कावेरी जल बंटवारा: सुप्रीम कोर्ट ने दशकों पुराने विवाद फैसला सुनाते हुए कर्नाटक के की हिस्सेदारी घटाई

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
कर्नाटक Published On :


फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कावेरी नदी के पानी में तमिलनाडु की हिस्सेदारी 192 टीएमसी ( (हजार मिलियन क्यूबिक) से घटाकर 177.25 टीएमसी कर दी जबकि कर्नाटक की हिस्सेदारी बढ़ाकर 270 टीएमसी से 284.75 कर दी।

कोर्ट ने 1894 और 1924 के जल विवाद समझौतों को,तथा उन्हें वैधता देने वाले जल विवाद ट्रिब्यूनल के फैसले को भी सही ठहराया।

कोर्ट का यह फैसला 15 सालों तक मान्य रहेगा।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।