‘सर फोड़ो’ अफ़सर नहीं हुआ बरख़ास्त, 7 सितंबर को करनाल का लघु सचिवालय घेरेंगे किसान


चूंकि खट्टर सरकार ने किसानों की मांगों को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है,और इसके बजाय एसडीएम की करतूत का समर्थन किया है, किसानों ने विरोध के लिए अपनी योजनाओं को आगे बढ़ाने का फैसला किया। इसी सिलसिले में कल करनाल में एक महापंचायत का आयोजन किया जाएगा। किसान अनाज मंडी में जुटेंगे और फिर लघु सचिवालय का घेराव करेंगे। एक शर्मनाक और कायरतापूर्ण कृत्य में, करनाल के जिला प्रशासन ने क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी है और इंटरनेट बंद कर दिया है, और प्रदर्शनकारियों पर आईपीसी की धारा 188 के तहत मामला दर्ज करने की धमकी दी है। एसकेएम ने कहा कि इन दमनकारी कदमों से उन किसानों का हौसला नहीं टूटेगा, जिन्होंने पिछले 10 महीनों से इस अत्याचार को झेला है।


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
आंदोलन Published On :


संयुक्त किसान मोर्चा प्रेस विज्ञप्ति

मुजफ्फरनगर में किसान-मजदूर महापंचायत की ऐतिहासिक सफलता के बाद देश और दुनिया भर ने किसान आंदोलन का लोहा माना गया — किसानों ने किसान-विरोधी मजदूर-विरोधी मोदी सरकार के खिलाफ संघर्ष जारी रखने का संकल्प लिया

हिंसा और किसानों के ‘सर फोड़ने’ का आदेश देने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए किसानों द्वारा जारी अल्टीमेटम की समय सीमा पूरी होने के बाद, किसानों द्वारा कल करनाल में महापंचायत आयोजित की जाएगी — जिला प्रशासन द्वारा विरोध को रोकने के लिए करनाल में धारा 144 लगाई गई — महापंचायत से पहले करनाल में इंटरनेट बंद

भाजपा और सहयोगी दलों के नेताओं के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन जारी

28 सितंबर को छत्तीसगढ़ में होगी किसान महापंचायत

 

संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले मुज़फ़्फ़रनगर में हुई ऐतिहासिक किसान महापंचायत की ज़ोरदार सफलता के बाद अब बीजेपी के ख़िलाफ़ देशव्यापी आंदोलन तेज़ करने का ऐलान किया गया है। मोर्चा ने कहा है कि इस आंदोलन की गूँज पूरे देश और दुनिया भर में सुनाई पड़ी। यहां तक ​​कि भाजपा नेताओं, सांसद वरुण गांधी और विधायक राम इकबाल सिंह ने भी किसान आंदोलन की ताकत को स्वीकारा। इस महापंचायत से अब किसानों ने किसान-विरोधी मजदूर-विरोधी मोदी सरकार को खुलकर चुनौती दी है। एसकेएम द्वारा शुरू किया गया मिशन उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड दोनों राज्यों में किसान आंदोलन को आगे बढ़ाएगा और आगामी चुनावों में भाजपा को हराएगा। किसानों ने आंदोलन की मशाल को पूरे देश में ले जाने और किसानों को उनका हक मिलने तक इस आंदोलन को जारी रखने का संकल्प लिया।

28 अगस्त को शांतिपूर्ण किसानों के खिलाफ प्रशासनिक हिंसा में एक किसान सुशील काजल शहीद और अनगिनत किसान घायल हुए।उस समय हरियाणा सरकार को एसडीएम और अन्य अधिकारियों, जो किसानों के ‘सर फोड़ने’ का आदेश देते हुए देखे गए थे जिनके खिलाफ कार्रवाई करने का अल्टीमेटम जारी किया गया था। किसानों ने मांग की थी कि अधिकारियों को बर्खास्त किया जाए और एसडीएम आयुष सिन्हा के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया जाए, साथ ही शहीद काजल के परिवार को 25 लाख रुपये और राज्य हिंसा में घायल हुए किसानों को 2-2 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए। अल्टीमेटम की समय सीमा आज यानी 6 सितंबर तक थी, जिसके बाद किसानों ने लघु सचिवालय का घेराव करने की चेतावनी दी थी।

चूंकि खट्टर सरकार ने किसानों की मांगों को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है,और इसके बजाय एसडीएम की करतूत का समर्थन किया है, किसानों ने विरोध के लिए अपनी योजनाओं को आगे बढ़ाने का फैसला किया। इसी सिलसिले में कल करनाल में एक महापंचायत का आयोजन किया जाएगा। किसान अनाज मंडी में जुटेंगे और फिर लघु सचिवालय का घेराव करेंगे। एक शर्मनाक और कायरतापूर्ण कृत्य में, करनाल के जिला प्रशासन ने क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी है और इंटरनेट बंद कर दिया है, और प्रदर्शनकारियों पर आईपीसी की धारा 188 के तहत मामला दर्ज करने की धमकी दी है। एसकेएम ने कहा कि इन दमनकारी कदमों से उन किसानों का हौसला नहीं टूटेगा, जिन्होंने पिछले 10 महीनों से इस अत्याचार को झेला है।

