कहीं नहीं बनने देंगे बीजेपी की सरकार, नेताओं का होगा बॉयकाट-SKM

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
आंदोलन Published On :


संयुक्त किसान मोर्चा की प्रेस विज्ञप्ति

किसान नेताओं ने किया जनता का धन्यवाद : आंदोलन तेज करने का आह्वान

लॉकडाउन में किसानों आम नागरिकों को तंग न करे कोई सरकार

किसान नेता अखिल गोगोई की विधानसभा चुनाव में जीत : जेल से तुरंत बेशर्त रिहा करे सरकार

 

राज्य विधानसभा चुनावों में किसानों और मजदूरो के भारी गुस्से के कारण भाजपा की यह हार हुई है। तीन कृषि कानूनो के माध्यम से मंडी व्यवस्था खत्म करना, कॉरपोरेट को स्टॉक हेतु खुली छूट देना, किसानों की जमीनों पर कॉरपोरेट के कब्ज़ा कर लेने की महत्वकांक्षा किसानों को समझ मे आ गयी है। किसानों को MSP न मिलने के कारण व MSP के नाम पर झूठ फैलाने के कारण किसानों का गुस्सा इन चुनावों में फूटा है। वहीं मजदूर वर्ग ने भी वोट से चोट देते हुए भाजपा को सबक सिखाया है। नए लेबर कोड के माध्यम से सरकार मजदूरों को पूर्ण रूप से गुलाम बनाना चाहती है। 8 घंटे से बढ़ाकर 12 घंटे काम करने का फैसला मजदूरों को मंजूर नहीं है। मजदूरो ने भाजपा सरकार की PDS बंद करने की सोच के खिलाफ वोट दिया है।

किसान जब से अपने राज्यों में इन तीन कानूनो का विरोध कर रहे हैं व अब दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हैं, सरकार लगातार उन्हें बदनाम कर रही है। कभी किसानों को राजनैतिक दलों से जोड़ा जाता है कभी चरमपंथी और अलगाववादी कहा जाता रहा है। अनेक दौर की बैठकों में भी जब भाजपा सरकार अपने घमंड पर कायम रही तब भी किसानों ने शांतमयी धरने को जारी रखा। भाजपा केवल चुनाव की भाषा समझती है और इसलिए किसानों ने भाजपा के खिलाफ चुनाव प्रचार किया। यह देश के लोगों का सयुंक्त किसान मोर्चा में विश्वास और किसानों के प्रति सम्मान का नतीजा है कि भाजपा को विधानसभा चुनावों में बुरी हार का सामना करना पड़ा है। हम भाजपा सरकार को फिर चेतावनी देते है कि अगर सरकार हमारी मांगे नहीं मानती तो उत्तरप्रदेश से लेकर देश के किसी भी हिस्से में भाजपा की सरकार नहीं बनने दी जाएगी। देश के किसान मजदूर व संघर्षशील लोग अब एकजुट हो चुके है।

कल चुनाव परिणाम आने के बाद किसान नेताओ ने देश की जनता का धन्यवाद किया जिन्होंने सयुंक्त किसान मोर्चो के “नो वोट टू बीजेपी” अभियान को सफल बनाया। अब इस ऊर्जा को किसान आंदोलन मजबूत करने की दिशा मे लगाने की ज़रूरत है। कोरोना महामारी में जरूरी सावधानियां बरतते हुए इस आंदोलन को तेज किया जाएगी। हम देश के किसानों मजदूरो व आम नागरिकों से अपील करते है कि वे पहले की तरह किसान आंदोलन में पूरा सहयोग बनाए रखे।

इस दौरान किसान आंदोलन के नेताओ ने स्पष्ट रूप से कहा है कि जब तक किसान आंदोलन जारी है तब तक भाजपा व उसके सहयोगी दलों के नेताओ का सामाजिक बहिष्कार जारी रहेगा। उन्हें किसी भी सार्वजनिक कार्यक्रम में नहीं आने दिया जाएगा और न ही शादी-ब्याह में बुलाया जाएगा। किसानों के इस ऐतिहासिक आंदोलन में अब भी कोई किसानों से गद्दारी कर रहे है तो उसे यही सजा दी जाएगी।

सरकारें कोरोना महामारी के खिलाफ तकनीकी व नीतिगत स्तर पर व्यवस्था बनाने के विपरीत लॉकडाउन लगा रही है। लॉकडाउन लगाकर जन विरोधी फैसले किये जा रहे है, इसलिए हम राज्य सरकारों व केंद्र सरकार से अनुरोध करते है कि वे कोरोना के नाम पर किसानों व आम नागरिको को परेशान करना बंद करें। हरियाणा सरकार से विशेष अनुरोध है कि धरने पर आ जा रहे किसानों को कोई भी परेशान न करें व उन्हें बदनाम करने की कोशिश न करें।

असम के किसान नेता अखिल गोगोई, जिसको सरकार ने झूठे आरोपो के आधार पर जेल में रखा हुआ है, ने विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की है। शिबसागर संसदीय क्षेत्र के नागरिको ने उनमें विश्वास दिखाया है। हम सरकार से किसान नेता अखिल गोगोई की तुरंत बेशर्त रिहाई की मांग करते है।

जारीकर्ता – अभिमन्यु कोहाड़, बलवीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हनन मौला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उग्राहां, युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव

सयुंक्त किसान मोर्चा
9417269294
samyuktkisanmorcha@gmail.com

(158 वां दिन, 3 मई 2021)


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।