पुलिस की नोटिसों से डरेंगे नहीं, गाजीपुर मोर्चे को हटाने की कोशिश निंदनीय- संयुक्त किसान मोर्चा

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
आंदोलन Published On :


‘संयुक्त किसान मोर्चा’ ने उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा गाजीपुर में प्रदर्शनकारी किसानों के लिए बुनियादी सुविधाओं में कटौती और किसानों को जबरन हटाने के प्रयासों की निंदा की। राकेश टिकैत, तजिंदर विर्क और केके रागेश जैसे नेताओं ने शांतिपूर्वक इस पुलिस व्यवहार का विरोध किया। आरएसएस-भाजपा द्वारा प्रायोजित लोग गाजीपुर साइट पर आए पर किसान नेताओं ने इनके खिलाफ शांतिपूर्ण रहने के लिए जनता को समझाया। नेताओं ने किसानों के आंदोलन को बदनाम करने के लिए सरकार के प्रयासों के बारे में जनता को समझाया। मोर्चे ने पलवल में प्रदर्शनकारियों को बेदखल करने की भी कड़ी निंदा की जहां पुलिस ने स्थानीय लोगों को उकसाया और विभाजनकारी भावनाओं को भड़काया।

‘संयुक्त किसान मोर्चा’ ने कहा कि किसान आंदोलन को बदनाम करने के सरकार के प्रयास जारी है। सभी बोर्डर्स पर सरकार जिस तरह से सुरक्षा बढ़ा रही है उससे सरकार की घबराहट साफ जाहिर होती है। सरकार बार बार आंदोलन को हिसंक दिखाना चाहती है पर ‘संयुक्त किसान मोर्चा’ की एकमत राय, प्रयास और रास्ता है कि आंदोलन शांतिपूर्ण रहेगा।

‘संयुक्त किसान मोर्चा’ ने कहा कि दिल्ली पुलिस द्वारा भेजे जा रहे नोटिसों की हम निंदा करते हैं। हमें ये नोटिस नहीं डरा सकते। भाजपा सरकार 26 जनवरी की हिंसक कार्रवाई के नीचे इस आंदोलन को दबाना चाहती है जिसे हम कतई स्वीकार नहीं करते। पुलिस कई धरने खाली भी करवा रही है। पुलिस किसान नेताओं और प्रदर्शनकारियों को इस तरह से परेशान करना बंद करें।

इस बीच सिंघू बॉर्डर में गुरुवार को किसान यूनियन के नेताओं द्वारा सद्भावना यात्रा निकाली गई। इसके जरिये प्रदर्शनकारी किसानों को धर्म और राज्यों के अनुसार विभाजित कर रही ताकतों को जवाब दिया गया है। यह मार्च किसानों के बीच एकता की भावना को मजबूत करने के लिए था। यात्रा के दौरान सबके हाथों और गाड़ियों पर लहराता हुआ तिरंगा था। किसान नेताओं ने कहा कि देशभक्ति और राष्ट्रवाद केवल कुछ लोगों की जागीर नहीं है। भारत के जवान, जो किसान परिवार से हैं, भी देश की रक्षा करते हैं और किसान भी उतने ही देशभक्त हैं।

सिंधु बॉर्डर विरोध स्थल पर लगभग 16 किलोमीटर की दूरी तय करने वाली सद्भावना यात्रा में बलबीर सिंह राजेवाल, दलजीत सिंह दलेवाल, डॉ दर्शन पाल, जगमोहन सिंह पटियाला, राजिंदर सिंह दीप सिंह वाला, गुरनाम सिंह चढूनी, जंगबीर सिंह, सुरेश खोथ, अमरजीत सिंह और अन्य विभिन्न नेताओं के साथ सभी प्रदर्शनकारी किसानों ने संदेश दिया कि बढ़ती पुलिस और सुरक्षा बलों की मौजूदगी से हमे डरने की जरूरत नहीं है।

टीकरी बॉर्डर पर भी किसानो ने मार्च का आयोजिन कर एकता और देशभक्ति दिखाई। बूटा सिंह बुर्जगिल और जोगिंदर सिंह उग्राहां की अगुवाई में किसानो ने मार्च निकाले।

‘संयुक्त किसान मोर्चा’ ने कहा कि इस आंदोलन में अब तक 171 किसान शहीद हो चुके है, हम इन शहीद किसानों को हार्दिक श्रद्धाजंलि अर्पित करते है। बहुत दुख के साथ, हम एक आदिवासी महिला किसान, सीताबाई तडवी, की मौत की रिपोर्ट कर रहे हैं, जो दिल्ली मोर्चे पर विरोध करने के लिए महाराष्ट्र से आई थीं।  56 साल की सीताबाई लोक संघर्ष मोर्चा द्वारा किए गए कई संघर्षों में सबसे आगे रही हैं और उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। SKM दिवंगत आत्मा को गहरा सम्मान देता है। अनेक आंदोलनकारी बीमार और जख्मी भी हुए है। ये सब बताता है कि सरकार का घमंड इंसान की क़ीमत से कहीं ज्यादा बड़ा है।

‘संयुक्त किसान मोर्चा’ ने कहा कि देशभर के किसानों ने 26 जनवरी को बता दिया था कि ये आंदोलन एक तबके का नहीं बल्कि देशव्यापी जनांदोलन है। हम पूरे विश्वास से कहते है कि सिर्फ पंजाब-हरियाणा ही नहीं, सारा देश एक है। हम सभी से अपील करते है कि जो भी किसान दिल्ली पहुंच रहे है उनके लिए रास्ते में लंगर और सभी सुविधा जारी रखें।

मोर्चे ने कहा कि पुलिस असल अपराधियों पर कार्रवाई करने की बजाय शांतमयी प्रदर्शन कर रहे किसानों को गिरफ्तार कर रही है और उनके वाहन जब्त कर रही है। ‘सयुंक्त किसान मोर्चा’ मांग करता है कि सभी शांतमयी प्रदर्शन करने वाले किसानों को बिना किसी शर्त के तुरंत रिहा किया जाए। दीप सिधु जैसे असामाजिक तत्वों पर कार्रवाई की जाए।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।