राहुल का वीडियो वार: ‘मोदी के गब्बर सिंह टैक्स (GST) ने किया सर्वनाश !’

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
राजनीति Published On :


कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अर्थव्यवस्था को लेकर एक बार फिर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने भारत की सिकुडती अर्थव्यवस्था को लेकर वीडियो सीरीज शुरू की है। इसी वीडियो सीरीज की तीसरी कड़ी के तहत राहुल गांधी ने सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में राहल गांधी ने ‘जीएसटी की बात’ के जरिए कई सवालों को उठाया है।

राहुल गांधी ने कहा कि “जीएसटी टैक्स की व्यवस्था नहीं है। जीएसटी हिंदुस्तान के गरीबों पर आक्रमण है। छोटे दुकानदार, स्मॉल एंड मीडियम बिजनेस वालों पर, किसान और मजदूरों पर आक्रमण है। हमें इस आक्रमण को पहचानना पड़ेगा और मिलकर एक-साथ इसके खिलाफ हम सब को खड़ा होना पड़ेगा।”

राहुल गांधी ने कहा कि जीडीपी में ऐतिहासिक गिरावट का एक और बड़ा कारण है- मोदी सरकार का गब्बर सिंह टैक्स (GST)। जीएसटी से बहुत कुछ बर्बाद हो गया। जैसे- लाखों छोटे व्यापार, करोड़ों नौकरियाँ और युवाओं का भविष्य और राज्यों की आर्थिक स्थिति। उन्होंने कहा कि GST मतलब आर्थिक सर्वनाश।

राहुल गांधी ने अपने वीडियो में कहा है कि “असंगठित अर्थव्यवस्था पर दूसरा बड़ा आक्रमण है जीएसटी। जीएसटी यूपीए का आईडिया था। एक टैक्स, कम से कम टैक्स, साधारण और सरल टैक्स। एनडीए का जीएसटी बिल्कुल अलग है। चार अलग-अलग टैक्स 28% तक टैक्स और बड़ा कॉन्प्लिकेटेड, समझने को बहुत मुश्किल टैक्स।

जो स्मॉल एंड मीडियम बिजनेसेस है वह इस टैक्स को भर ही नहीं सकते। पर जो बड़ी कंपनियां है वो इसको आसानी से भर सकती 5-10-15 अकाउंटेंट्स लगा सकते हैं।”

राहुल गांधी ने कहा कि “यह चार अलग-अलग रेट क्यों है? यह चार अलग-अलग रेट इसलिए है क्योंकि सरकार चाहती है कि जिसकी पहुंच हो, जीएसटी को आसानी से बदल पाए और जिसकी पहुंच ना हो वो जीएसटी के बारे में कुछ ना कर पाए।

राहुल ने कहा कि “पहुंच किसकी है हिंदुस्तान के सबसे बड़े 15-20 उद्योगपतियों की पहुंच है। तो जो भी टैक्स का कानून वह बदलना चाहते हैं इस जीएसटी रेजीम में बदल सकते हैं।”

उन्होंने कहा कि “एनडीए के जीएसटी का नतीजा क्या है? आज हिंदुस्तान की सरकार स्टेटस को जीएसटी का पैसा ही नहीं दे पा रही। प्रदेश एंप्लॉयस को, टीचर्स को पैसा नहीं दे पा रहे। तो जीएसटी बिल्कुल फेल है, मगर यह सिर्फ फेल नहीं है यह एक आक्रमण है गरीबों पर, स्मॉल एंड मीडियम बिजनेस पर।”

राहुल ने कहा कि “जीएसटी टैक्स की व्यवस्था नहीं है। जीएसटी हिंदुस्तान के गरीबों पर आक्रमण है। छोटे दुकानदार, स्मॉल एंड मीडियम बिजनेस वालों पर, किसान और मजदूरों पर आक्रमण है। हमें इस आक्रमण को पहचानना पड़ेगा और मिलकर एक-साथ इसके खिलाफ हम सब को खड़ा होना पड़ेगा।”

 

वीडियो सीरीज की दूसरी कड़ी में राहल गांधी ने बताया था कि नोटबंदी ने जीडीपी में गिरावट के अलावा देश की असंगठित अर्थव्यवस्था को कैसे तोड़ा है।

राहुल गांधी ने कहा था कि नोटबंदी हिंदुस्तान के गरीब, किसान, मजदूर और छोटे दुकानदार पर आक्रमण था। नोटबंदी हिंदुस्तान के असंगठित अर्थव्यवस्था पर आक्रमण था। और हमें इस आक्रमण को पहचानना पड़ेगा। और पूरे देश को मिलकर इसके खिलाफ लड़ना पड़ेगा।

राहुल गांधी ने कहा था कि “प्रधानमंत्री कैशलेस हिंदुस्तान चाहते हैं। अगर कैशलेस हिंदुस्तान होगा तो असंगठित अर्थव्यवस्था तो खत्म हो जाएगी। नुकसान किसको हुआ? किसानों को मजदूरों को, छोटे दुकानदारों को, छोटे व मझौले उद्योग वालों को। जो कैश का प्रयोग करते हैं। जो बिना कैश जी ही नहीं सकते।

राहुल गांधी के वीडियो सीरीज का पहला और दूसरा एपिसोड यहां पढ़ें और देखें
राहुल का वीडियो वार: नोटबंदी ग़रीबों पर आक्रमण थी, फ़ायदा अरबपतियों को मिला!
राहुल का वीडियो वार: अर्थव्यवस्था बरबाद कर ईश्वर को दोष दे रही है मोदी सरकार!

 


 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।