निषाद समाज के अधिकार की लड़ाई हम लड़ेंगे, नदी अधिकार यात्रा करेगी कांग्रेस- प्रियंका गांधी

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
राजनीति Published On :


प्रयागराज के बसवार गांव में हुए पुलिसिया उत्पीड़न की घटना पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव व यूपी की प्रभारी प्रियंका गांधी ने कहा है कि नदी के असली दावेदार निषाद समुदाय के लोग हैं और निषाद समाज के अधिकार की लड़ाई वो लड़ेगीं। प्रियंका ने कहा कि जिन लोगों की नाव टूटी है उनको संयुक्त रूप से 10 लाख रुपये की मदद कांग्रेस पार्टी देगी। उन्होंने निषाद समाज के अधिकारों के लिए नदी अधिकार यात्रा का भी ऐलान किया है।

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा है नदी के असली दावेदार एवं रक्षक निषाद समुदाय के लोग हैं। बंसवार, प्रयागराज में उप्र पुलिस के उत्पीड़न के विरुद्ध और निषाद समाज के अधिकारों के लिए हम लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि जिन निषाद परिवारों की नाव तोड़ी गई है सबको संयुक्त रूप से 10 लाख रुपए की आर्थिक मदद पार्टी करेगी।

प्रियंका गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी निषाद समुदाय के अधिकारों के लिए नदी अधिकार यात्रा निकालेगी। उन्होंने कहा है कि नदी के संसाधनों पर प्राथमिक हक निषादों का है इस विचार के साथ बालू खनन के लिए निषादराज कॉपरेटिव सोसायटी के गठन की माँग करते हैं।

ट्वीट के अंत में प्रियंका गांधी ने कहा कि कि सरकार बालू माफिया और बड़ी-बड़ी कंपनियों द्वारा किए जा रहे अवैध खनन की जांच करे एवं श्वेत पत्र जारी कर बताए कि कहां पर किन-किन नदियों में खनन किया जा रहा है।

बता दें कि पिछले रविवार को प्रियंका गांधी बसवार दौरे पर पहुंचीं थी जहां उन्होंने निषाद समाज के लोगों का दुःख दर्द साझा किया था। बासवार गाव में 4 फ़रवरी को अवैध खनन का आरोप लगाते हुए प्रशासन ने तमाम मल्लाहों की नावें तोड़ दी थीं। लाठीचार्ज भी हुआ था जिसमें इस समुदाय की महिलाओं को भी चोट आयी थी। प्रियंका गाँधी ने टूटी नावें देखीं और ऐलान किया था कि कांग्रेस उनके संघर्ष में पूरी तरह भागीदार है। उन्होंने कहा था कि यूपी सरकार पूँजीपतियों और ठेकेदारों के हक़ में काम कर रही है और कांग्रेस की सरकार बनने पर निषाद समुदाय को खनन का पट्टा दिया जायेगा।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।