर चिदंबरम को श्रीवास्‍तव की जांच से क्‍या दिक्‍कत थी?

आइए, बिंदुवार इस मामले को समझते हैं:

मामला

1. एस.के. श्रीवास्‍तव का आरोप- पी. चिदंबरम ने एनडीटीवी से 5500 करोड़ की रिश्‍वत कुछ फर्जी कंपनियों के रास्‍ते ली इसलिए चिदंबरम ने इस मामले में जांच की मंजूरी नहीं दी।

2. चिदंबरम का आरोप- श्रीवास्‍तव अनुशासनहीन हैं और उन्‍हें सरकारी सेवा से तत्‍काल हटाया जाना चाहिए। चिदंबरम के मातहत सीबीडीटी ने दिल्‍ली उच्‍च न्‍यायालय से कहा कि श्रीवास्‍तव का ”प्रदर्शन संतोषजनक नहीं है” और ”विभाग उनके काम करने के तरीके से खुश नहीं है”।

अपनी सुविधा के लिए पाठक कुछ चीजें नीचे दिए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं:   

दिल्‍ली उच्‍च न्‍यायालय के सामने सीबीडीटी का झूठ

एस.के. श्रीवास्‍तव के वकील द्वारा आइआरएस और पूर्व आयकर प्रमुख रांची श्री एस.के. सेन को भेजा गया कानूनी नोटिस

एस.के. सेन का जवाब जिसने उच्‍च न्‍यायालय में सरकार के पक्ष का खंडन कर दिया

3. एनडीटीवी का केस- सवाल उठता है कि पहले से ही संदिग्‍ध मामलों में फंसे एनडीटीवी के निदेशकों को कांग्रेस पार्टी, खासकर पी. चिदंबरम का संरक्षण क्‍यों मिलता रहा?

– एनडीटीवी ने यूके और हॉलैंड में स्थित एनडीटीवी की सहायक कंपनियों के अघोषित निवेशकों से ”प्राइवेट प्‍लेसमेंट” के रास्‍ते पैसा जुटाकर 5500 करोड् की हेरफेर की।

– इस पैसे से न केवल उसने अपना 3500 करोड़ कर्ज चुकाया बल्कि बचे हुए 2000 करोड़ को दूसरे खाते में डाल दिया।

– इस पैसे को मॉरीशस स्थित एनडीटीवी की एक सहायक कंपनी को भेज दिया गया।

– इसके बाद इसी पैसे को वहां से भारत में एनडीटीवी की कई सहायक कंपनियों में मंगवा लिया गया।

– बाद में इन भारतीय कंपनियों का विलय एनडीटीवी लिमिटेड, भारत में कर दिया गया और इस तरह मॉरीशस या यूके या हॉलैंड की कंपनियों को इसमें शेयरधारिता के स्‍वाभाविक अधिकार से वंचित कर दिया गया।

– फिर यूके, मॉरीशस और हॉलैंड की सहायक कंपनियों को आश्‍चर्यजनक तरीके से बंद कर दिया गया।

– फिलहाल डॉलर के मूल्‍य के हिसाब से देखें तो राजस्‍व विभाग को दिए जाने वाले दंड और ब्‍याज की मात्रा 5500 करोड़ को पार कर चुकी है।

– उस साल एनडीटीवी इंडिया की सालाना रिपोर्ट में यूके और हॉलैंड स्थित सहायक कंपनियों का जि़क्र तक नहीं किया गया तथा इस संबंध में न तो मंत्रालय को कोई सूचना दी गई और न ही सरकार ने कुछ पूछा।

– आयकर कानून की धारा 80 एचएचएफ के तहत एनडीटीवी ने गलत निर्यात का प्रदर्शन किया यह बात श्रीवास्‍तव द्वारा अदालत को बतायी गई है। इस कार्रवाई से कम से कम 300 करोड़ के फर्जीवाड़े को खोल दिया।

– एनडीटीवी ने गैरकानूनी तरीके से कर कटौतियों का दावा किया जबकि वास्‍तव में कुछ भी निर्यात नहीं किया गया था।

