किसानों का सर फोड़ने का हुक़्म देने वाले अफ़सर का तबादला नाकाफ़ी, बरख़ास्त हो-SKM

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
आंदोलन Published On :


संयुक्त किसान मोर्चा प्रेस विज्ञप्ति

करनाल में सिर फोड़ने का आदेश देने वाले एस डी एम का तबादला नाकाफी, यह एक नियमित स्थानांतरण है – यह प्रोत्साहन के साथ-साथ पदोन्नति भी है, सजा नहीं – हरियाणा सरकार हत्यारे अधिकारी को बचाने को नाकाम कोशिश कर रही है – हत्या का मुकदमा दर्ज कर 6 सितंबर तक बर्खास्त नहीं किये जाने पर करनाल लघु सचिवालय का घेराव किया जाएगा – देश भर में विरोध प्रदर्शन जारी

केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए धान खरीदी के नए नियम किसान विरोधी – समर्थन मूल्य पर कम से कम खरीद के लिए बनाए गए हैं नियम – किसान संगठन नए नियमों को स्वीकार नहीं करेंगे: संयुक्त किसान मोर्चा

राष्ट्रीय अधिवेशन में लिए गए फैसले के अनुसार विभिन्न राज्यों में संयुक्त किसान मोर्चा की समन्वय समितियों के गठन हेतु बैठकें शुरू

5 सितंबर की मुजफ्फरनगर किसान महापंचायत की तैयारियां जोरों पर – जिलों जिलों में हो रही है तैयारी बैठकें – हज़ारों किसान हो रहे है शामिल – किसानों का उत्साह चरम पर

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि करनाल में सिर फोड़ने का आदेश देने वाले एस डी एम का तबादला एक नियमित स्थानांतरण हैI यह प्रोत्साहन के साथ-साथ पदोन्नति भी है, सजा नहीं I हरियाणा सरकार हत्यारे अधिकारी को बचाने को नाकाम कोशिश कर रही हैI हरियाणा सरकार द्वारा अन्य अधिकारियों के साथ हत्यारे एस डी एम का तबादला किये जाने की कार्यवाही को किसानों के साथ छल करने वाली एवम बचाने की कार्यवाही बतलाते हुए संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है 6 तारीख तक हत्या का मुकदमा दर्ज कर एस डी एम को यदि बर्खास्त नहीं किया जाता है तो करनाल में किसान 7 सितंबर से लघु सचिवालय के घेराव करेंगे।

इस बीच बंगाल, असम, बिहार, महाराष्ट्र, तमिलनाडू, केरल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, मध्यप्रदेश आदि प्रदेशों के विभिन्न जिलों में करनाल में लाठीचार्ज के घायल सुशील काजल की शहादत के बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री का पुतला दहन कर ख़ूनी एस डी एम को तुरंत बर्खास्त कर गिरफ्तार हत्या का मुकदमा दर्ज करने की मांग की गई।

संयुक्त किसान मोर्चा ने पंजाब के मोगा शहर में आज के.के.यू. के कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज किए जाने की निंदा करते हुए दोषी अधिकारियों कर तत्काल कार्यवाही की मांग की है । किसानों पर लाठी चार्ज तब किया गया जब वे अकाली दल के नेता सुखबीर बादल से शांतिपूर्ण तरीके से बात करने जा रहे थे।

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि धान की खरीद के केंद्र सरकार ने जो नए मापदंड जारी किए हैं उनके खिलाफ किसानों का आक्रोश बढ़ता जा रहा है। नए नियमों में टूटे दाने की खरीद 25% से घटाकर 20% नमी 15% से घटाकर 14%, नुकसान हुए धान की खरीद का प्रतिशत 3 से घटाकर 2% और लाल दाने जो अब तक 3% तक लिए जाते थे, की खरीदी अब नहीं की जाएगी। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि सरकार की नीति से स्प्ष्ट होता है कि वह किसानों से कम से कम धान समर्थन मूल्य पर खरीदना चाहती है। किसानों के विरोध के साथ साथ मिलर्स एसोसिएशन द्वारा भी नए मापदंडों का विरोध किया जा रहा है। पंजाब के किसान संगठनों ने नए नियमों की निंदा और विरोध करते हुए इन्हें स्वीकार करने से इनकार कर दिया है।

संयुक्त किसान मोर्चा के 26-27 अगस्त को सिंघू बॉर्डर पर हुए राष्ट्रीय अधिवेशन में लिए गए फैसले के अनुसार विभिन्न राज्यों में संयुक्त किसान मोर्चा की समन्वय समितियों के गठन हेतु बैठकें शुरू हो गई हैं। उत्तराखंड और छत्तीसगढ़ में बैठकें हो चुकी हैं। उत्तर प्रदेश में 9-10 सितंबर को लखनऊ में बैठक बुलाई गई है। मध्यप्रदेश में कल 3 सितंबर को एवम बिहार में 11 सितंबर को बैठक बुलाये जाने की सूचना प्राप्त हुई है। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि 25 सितंबर के पहले सभी राज्यों में समन्वय समितियां गठित करने का लक्ष्य रखा गया है ताकि संयुक्त किसान मोर्चा में अधिक से अधिक संगठनों की भागीदारी सुनिश्चित कर भारत बंद को पहले से अधिक प्रभावकारी बनाया जा सके।

5 सितंबर की मुजफ्फरनगर किसान महापंचायत की तैयारियां जोरों पर चल रही है। उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा और पंजाब के जिलों जिलों में बैठकें हो रही है, इन तैयारी बैठकों में भारी उत्साह के साथ हज़ारों किसान शामिल हो रहे है। अन्य राज्यों से भी बड़ी संख्या में किसानों के पहुंचने की सूचना प्राप्त हुई है।

जारीकर्ता –
बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा (कक्का जी), युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव

संयुक्त किसान मोर्चा
ईमेल: samyuktkisanmorcha@gmail.com

280वां दिन, 2 सितंबर 2021

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।