BJP के साथ-साथ दैनिक जागरण का भी बहिष्कार, चुनाव लड़ने की फ़र्ज़ी ख़बर छापी-SKM


बीकेयू टिकैत ने स्पष्ट किया है कि उसकी चुनाव लड़ने की कोई योजना नहीं है। बीकेयू टिकैत ने इस संबंध में उत्पन्न हुए भ्रम के लिए दैनिक जागरण (हिंदी दैनिक) की जानबूझकर गलत रिपोर्टिंग को जिम्मेदार ठहराया, और इस अखबार के बहिष्कार का आह्वान किया। सिसौली में नरेश टिकैत ने कहा कि आने वाले चुनाव में भाजपा को सबक सिखाना होगा।


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
आंदोलन Published On :


संयुक्त किसान मोर्चा की 9 सदस्यीय समन्वय समिति ने आज दिल्ली पुलिस के जॉइंट कमिश्नर से मुलाकात कर दिल्ली पुलिस को मानसून सत्र के दौरान संसद के समक्ष विरोध प्रदर्शन के संबंध में एसकेएम की योजनाओं की जानकारी दी। दिल्ली पुलिस को आश्वासन दिया गया कि किसान आंदोलन की संसद का घेराव करने या उसमें जबरन घुसने की कोई मंशा नहीं है।

इस बीच, संयुक्त किसान मोर्चा के द्वारा संसद विरोध प्रदर्शन की तैयारी जोरों पर है। संसद के प्रत्येक कार्य-दिवस पर विभिन्न राज्यों से 200 किसानों के एक दल द्वारा विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। इन विरोध प्रदर्शनों में शामिल होने वाले किसानों की सूची तैयार की जा रही है। इसके लिए एसकेएम ने एक कमेटी भी बनाई है। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, तमिलनाडु, बिहार, मध्य प्रदेश आदि राज्यों से किसान मोर्चा में पहुंच रहे हैं।

विभिन्न राज्यों में किसान आंदोलन से जुड़े प्रतिनिधिमंडल सांसदों से मिल रहे हैं और एसकेएम द्वारा जारी व्हिप सौंपा जा रहा है।

एसकेएम ने एक बार फिर स्पष्ट किया कि राजनीतिक नेताओं के सामाजिक बहिष्कार और उनके खिलाफ काले झंडे के विरोध के संबंध में, कि यह भाजपा और सहयोगी दलों के नेताओं पर लक्षित है, न कि अन्य दलों पर।

आंदोलन का हिस्सा रहे किसान संगठनों में से एक बीकेयू टिकैत ने स्पष्ट किया है कि उसकी चुनाव लड़ने की कोई योजना नहीं है। बीकेयू टिकैत ने इस संबंध में उत्पन्न हुए भ्रम के लिए दैनिक जागरण (हिंदी दैनिक) की जानबूझकर गलत रिपोर्टिंग को जिम्मेदार ठहराया, और इस अखबार के बहिष्कार का आह्वान किया। सिसौली में नरेश टिकैत ने कहा कि आने वाले चुनाव में भाजपा को सबक सिखाना होगा। उन्होंने कहा कि ऐसा नेता चुना जाना चाहिए कि अगर वह या उसका दल कोई फैसला किसानों के खिलाफ करे तो वह नागरिकों से आकर माफी मांगे और साथ ही अपने पदों से इस्तीफा दे। बीकेयू-टिकैत मतदाताओं से इस बात का ध्यान रखने की अपील करेगा।