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के सवाल कि, “पिछले दो वर्षों में कौन सी मंडी बंद हो गई” के जवाब में, एसकेएम ने मंत्री को याद दिलाया कि पिछले एक वर्ष में, कृषि कानून लाए जाने के बाद, देश भर की मंडियों ने अपने राजस्व में भारी गिरावट देखी है। मप्र में, कृषि विपणन बोर्ड को राजस्व का 66% नुकसान हुआ, और उसने मंडी क्षेत्र को किराए पर देना शुरू कर दिया है। यूपी के मंत्री श्रीराम चौहान ने यूपी विधानसभा को सूचित किया कि नए कानून पारित होने के बाद मंडियों को राजस्व का नुकसान हुआ है, और सरकार ने नई एपीएमसी मंडियों का निर्माण रोक दिया है।

इस बीच, केंद्रीय कृषि मंत्री अमेज़न इंडिया के किसान स्टोर के उदघाटन में व्यस्त हैं। फसल और बीमा के बाद सरकार ने अब खाद-बीज भी कॉर्पोरेट को सौंप दिया है। इफको जो यूरिया 45 किलो 266.50 रुपये में बेचता है, वह अमेज़न पर 199 रुपये किलो बिक रहा है। फ्लिपकार्ट पर 450 ग्राम यूरिया की कीमत 130 रुपये लिखी गई है। एसकेएम ने कहा कि कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा लॉन्च किए गए प्लेटफॉर्म पर उर्वरकों की खुली कालाबाजारी हो रही है ,जो आपराधिक कृत्य है।

भाजपा नेताओं के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन जारी है। पंजाब के संगरूर में किसानों ने भाजपा के जिलाध्यक्ष के आवास पर विरोध प्रदर्शन किया, जहां भाजपा की बैठक हो रही थी। पंजाब के भठिंडा में किसानों ने एक होटल का घेराव किया जहां भाजपा की जिला इकाई की बैठक हो रही थी। हरियाणा में झरौदी गांव के पास एक फार्महाउस पर जजपा नेताओं की बैठक के विरोध में किसानों ने काले झंडे दिखाकर विरोध प्रदर्शन किया। एसकेएम ने भाजपा और सहयोगी दलों के सभी आयोजनों का विरोध करने के लिए अपना फैसले को पुनः दोहराया है।

एसकेएम पंजाब के भाजपा नेता हरजीत सिंह ग्रेवाल के कार्यों की निंदा करता है जिन्होंने एक टीवी रिपोर्टर के साथ दुर्व्यवहार किया। श्री ग्रेवाल मीडिया में किसानों के खिलाफ लगातार अपशब्द बोलते रहे हैं। इस तरह की हरकतें भाजपा नेताओं की महिला-विरोधी और किसान-विरोधी चरित्र को उजागर करती हैं। इस बीच, राकेश टिकैत के भाषण की एक छोटी क्लिप सांप्रदायिक इरादे से प्रसारित की जा रही है। एसकेएम गोदी मीडिया और भाजपा आईटी सेल के इस कृत्य की निंदा करता है। पूरे भाषण में राकेश टिकैत को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि हम हिंदू-मुस्लिम एकता का आह्वान करेंगे। एसकेएम ने मीडिया से ईमानदारी से रिपोर्ट करने का आह्वान किया है।

मुजफ्फरनगर किसान-मजदूर महापंचायत की सफलता के बाद नए जोश और नई ऊर्जा के साथ किसान आंदोलन तेजी से आगे बढ़ेगा। आने वाले दिनों में इस तरह के और कार्यक्रमों की योजना बनाई जा रही है, जिसमें छत्तीसगढ़ में किसान मजदूर महासंघ द्वारा 28 सितंबर को राजिम में आयोजित किसान महापंचायत भी शामिल है। इस बीच, किसान संगठनों द्वारा किसानों के खिलाफ फर्जी मामलों को वापस लेने के लिए पंजाब सरकार को जारी की गई समय सीमा 8 सितंबर को समाप्त हो रही है, जिसके बाद किसान पंजाब सरकार के खिलाफ आंदोलन तेज करेंगे।

 

जारीकर्ता –
बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा (कक्का जी), युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव

संयुक्त किसान मोर्चा
ईमेल: samyuktkisanmorcha@gmail.com

284वां दिन, 6 सितंबर 2021


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।