भयावह बेरोज़गारी पर चुप क्यों मोदी, 10 लाख ख़ाली पद भरे सरकार- राहुल गांधी

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
राजनीति Published On :


 

दोश में रोजगार संकट को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस आज देशव्यापी पैमाने पर #SpeakUpForJobs हैसटैग के साथ सोशल मीडिया पर अभियान चला रही है। इसी अभियान के तहत कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने युवाओं के रोजगार के सवाल पर सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर करते हुए मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

राहुल गांधी ने कहा कि “मोदी जी सिर्फ़ अपने चंद “मित्रों” की बात सुनते है और उनका विकास करते है। आज देश का युवा मोदी जी से अपने हक़ का रोज़गार और उज्ज्वल भविष्य माँग रहा है पर मोदी जी चुप हैं। युवाओं की समस्याओं को अनदेखा किया जा रहा है।

राहुल गांधी ने कहा कि “प्रधानमंत्री जी, आपने हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दिया। आपने युवाओं का भविष्य बिगाड़ दिया। लेकिन आज भी आप तीन काम कर सकते हैं। पहला– गरीब लोगों के बैंक अकाउंट में सीधा पैसा डालिये। दूसरा- स्मॉल एंड मीडियम बिजनेस की रक्षा कीजिये, उनको पैसा दीजिए। तीसरा- ये जो आप प्राइवेटाइजेशन करते हैं, अपने मित्रों को जो हमारी पब्लिक सैक्टर की कंपनियां आप पकड़ाते हैं, ये आप बंद कीजिए।

राहुल गांधी ने सोशल मीडिया में जारी अपने वीडियो में कहा कि “कोरोना आने से पहले मैंने कहा था कि तूफाने आने वाला है। मैंने फरवरी में कहा कि तैयारी कीजिये, लेकिन सरकार ने मेरा मजाक उड़ाया। जब तूफान आया मैंने फिर सुझाव दिया। युवाओं के भविष्य के लिए आपको तीन काम करने होंगे: पहला- हर गरीब व्यक्ति के बैंक अकाउंट में न्याय योजना जैसा डायरेक्ट पैसा डालिये। दूसरा- जो हमारे स्माल एंड मीडियम इंडस्ट्रीज हैं, वो हमारी रीढ़ की हड्डी हैं, वो युवाओं का भविष्य हैं, उनकी रक्षा कीजिये, उनकी मदद कीजिये। तीसरा- जो हमारी स्ट्रैटिजिक इंडस्ट्रीज हैं, उनको सँभालिए, उनको प्रोटैक्ट कीजिए। लेकिन कुछ नहीं किया। उल्टे नरेंद्र मोदी जी ने अपने 15-20 दोस्तों का लाखों करोड़ रुपये का कर्जा माफ किया और टैक्स में छूट दी।”

राहुल गांधी ने कहा कि “आज मैं प्रधानमंत्री से कहना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री जी, हिंदुस्तान का युवा आपकी ओर देख रहा है। आपने हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दिया। आपने इनका भविष्य बिगाड़ दिया। आज भी आप तीन काम कर सकते हैं। पहला– गरीब लोगों के बैंक अकाउंट में सीधा पैसा डालिये। दूसरा- रीढ़ की हड्डी को बचाइए, स्मॉल एंड मीडियम बिजनेस की रक्षा कीजिये, उनको पैसा दीजिए। तीसरा- ये जो प्राइवेटाइजेशन करते हैं, अपने मित्रों को जो हमारी पब्लिक सैक्टर की कंपनियां आप पकड़ाते हैं, ये आप बंद कीजिए।

राहुल ने कहा कि “आज भी आप ये काम कर सकते हैं, युवा आपकी ओर देख रहा है, आप देश के प्रधानमंत्री हो, आप चुप क्यों हो गए हो? बोलिये आप, बहुत दिनों से आपने कुछ बोला नहीं, न अर्थव्यवस्था के बारे में आप बोलते हैं, न चीन के बारे में आप बोलते हैं, कुछ बोलिये देश आपकी ओर देख रहा है।

10 लाख खाली पड़े पद भरे सरकार- राहुल गांधी

इसके पहले एक अन्य वीडियो शेयर करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि मोदी सरकार की नीतियों की वजह से करोड़ों लोगों की नौकरियां गईं और जीडीपी में ऐतिहासिक गिरावट आई है। इस सरकार ने भारत के युवाओं के भविष्य को कुचल दिया है।

राहुल गांधी द्वारा शेयर किए गए इस वीडियो में कहा गया है, कि “कोरोना महामारी में बिना सोचे समझें किए गए लॉकडाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ है। जीडीपी में 23.9 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई है। लाखों लोगों की नौकरियां जा चुकी हैं। छोटे मध्यम व्यापार तबाह हो चुके हैं।”

इस वीडियो में बेरोजगारों और गरीबों को 12 महीने तक प्रति माह 6000 रुपये नकद देने, केंद्र सरकार में खाली पड़े पदों को भरने की मांग की गई है। वीडियो में सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों का निजीकरण व नौकरियों में कटौती बंद करने व केंद्र सरकार के 10 लाख से अधिक खाली पड़े पदों को तत्काल भरने की मांग की गई है।

खराब आर्थिक नीतियों के चलते नौकरियों पर सबसे बड़ा खतरा- प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव व यूपी की प्रभारी प्रियंका गांधी ने कहा कि “बढ़ते निजीकरण, सरकारी खर्चे में कटौती और भाजपा सरकार की खराब आर्थिक नीतियों के चलते आज नौकरियों पर सबसे बड़ा खतरा है।

सरकार ने मौजूद नौकरियों में भी भर्तियों को रोक कर रखा है। हमको इस देश के भविष्य के लिए बोलना होगा। मैं बोल रही हूं, आप भी बोलिए।

प्रियंका गांधी ने 9 सितंबर को भी ट्वीट कर कहा था कि “देश के युवाओं को रोजगार चाहिए। उनकी रूकी हुई भर्तियों की ज्वाइनिंग, परीक्षाओं की डेट, नई नौकरियों की नोटिफिकेशन, सही भर्ती प्रक्रिया और ज्यादा से ज्यादा नौकरियां चाहिए। इसके बदले सरकार कोरे भाषण, लाठियां और उपेक्षा देती है। आखिर कब तक?”


 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।