– इस कटौती को हालांकि एक महिला कर अधिकारी सुमाना सेन ने मंजूरी दे दी थी जिनका दावा था कि श्रीवास्‍तव ने उनका उत्‍पीड़न किया है। इनके पति अभिसार शर्मा एनडीटीवी के कर्मचारी थे। इस बात को उन्‍होंने अब तक छुपाए रखा था।

– इस अधिकारी ने एनडीटीवी की ओर से एक करोड़ रुपये की यूरोप की यात्रा की और आधिकारिक स्‍तर पर कंपनी के साथ अपनी संलग्‍नता को लेकर झूठी रिपोर्ट दर्ज की। उन्‍होंने विभाग को बताया कि वे इस उपहार को लेने की अधिकारी हैं जबकि राजस्‍व विभाग से यह छुपाए रखा कि उनके पति एनडीटीवी में काम करते हैं।

– उसी आकलन वर्ष में सुमाना सेन ने एनडीटीवी को 1.46 करोड़ का कर रीफंड करवाया और अपने पति अभिसार शर्मा के हाथ से चेक भिजवाया, जो कि रीफंड नियमों का घोर उल्‍लंघन था।

– श्रीवास्‍तव पर सेन के लगाए आरोप अदालत में गिर गए, लेकिन चिदंबरम ने बाद में श्रीवास्‍तव के खिलाफ एक और जांच बैठा दी थी जिस पर केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण ने रोक लगा दी और चिंदबरम का नाम इसमें आने के बाद वे अपना जवाब दाखिल नहीं कर सके।

– मार्च 2013 में एनडीटीवी को एक और कर अधिकारी ने धारा 148 के अंतर्गत 2003 करोड़ की अघोषित आय को लेकर एक नोटिस भेजा था।

सहायक सामग्री डाउनलोड करने के लिए:

पी. चिदंबरम की रिश्‍वत के संबंध में सुप्रीम कोर्ट के वकील पीसी श्रीवास्‍तव द्वारा लोकसभा सांसद और संयुक्‍त संसदीय समिति के अध्‍यक्ष श्री पीसी चाको को लिखा पत्र

सांसद कैप्‍टन जयनारायण प्रसाद निषाद द्वारा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को लिखा गया पत्र

एनडीटी को 2003 करोड़ वाली नोटिस

एनडीटीवी को अघोषित स्रोतों से 642.54 करोड़ की आय संबंधी आयकर विभाग का आदेश

एनडीटीवी नेटवर्क्‍स पीएलसी (यूके) के निदेशकों और शेयरधारकों की सूची

2006-07 की एसीआर का नमूना जिसमें श्रीवास्‍तव को आउटस्‍टैंडिंग बताया गया है जबकि इसी साल उन्‍हें चिदंबरम ने निलंबित किया था

एनडीटीवी के पूर्व कर्मचारी अभिसार शर्मा की आयकर केस फाइल की चोरी

पीएमओ द्वारा चिदंबरम के सिलसिले में एसके श्रीवास्‍तव से मांगी गई सामग्री

897.27 करोड़ की अघोषित आय पर एनडीटीवी पर लगा कर

एनडीटीवी को 1.46 करोड़ के कर रीफंड को आयकर विभाग ने गैर-कानूनी बताया

एनडीटीवी, प्रणय रॉय और राधिका रॉय का 539 करोड़ से ज्‍यादा बकाया कर

वकीलों के सामने एसके श्रीवास्‍तव का बयान

प्रणय रॉय का गुरुमूर्ति को भेजा ईमेल

गुरुमूर्ति का रॉय को जवाब

मीडिया में कवरेज

मिडे में छपी ख़बर

डीएनए

आफ्टरनून डिस्‍पैच एंड कूरियर

यथावत

मनी लाइफ

राम जेठमलानी और मधु किश्‍वर की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस

प्रेस विज्ञप्ति

प्रेस कॉन्‍फ्रेंस की वीडियो

 

स्रोत: http://pcwedsndtv.blogspot.in/ और अन्‍य

24 COMMENTS

  1. The next time I learn a blog, I hope that it doesnt disappoint me as a lot as this one. I mean, I do know it was my option to read, however I really thought youd have one thing fascinating to say. All I hear is a bunch of whining about something that you could possibly repair when you werent too busy looking for attention.

  2. I am curious to find out what blog platform you’re utilizing? I’m experiencing some small security problems with my latest blog and I’d like to find something more safe. Do you have any suggestions?

