सरकार के पास शहीद किसानों का आँकड़ा न होना शर्मनाक, कल से किसान संसद-SKM

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
आंदोलन Published On :


दिल्ली की सरहदों पर लगभग आठ महीने से धरना दे रहे किसान संगठनों ने कल से जंतर-मंतर पर मॉनसून सत्र के हर कार्यदिवस पर किसान संसद आयोजित करने का ऐलेन किया है। देश के दो सौ किसानों की चुनी हुई टुकड़ी हर दिन किसान संसद आयोजित करने पहुँचेगी।

संयुक्त किसान मोर्चा ने आज एक बयान में बताया कि 22 जुलाई से किसान सिसंद का सिलसिला शुरू होगा जिसमें देश भर के किसानों की भागीदारी होगी। इसकी तैयारियाँ पूरी हो गयी है। बयान में कहा गया है कि केरल में किसान संसद के साथ एकजुटता दिखाते हुए, ‘क्रशका प्रशोबा ऐक्यढारद्या समिथि’  सभी 14 जिला मुख्यालयों और ब्लॉक स्तर पर केंद्र सरकार के कार्यालयों के सामने धरना देगी। वहाँ से किसानों का 2 जत्था दिल्ली के लिए रवाना हो गया है। इसी तरह कर्नाटक, तमिलनाडु और अन्य दूर के राज्यों से भी किसानों की टुकड़ी  पहुँच रही है।

बयान में कहा गया है कि आंदोलन को और मजबूत करने के लिए हर दिन अधिक से अधिक किसान विरोध स्थलों पर पहुंच रहे हैं। कल बीकेयू चढुनी के नेतृत्व में किसानों का एक बड़ा दल यमुनानगर से रवाना हुआ। इसी तरह की लामबंदी अन्य विरोध स्थलों पर भी हो रही है।

बयान में कहा गया है कि लोकसभा के एक प्रश्न (नंबर 337) के लिखित जवाब में कल कृषि और किसान कल्याण मंत्री ने बताया कि सरकार ने विरोध प्रदर्शनों को समाप्त करने के लिए कई प्रयास किए हैं। विडंबना यह है कि यह वास्तव में सच है। भाजपा ने, केंद्र और विभिन्न राज्यों में, वास्तव में, विरोध प्रदर्शनों को समाप्त करने, नेताओं पर झूठे मुकदमे लगाने, उन्हें सलाखों के पीछे डालने, विरोध स्थलों की आपूर्ति में कटौती करने, किसान मोर्चा के चारों ओर बैरिकेड्स लगाने के लिए कई प्रयास किए हैं। सरकार ने किसानों को बदनाम करने की पूरी कोशिश की है। वहीं दूसरी ओर सरकार द्वारा कई सवालों के जवाब में दिए गए अन्य बयान शर्मनाक हैं।

इस बारे में किसान प्रतिनिधियों से औपचारिक बातचीत करने के बावजूद सरकार ने संसद के पटल पर किसान आंदोलन की मांगों को सही ढंग से नहीं रखा। न्यूनतम समर्थन मूल्य पर, संयुक्त किसान मोर्चा ने स्पष्ट रूप से कहा है कि, आंदोलन सभी किसानों के लिए सभी कृषि उपज पर, C2 + 50% फॉर्मूला के साथ घोषित एमएसपी पर, कानूनी गारंटी चाहता है, और इस पर देश में बड़े पैमाने पर बहस हुई है। हालाँकि, भारत सरकार ने इस मांग को “न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद से संबंधित मुद्दे” के रूप में प्रस्तुत किया।

