करनाल लघु सचिवालय पर बेमियादी धरना जारी, एसकेएम का आरोप- ‘हत्यारे’ अधिकारी को बचा रहे हैं खट्टर!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
आंदोलन Published On :


संयुक्त किसान मोर्चा प्रेस विज्ञप्ति

आयुष सिन्हा के खिलाफ जांच का आदेश देने से भी इनकार कर खट्टर सरकार स्पष्ट रूप से प्रदर्शित कर रही है कि वास्तव में किसानों के सिर तोड़ने का आदेश किसने दिया था ? : संयुक्त किसान मोर्चा

 

सरकार द्वारा घोषित एमएसपी अपर्याप्त, मुद्रास्फीति लागत से कम — अधिकांश रबी फसलों के लिए एमएसपी पिछले वर्ष की तुलना में वास्तविक रूप से 4% कम हुआ — एमएसपी व्यापक लागत पर आधारित नहीं है, और कानूनी गारंटी के बिना व्यर्थ है: एसकेएम

 

भारत बंद की तैयारी जोरों पर — देश भर में कृषि आंदोलन तेज

 

करनाल के लघु सचिवाल को घेरे बैठे किसानों का गुस्सा बढ़ता ही जा रही है। प्रशासन से वार्ता विफल होने के बाद किसानों ने लघु सचिवालय घेर लिया और रात दिन वहीं डटे हुए हैं। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि सरकार ने किसानों का सिर फोड़ने का आदेश देने वाले एसडीएम आयुष सिन्हा को तबादलने के साथ प्रमोशन दे दिया है जबकि उस पर मुकदमा चलना चाहिए। मोर्चा ने तुरंत आयुष सिन्हा को निलंबित करने की माँग की है।

गुरुवार को सरकार ने “एमएसपी में अब तक की सबसे बड़ी वृद्धि”, “किसानों के लिए असाधारण उपकार”, आदि की बयानबाजी के साथ रबी फसलों के लिए एमएसपी की दिखावटी घोषणा की। हालांकि, तथ्य यह है कि सरकार ने वास्तविक रूप से रबी फसलों के एमएसपी को कम कर दिया है। जबकि खुदरा मुद्रास्फीति 6% है, गेहूं और चना के एमएसपी में सिर्फ 2% और 2.5% की वृद्धि की गई है। इसका मतलब है कि वास्तविक रूप से, गेहूं और चना के एमएसपी में क्रमशः 4% और 3.5% की कमी हुई है। आरएमएस 2022-23 के लिए गेहूं के लिए घोषित ₹ 2015 का नया एमएसपी मुद्रास्फीति के लिए समायोजित होने पर ₹ 1901 के बराबर है, जो कि आरएमएस 2021-22 के लिए गेहूं के लिए घोषित ₹ 1975 से ₹ 74 कम है। इसी तरह चना का एमएसपी वास्तविक रूप में ₹5100 से घटाकर ₹4934 कर दिया गया है। एक ओर जहां किसान डीजल, पेट्रोल, कृषि आदानों और दैनिक आवश्यकताओं की बढ़ी हुई कीमतों का खामियाजा भुगत रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उनकी आय कम होने के कारण वे गरीब होते जा रहे हैं।

सरकार “व्यापक लागत” शब्द का भी धोखे से दुरुपयोग कर रही है जिसका उपयोग हमेशा उत्पादन की सी2 लागत को संदर्भित करने के लिए किया जाता रहा है। जैसा कि 2018 से किसान संगठनों द्वारा बताया गया है, सरकार कम लागत (ए2 + एफएल) का उपयोग करके किसानों और देश को धोखा दे रही है, और दावा कर रही है कि वह व्यापक लागत से 50% अधिक एमएसपी प्रदान कर रही है। उदाहरण के लिए, 2021-22 में, गेहूं के लिए व्यापक उत्पादन लागत (सी2) 1467 रुपये थी जो सरकार द्वारा उपयोग की जाने वाली 960 रुपये की कम लागत से 50% अधिक है। एक बार फिर, भारत के किसान पूरी ताकत के साथ सरकार के खेल को खारिज कर रहे हैं और वास्तविक लाभकारी कीमतों, न कि काल्पनिक लाभ, की मांग करते हैं।

एसकेएम यह स्पष्ट करता है कि एमएसपी के लिए कानूनी गारंटी के बिना, सरकार द्वारा घोषित एमएसपी अधिकांश किसानों के लिए कागज पर ही रहेगी। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि बड़ी संख्या में किसानों, विशेष रूप से उन राज्यों में जहां मंडी प्रणाली कमजोर है, को अपनी फसल एमएसपी से नीचे बेचनी पड़ती है। एमएसपी के लिए कानूनी गारंटी किसानों की लंबे समय से मांग रही है, और एसकेएम की प्रमुख मांगों में से एक है।

इस बीच करनाल में किसानों के आंदोलन के साथ एकजुटता प्रदर्शित करते हुए पूरे हरियाणा और भारत में किसान समर्थन में आ गए हैं। राकेश टिकैत के नेतृत्व में यूपी के किसानों ने अपना समर्थन दिया, और घोषणा की कि अगर सरकार ने किसानों की मांगों को स्वीकार करने से इनकार कर दिया तो वे करनाल में किसानों के साथ शामिल होंगे। झज्जर, बहादुरगढ़, शाहजहांपुर, कुरुक्षेत्र, महेंद्रगढ़ समेत कई जगहों पर सीएम खट्टर का पुतला दहन गया। किसान-मजदूर महापंचायत की सफलता के बाद भाजपा की सहयोगी, अपना दल किसान आंदोलन के समर्थन में आ गई है। मेघालय के राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने भी किसान आंदोलन को अपना समर्थन दिया है। आरएसएस से जुड़े, बीकेएस ने मौजूदा एमएसपी शासन के खिलाफ एक आंदोलन शुरू किया है, इसे एक भ्रम और धोखाधड़ी बताया है।

इस बीच पूरे देश में भारत बंद की तैयारियां जोरों पर हैं। किसान संगठनों द्वारा तैयारी बैठकें और सभाएं की जा रही हैं। 29 सितंबर को उत्तर प्रदेश के तिलहर में किसान महापंचायत का आयोजन किया जाएगा। 10 सितंबर को शाहजहांपुर बार्डर पर किसान संगठनों की बैठक होगी, जिसमें 33 जिलों के लोग शामिल होंगे। इस बीच गन्ना किसानों ने उत्तर प्रदेश सरकार के खिलाफ भी एक आंदोलन शुरू कर दिया है, जहां 2017 से गन्ने का एसएपी नहीं बढ़ाया गया है। उत्तराखंड में किसानों का आंदोलन पूरी ताकत के साथ जारी है, और अधिक टोल प्लाजा को हर रोज मुक्त किया जा रहा है। आने वाले दिनों में आंदोलन और तेज होगा। राजस्थान के जयपुर में 15 सितंबर को, और छत्तीसगढ़ में 28 सितंबर किसान संसद का आयोजन किया जाएगा।

जारीकर्ता –
बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा (कक्का जी), युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव

संयुक्त किसान मोर्चा
ईमेल: samyuktkisanmorcha@gmail.com

286वां दिन, 8 सितंबर 2021


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।