संयुक्त किसान मोर्चा 15 जुलाई को सिरसा प्रशासन द्वारा लगाए गए प्रदर्शनकारी किसानों के खिलाफ राजद्रोह और अन्य आरोपों को वापस लेने की मांग करता है। एसकेएम गिरफ्तार नेताओं की तत्काल रिहाई की भी मांग करता है। रविवार (11 जुलाई) को विधानसभा के उपाध्यक्ष रणबीर गंगवा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के मामले में पुलिस द्वारा ये दमनकारी कदम उठाए गए, जहां प्रशासन प्रदर्शनकारियों पर हिंसा का आरोप लगा रहा है। हालांकि, प्रशासन अब तक ऐसा कोई विडियो या अन्य सबूत नहीं पेश कर पायी है जहाँ कि किसान कथित हिंसा में शामिल हों। कल प्रशासन के साथ 21 नेताओं के नेतृत्व में किसानों की वार्ता विफल होने के बाद, एसकेएम नेताओं ने प्रशासन को एक अल्टीमेटम जारी किया। आज दोपहर 12 बजे की समय सीमा दी गई थी, जिसके बाद बलदेव सिंह सिरसा द्वारा अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू की जानी थी, जब तक कि प्रशासन किसानों की मांगों को नहीं मानता। इस मीडिया नोट के जारी करने के समय तक आमरण अनशन शुरू हो चूका था। स्पष्ट है कि एक कमजोर हरियाणा सरकार हताशा में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर राजद्रोह जैसे आरोप लगाने के हथकंडे अपना रही है। यह विडंबना है कि जब सुप्रीम कोर्ट राजद्रोह के कानून के दुरूपयोग के खिलाफ बोल रहा है तब राज्य पुलिस इन पुराने और असंवैधानिक हथकंडों का इस्तेमाल कर रही है।

रोहतक में, भाजपा हरियाणा के नेता और पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर के खिलाफ विरोध प्रदर्शन एक सौहार्दपूर्ण समझौते के बाद समाप्त हो गया। पूर्व मंत्री की कार से अश्लील इशारे करने के विरोध में 5 दिनों तक चले धरने के बाद, आज मनीष ग्रोवर और प्रदर्शनकारी किसानों की मुलाकात के बाद धरना समाप्त हो गया। यह बैठक कुछ प्रतिष्ठित स्थानीय मध्यस्थों और प्रशासन की पहल पर आयोजित की गई थी। जिसने मेल-मिलाप का मार्ग प्रशस्त किया। पूर्व मंत्री ने 10 जुलाई को हुई इस घटना से आक्रोशित महिलाओं से बात की। विनोद भयाना (हांसी विधायक) के पास बैठे व्यक्ति को ठीक से नहीं पहचान पाने की उनकी बात सुनकर पूर्व मंत्री ने महिलाओं के पैर छुए और उनका आशीर्वाद लिया। पीड़ित महिलाओं ने विचार-विमर्श और परिणाम पर संतोष व्यक्त किया। इसके साथ ही उनके घर पर धरना समाप्त कर दिया गया है और 19 जुलाई को होने वाली महिला महापंचायत को रद्द कर दिया गया है। हरियाणा के कैथल में, मंत्री कमलेश थंडा और भाजपा सांसद नायब सैनी को कल काले झंडों के विरोध का सामना करना पड़ा, जहां बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी उन कार्यक्रमों के विरोध में एकत्र हुए, जिनमें भाजपा नेता हिस्सा ले रहे थे।

भाजपा के संजय टंडन और रविकांत शर्मा (चंडीगढ़ के मेयर) के विरोध में शांतिपूर्ण प्रदर्शन के लिए एकत्र हुए किसानों पर कल चंडीगढ़ पुलिस ने हिंसा का प्रयोग किया। इससे भी बदतर, उन्होंने एक बच्चे को भी पकड़ लिया और गिरफ्तार कर लिया! जब 8 साल के बच्चे की गिरफ्तारी की विडियो क्लिप वायरल हुई, तो पुलिस ने एक तुच्छ स्पष्टीकरण दिया जो किसी के मानाने योग्य नहीं है। यह दिखाने के लिए बहुत सारे सबूत हैं कि पुलिस ने वास्तव में लड़के को पकड़ा और गिरफ्तार किया। एसकेएम ने आज चंडीगढ़ पुलिस के द्वारा 3 प्रदर्शनकारियों की 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत की निंदा की।

किसानों के आंदोलन के प्रति एकजुटता और समर्थन व्यक्त करने के लिए कल पंजाब से वकीलों और कलाकारों का एक बड़ा दल टिकरी सीमा पर पहुँचा।

जारीकर्ता – बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह दल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहन, शिवकुमार शर्मा ‘कक्काजी’, युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव

संयुक्त किसान मोर्चा
9417269294, samyuktkisanmorcha@gmail.com

234वां दिन, 18 जुलाई 2021


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।