इससे भी अधिक शर्मनाक और खेदजनक बात यह है कि सरकार कह रही है कि आंदोलन के दौरान मारे गए आंदोलनकारी किसानों की संख्या का उसके पास कोई आंकड़ा नहीं है। एसकेएम कृषि मंत्री तोमर और उनके सहयोगियों और अधिकारियों को याद दिलाना चाहता है कि दिसंबर 2020 में, आंदोलन के कई शहीदों को सम्मान देने के लिए पूरा आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल मौन खड़ा हुआ था। यह सच हो सकता है कि इस कठोर सरकार ने रिकॉर्ड नहीं रखा होगा, लेकिन आंदोलन एक खुली ब्लॉग साइट के माध्यम से ऐसी जानकारी साझा कर रहा है और विवरण वास्तव में सरकारों और अन्य लोगों के लिए उपलब्ध हैं, यदि वे इसे देखना चाहें और इस पर कार्यवाही करना चाहें। https://humancostoffarmersprotest.blogspot.com/. इस आंदोलन में 10 जुलाई तक 537 किसान शहीद हो चुके हैं।

मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने यह भी कहा कि “सरकार किसान संगठनों के साथ चर्चा के लिए हमेशा तैयार है और आंदोलन कर रहे किसानों के साथ इस मुद्दे को हल करने के लिए चर्चा के लिए तैयार रहेगी”। अगर ऐसा होता तो किसान आंदोलन और सरकार के बीच आखिरी दौर की वार्ता छह महीने पहले 22 जनवरी 2021 को समाप्त होने का कोई कारण नहीं था। और जिस महत्वपूर्ण सवाल का जवाब सरकार ने नहीं दिया, यह देखते हुए कि उसके पास कोई तर्क नहीं है, कि सरकार तीनों किसान विरोधी कानूनों को निरस्त क्यों नहीं करेगी।

एक अन्य उत्तर (प्रश्न संख्या 297) के उत्तर में, मंत्री ने पिछले तीन वर्षों में साल दर साल हुए एमएसपी में वृद्धि के आंकड़े प्रतिशत में साझा किए। यह स्पष्ट है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य की घोषणा करते समय इस सरकार के एमएसपी वृद्धि दर मुद्रास्फीति दरों (रेट ऑफ़ इन्फ्लेशन) से भी मेल नहीं खा रहे हैं, जो एसकेएम पहले ही बता चुका है।

सिरसा में सरदार बलदेव सिंह सिरसा का अनिश्चितकालीन अनशन आज चौथे दिन में प्रवेश कर गया। जैसा कि पहले घोषित किया गया था, प्रदर्शनकारियों ने आज सुबह दो घंटे के लिए तीन अलग-अलग बिंदुओं पर राजमार्ग को जाम किया। किसानों ने भावदीन और खुईयां मलकाना के टोल प्लाजा​ सहित गांव पंजुआना के नजदीक नेशनल हाईवे जाम लगा दियाI ​किसानों ने सुबह 9 बजे से लेकर 11 बजे तक जाम लगाया I एसकेएम की मांग है कि सरकार मामले वापस ले और गिरफ्तार साथियों को तुरंत रिहा करे।

उल्लेखनीय है कि राजस्थान के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया का कल अलवर में काले झंडे के विरोध के साथ स्वागत किया गया। एसकेएम ने भाजपा को चेतावनी देते हुए कहा कि किसानों के खिलाफ उसके कठोर रवैये के कारण किसानों में गुस्सा और आक्रोश फैल रहा है और यह अन्य जगहों तक फैलेगा।

1980 में कर्नाटक के गडग जिले के नरगुंड में पुलिस गोलीबारी में मारे गए किसानों के शहीद स्मारक को चिह्नित करने के लिए आज गाजीपुर मोर्चा में कर्नाटका राज्य रैयता संघा (केआरआरएस) के कर्नाटक किसान नेता शामिल हुए।

इस ऐतिहासिक आंदोलन की भावना को दर्शाते हुए हरियाणा के यमुनानगर से दिव्यांग किसान मलकीत सिंह कल सिंघू बॉर्डर पहुंचे। उनका कहना है कि वे किसान संघर्ष के लिए कोई भी सेवा करने के लिए तैयार हैं और इसके लिए अपनी जान तक देने को तैयार हैं।

जारीकर्ता –
बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा (कक्का जी), युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव

संयुक्त किसान मोर्चा
9417269294, samyuktkisanmorcha@gmail.com


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।