यूपी: 29 ज़िलों में टोल प्लाज़ा पर 287 करोड़ रुपये के फर्ज़ीवाड़े का खेल!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
प्रदेश Published On :


भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण {National Highway Authority of India  (NHAI)} के टोल प्लाज़ा चलाने वाली कंपनियों ने बड़ा घोटाला किया है। वो भी सिर्फ एक जगह नहीं बल्कि फर्ज़ीवाड़ा का यह मामला 29 जिलों से सामने आया है। यह सभी जिले उत्तर प्रदेश के है। करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी में सबसे बड़ी चोरी अलीगढ़ में की गई है। यूपी विधानसभा में सरकार की ओर से यह जानकारी दी गई है।

ऐसे किया फर्जीवाड़ा..

दरअसल,जानकारों के अनुसार,NHAI हाईवे तैयार कर उस पर टोल भी वसूलता है।  NHAI अन्य निजी कंपनियों को टोल वसूली का ठेका देता है। जब NHAI निजी कंपनियों के साथ समझौता करता है, तो पंजीकृत समझौता(registered agreement) करने के लिए स्टाम्प भी लगाए जाते हैं। समझौते के दौरान ही कंपनियों ने उतने स्टाम्प नहीं लगाए, जितने की उन्होंने स्टाम्प डयूटी बनाई थी। इसका सारा नुकसान सीधा यूपी सरकार को हुआ, क्योंकि सभी टोल प्लाज़ा यूपी के शहरों में थे।

29 शहरों में करीब 70 मामले दर्ज..

इस घोटाले की खबर आने के बाद सरकार ने  कंपनियों को नोटिस जारी किया गया है दी है। राजस्व अधिनियम के तहत राशि की वसूली की जा रही है। कंपनियों के खिलाफ 29 शहरों में करीब 70 मामले दर्ज कराए गए हैं। अलीगढ़, कंपनियों द्वारा की गई चोरी में सबसे टॉप पर है।

विधानसभा में रखी गई शहरों की सूची में अलीगढ़ सबसे आगे है। जितने भी शहर इस फर्जीवाड़ा लिस्ट में शामिल है उनमें ज्यादातर में करोड़ों का घोटाला किया गया है।

इन शहरों में इतने रुपए की चोरी..

  • अलीगढ़- 56 करोड़
  • अयोध्य- 42 करोड़
  • मुरादाबाद – 25.54 करोड़
  • मेरठ- 25 करोड़
  • बस्ती- 23 करोड़
  • लखनऊ- 18.63 करोड़
  • कुशीनगर- 12.59 करोड़
  • गोरखपुर- 12.51 करोड़
  • झांसी- 10.76 करोड़
  • फिरोजाबाद- 10.26 करोड़
  • जालौन- 9.44 करोड़
  • देवरिया- 7.65 करोड़
  • अमरोहा- 7.69 करोड़
  • वाराणसी- 6.79 करोड़
  • हाथरस- 4.99 करोड़
  • कानपुर देहात- 3.67 करोड़
  • हापुड़- 2.24 करोड़
  • भदोही- 1.46 करोड़
  • रायबरेली- 1.31 करोड़
  • बाराबंकी- 87 लाख
  • ललितपुर- 77 लाख
  • अम्बेडकर नगर- 21 लाख
  • बहराइच- 17 लाख रुपये के स्टाम्प की चोरी की गई है।

मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।