MSP को लेकर झूठ बोल रही है सरकार-SKM


27 सितंबर को भारत बंद सफल बनाने के लिए कर्नाटक में राज्य स्तरीय योजना को अंतिम रूप देने के लिए एक बैठक आज बैंगलोर के फ्रीडम पार्क में हुई। बैठक में कृषि संघों के अलावा, लगभग 80 संगठनों के 120 से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया, जिनमें ट्रांसपोर्टर एसोसिएशन के प्रतिनिधि, श्रमिक और ट्रेड यूनियन, महिला संगठन, छात्र संगठन, डॉक्टर एसोसिएशन, बैंक कर्मचारी संघ आदि शामिल थे।


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
आंदोलन Published On :


संयुक्त किसान मोर्चा प्रेस विज्ञप्ति

सीएसीपी मूल्य नीति रिपोर्ट इस बात की पुष्टि करती है कि विपणन सीजन 2022-23 में रबी फसलों के लिए एमएसपी गणना हेतु सरकार द्वारा उपयोग की जाने वाली उत्पादन लागत वास्तव में ए 2+एफ एल लागत थी — सरकार ने ए 2+एफ एल लागत को कुल लागत (कॉम्प्रीहेंनसिव कॉस्ट) के रूप में संदर्भित करते हुए जानबूझकर झूठ बोला

एनएसओ के 77वें दौर के सर्वेक्षण में मोदी शासन में मंडियों के कमजोर होने और सरकारी मंडियों में अपनी उपज बेचने वाले किसानों का प्रतिशत 2013 और 2019 के बीच घट गया है — अधिकांश किसान सरकार द्वारा घोषित एमएसपी से अनजान थे — एपीएमसी मंडियों में न बेच पाने के लिए अधिकांश ने बुनियादी ढांचे की कमी (यानी मंडियों या खरीदारों की अनुपलब्धता) को जिम्मेदार ठहराया

महाराष्ट्र के धुले में किसान मजदूर रैली आयोजित — जयपुर में किसान संसद का आयोजन — चंपारण, बिहार में किसान सम्मेलन आयोजित किया गया — 27 सितंबर को भारत बंद की योजना बनाने के लिए बैंगलोर में संयुक्त होराता की बैठक आयोजित की गई

गुजरात से किसानों का एक दल आज गाजीपुर मोर्चा पर पहुंचा — प्रहार किसान संगठन का साइकिल मार्च आज ग्वालियर पहुंची

 

8 सितंबर 2021 को पीआईबी प्रेस विज्ञप्ति में, केंद्र सरकार ने विपणन सीजन 2022-23 के लिए रबी फसलों के लिए एमएसपी की घोषणा करते हुए एमएसपी तय करने के लिए उपयोग की जाने वाली उत्पादन लागत को “कुल लागत” के रूप में वर्णित किया था। एमएसपी तय करने की भाषा में कुल लागत अवधारणा को सी2 के रूप में संदर्भित किया जाता है, और एमएसपी घोषणा का आधार बनाने के लिए किसान इसी की बात करते रहे हैं, मतलब एमएसपी फॉर्मूले के रूप में सी2+50% का इस्तेमाल। जबकि एसकेएम ने एमएसपी तय करने के लिए ए2+एफ एल लागत अवधारणा का उपयोग जारी रखने में सरकार के हठ का विरोध किया था, जो बात अत्यधिक आपत्तिजनक है वह पीआईबी प्रेस विज्ञप्ति द्वारा प्रयास किया गया पीआर स्टंट है, जिसने ए2+एफ एल को कुल लागत या सी2 के बराबर दिखाया है। इस बीच, सीएसीपी द्वारा जारी “रबी फसलों के लिए मूल्य नीति रिपोर्ट, विपणन सीजन 2022-23” से पता चलता है कि सरकार द्वारा उपयोग की जाने वाली उत्पादन लागत वास्तव में ए2+एफ एल लागत है। सी ए सी पी दस्तावेज़ में यह भी स्पष्ट रूप से कहा गया है कि ’व्यापक लागत’ सी2 लागत है, जैसा कि पहले था। “सरकार शरारत से व्यापक लागत की परिभाषा को बदलने की कोशिश कर रही है। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि पीआईबी प्रेस विज्ञप्ति में ए2+एफ एल लागत को व्यापक लागत के रूप में संदर्भित करके किसानों को गुमराह भी कर रही है। पीआईबी को अच्छी तरह से स्थापित लागत अवधारणाओं को और विकृत किए बिना इस पर तुरंत सुधार कर प्रकाशित करना चाहिए” .