  3. Does your website have a contact page? I’m having a tough time locating it but, I’d like to send you an email. I’ve got some recommendations for your blog you might be interested in hearing. Either way, great website and I look forward to seeing it improve over time.

  4. Immediately after study a number of of the weblog posts in your web-site now, and I genuinely like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark web page list and is going to be checking back soon. Pls check out my website also and let me know what you believe.

  5. hey there and thank you to your info – I’ve certainly picked up anything new from right here. I did however expertise several technical issues the use of this website, since I skilled to reload the web site lots of instances prior to I may just get it to load correctly. I were wondering in case your web host is OK? No longer that I am complaining, but sluggish loading instances times will often affect your placement in google and can injury your high quality rating if advertising with Adwords. Anyway I am adding this RSS to my email and could glance out for much more of your respective fascinating content. Ensure that you replace this again very soon..

  6. I want to express appreciation to the writer just for rescuing me from this circumstance. Just after browsing through the internet and getting notions that were not beneficial, I believed my entire life was gone. Being alive without the solutions to the issues you’ve resolved through this blog post is a crucial case, and ones which might have badly damaged my entire career if I hadn’t noticed the website. Your actual mastery and kindness in maneuvering everything was invaluable. I don’t know what I would’ve done if I hadn’t discovered such a subject like this. I am able to at this moment look ahead to my future. Thank you very much for this expert and results-oriented help. I will not be reluctant to suggest the website to anyone who should get guide on this matter.

  7. I just want to tell you that I am just very new to blogging and site-building and honestly loved this blog. Almost certainly I’m planning to bookmark your website . You definitely have perfect stories. Thanks a lot for sharing your webpage.

  8. This is the best weblog for any one who wants to find out about this topic. You understand so a lot its nearly hard to argue with you (not that I basically would want…HaHa). You undoubtedly put a brand new spin on a subject thats been written about for years. Excellent stuff, just terrific!

  9. I discovered your blog website on google and examine just a few of your early posts. Continue to keep up the excellent operate. I simply additional up your RSS feed to my MSN Information Reader. Seeking forward to studying more from you later on!…

  10. What’s Happening i’m new to this, I stumbled upon this I’ve found It positively helpful and it has aided me out loads. I hope to contribute & aid other users like its aided me. Great job.

  11. It’s a shame you don’t have a donate button! I’d without a doubt donate to this outstanding blog! I suppose for now i’ll settle for book-marking and adding your RSS feed to my Google account. I look forward to brand new updates and will talk about this blog with my Facebook group. Talk soon!

  12. Good day I am so delighted I found your webpage, I really found you by error, while I was researching on Yahoo for something else, Regardless I am here now and would just like to say cheers for a marvelous post and a all round thrilling blog (I also love the theme/design), I don’t have time to look over it all at the minute but I have saved it and also included your RSS feeds, so when I have time I will be back to read much more, Please do keep up the fantastic work.

  13. When I originally commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time a comment is added I get several emails with the same comment. Is there any way you can remove people from that service? Thanks!

  14. Wow! This blog looks exactly like my old one! It’s on a entirely different subject but it has pretty much the same page layout and design. Great choice of colors!

  15. As I site possessor I believe the content matter here is rattling wonderful , appreciate it for your efforts. You should keep it up forever! Good Luck.

  16. I have read a few good stuff here. Definitely worth bookmarking for revisiting. I surprise how much effort you put to make such a fantastic informative web site.

  17. Does your website have a contact page? I’m having a tough time locating it but, I’d like to shoot you an email. I’ve got some ideas for your blog you might be interested in hearing. Either way, great website and I look forward to seeing it improve over time.

  18. I needed to write you a bit of word so as to say thanks once again for your personal unique advice you’ve contributed here. This is simply generous of you giving freely what exactly numerous people might have offered for an e-book to make some bucks on their own, most notably now that you could possibly have tried it in the event you wanted. The solutions likewise worked to be a great way to comprehend other people online have the same dream like mine to understand somewhat more with respect to this problem. I believe there are lots of more pleasurable times in the future for individuals that look over your blog post.

  19. Hi! Do you know if they make any plugins to safeguard against hackers? I’m kinda paranoid about losing everything I’ve worked hard on. Any suggestions?

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.