एनएसओ के 77वें दौर के सर्वेक्षण में मोदी शासन के तहत मंडियों के कमजोर किए जाने पर और अधिक तथ्य सामने आए हैं, जो बदले में कृषि घरानों की वास्तविक कृषि आय में गिरावट से संबंधित हो सकते हैं। एनएसओ की रिपोर्ट से पता चलता है कि 2013 (70वें दौर) और 2019 (77वें दौर) के बीच सरकारी मंडियों में अपनी उपज बेचने वाले किसानों का प्रतिशत काफी कम हो गया है — यह वह समयावधि है जो मोदी सरकार के ए डी ए-1 शासन के साथ मेल खाती है। अधिकांश कृषि घराने सरकार द्वारा घोषित एमएसपी से अनजान थे, और एपीएमसी मंडियों में फसल बेचने में सक्षम नहीं होने के लिए बुनियादी ढांचे की कमी (यानी मंडियों या खरीदारों की अनुपलब्धता) को जिम्मेदार ठहराया — उल्लेखनीय यह है कि इन दो दौर के सर्वेक्षणों के बीच एमएसपी और मंडी प्रणाली की स्थिति खराब हो गई है। ये तथ्य कॉरपोरेट के पक्ष में सरकारी मंडियों के कमजोर किए जाने के बड़े आख्यान में फिट होते हैं, और तीन कृषि कानूनों के वास्तविक उद्देश्य को प्रत्यक्ष करते हैं।

किसान आंदोलन का उभार अब पूरे देश में दिखलाई है। आज महाराष्ट्र के धुले में एक बड़ी किसान-मजदूर रैली का आयोजन किया गया। जयपुर में किसान संसद का आयोजन किया गया जिसमें कई एसकेएम नेताओं ने भाग लिया। बिहार के चंपारण में किसान कन्वेंशन का आयोजन किया गया।

27 सितंबर को भारत बंद सफल बनाने के लिए कर्नाटक में राज्य स्तरीय योजना को अंतिम रूप देने के लिए एक बैठक आज बैंगलोर के फ्रीडम पार्क में हुई। बैठक में कृषि संघों के अलावा, लगभग 80 संगठनों के 120 से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया, जिनमें ट्रांसपोर्टर एसोसिएशन के प्रतिनिधि, श्रमिक और ट्रेड यूनियन, महिला संगठन, छात्र संगठन, डॉक्टर एसोसिएशन, बैंक कर्मचारी संघ आदि शामिल थे।

इस बीच, फसल काटने के मौसम के बीच भी दिल्ली में मोर्चा मजबूत हो रहा है, जिसमें देश भर से किसान शामिल हो रहे हैं। आज गुजरात से बड़ी संख्या में किसान गाजीपुर मोर्चा पहुंचे। प्रहार किसान संगठन का साइकिल मार्च आज ग्वालियर पहुंची और जो 20 सितंबर को सिंघू मोर्चा पर किसानों से जुड़ेगी।

जारीकर्ता –
बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा (कक्का जी), युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव

 

संयुक्त किसान मोर्चा
ईमेल: samyuktkisanmorcha@gmail.com

293वां दिन, 15 सितंबर 2021


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।