महागठबंधन ने किया 26 मार्च को ‘बिहार बंद’ का ऐलान, नीतीश पर बरसे तेजस्वी!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
राजनीति Published On :


बिहार विधानसभा में लोकतंत्र का चीरहरण, विधायकों की पिटाई, बेरोजगारी, महँगाई, किसान बिल के विरुद्ध कल, 26 मार्च को पूरे महागठबंधन ने बिहार बन्द का आह्वान किया है। बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर गठबंधन की ओर से बिहार बंद का एलान किया। उन्होंने कहा कि जिस तरह से बिहार विधानसभा में विपक्ष दलों के विधायकों को पीटा गया है, वो हम भूलने वाले नहीं है। गठबंधन के सभी दल मजबूती से इस मुद्दे को सड़क पर उठाएंगे। इसके साथ ही बेरोजगारी और किसानों के मुद्दों पर भी आवाज बुलंद की जाएगी।

तेजस्वी यादव ने कहा कि लोहिया जयंती और भगत सिंह के शहादत दिवस 23 मार्च पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी पुलिस से करोड़ों लोगों द्वारा निर्वाचित माननीय सदस्यों को जूतों से पिटवाने और विधानसभा के अंदर बंदूक़ की नोक पर काला पुलिसया क़ानून पास करा लोकतंत्र को शर्मसार करने का कलंकित कार्य किया। नीतीश कुमार सदन में निरंतर झूठ बोल रहे है। उन्हें ज्ञात होना चाहिए कि आज से 46-47 वर्ष पूर्व 1974 में अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठकर विपक्ष के समाजवादी सदस्यों ने सदन चलाया है। लेकिन पुलिस ने कभी सदन के अंदर विधायकों को नहीं पीटा। लेकिन संघी मुख्यमंत्री ने ऐसा किया।

तेजस्वी  ने कहा कि 1978 में तत्कालीन मुख्यमंत्री कर्पूरी जी की सशस्त्र बिल लेकर आए थे। विपक्षी सदस्यों ने आपत्ति की। उन्होंने लोकतांत्रिक मर्यादाओं का निर्वहन करते हुए स्वयं उठकर उस बिल को select committee के पास भेजा। इसी सदन में 1986 में नेता प्रतिपक्ष कर्पूरी जी सहित विपक्षी सदस्यों ने HEC के मामले को लेकर 3 दिन-रात इसी सदन में विरोध प्रदर्शन किया। 1986 में नीतीश कुमार भी इसी सदन के सदस्य थे। क्या नीतीश कुमार को याद नहीं है? कितना झूठ बोलते है? उस वक्त तीन दिन सदन में धरना, विरोध प्रदर्शन और नारेबाज़ी करने के बावजूद को विपक्ष के सदस्यों को पुलिस ने बलपूर्वक नहीं हटाया था।

अब तो नीतीश कुमार जूतों से माननीय सदस्यों को पिटवा रहे है। इन्हें शर्म आनी चाहिए। सदन में वेशम के अंदर पुलिस को खड़ा कर बंदूक़ की नोक और दंगा विरोधी दस्ते के लाठी-डंडों के दम पर पुलिस बिल पास करवा रहे है।

तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार बताए, क्या पहली बार विधानसभा अध्यक्ष कक्ष के बाहर नारेबाज़ी हुई है? क्या पहली बार आसन पर कोई चढ़ा है? क्या पहली बार किसी विधेयक का विरोध हुआ है? फिर किस बात का अहंकार नीतीश कुमार पाले हुए है?  तेजस्वी ने कहा कि हाँ! पहली बार सदन के इतिहास में बंदूक़ की नोक पर गोली चलाने वाला कोई काला क़ानून पास हुआ? हाँ! पहली बार सदन के अंदर माननीय विधायकों को पुलिस के हाथों चप्पल-जूतों से पिटवाया गया? हाँ! पहली बार महिला विधायकों की साड़ी खोली गयी? उनके ब्लाउज़ में हाथ डाला गया? उनकी चैन तोड़ी गयी? उनके बाल पकड़ घसीटा गया?

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री किस मुँह और चरित्र से विधानसभा अध्यक्ष की मर्यादा की बात करते है। इस पूरे सत्र में सत्ता पक्ष ने आसन और माननीय अध्यक्ष महोदय को अपमानित करने का काम किया। अध्यक्ष महोदय पर संरक्षण के आरोप लगाए गए। नीतीश कुमार के मंत्रियों ने भरे सदन में अध्यक्ष को व्याकुल ना होने की धमकी दी? पहली बार नीतीश कुमार के मंत्रियों ने अध्यक्ष को उंगली दिखाने का काम किया? किस मर्यादा और लोकतांत्रिक परंपरा की बात नीतीश कुमार कर रहे है? उन्हें माफ़ी माँगनी चाहिए।

नीतीश जी और उनके मंत्रियों ने इस कार्यकाल में सदन के अंदर लोकतांत्रिक विमर्श का स्तर गिराने का काम किया है। उन्होंने मुझे धमकी देने का काम किया। मेरे ख़िलाफ़ जाँच और कारवाई करने की धमकी दी। माले और कांग्रेस के विपक्षी सदस्यों को देख लेने की धमकी दी। विधानपरिषद के अंदर सड़क छाप भाषा का प्रयोग करते हुए उन्होंने संख्या बल का हवाला देकर सत्ता पक्ष के सदस्यों को मार पीट के लिए उकसाने का काम किया।

मुख्यमंत्री दोषी अधिकारियों पर कारवाई करने की बजाय उन्हें संरक्षण देकर क्लीन चिट दे रहे है। उनके इन्हीं क्लीन चिटों से अफ़सरशाही बढ़ी है। अधिकारी जान लें, नीतीश कुमार ने अपनी पारी खेल ली है, अब ये आपका career ख़राब करना चाहते है। इन अधिकारियों के बारे में क्या कहा जाए। वो तो इनसे भी बड़े पलटीबाज है। Exit पोल के बाद हमारे पास सबसे पहले और सबसे अधिक फ़ोन इनके ही वर्षों से वफ़ादार अधिकारियों के आए थे।

तेजस्वी यादव ने कहा कि हमारे पास 200 से अधिक इनके पुलिसकर्मी और प्रशासनिक अधिकारियों की फ़ुटेज है। हमने सभी को चिह्नित किया है। बर्खास्त और दागी स्वजातीय अधिकारियों के ज़रिए नीतीश कुमार जो गुंडागर्दी करवा रहे है। वो सब संज्ञान में है।

तेजस्वी ने कहा कि बिहार पुलिस जदयू पुलिस बन गयी है। नीतीश कुमार और जदयू पुलिस अच्छे से जान लें, हम राजद के लोग है। हम भाजपा के लोग नहीं जो पुलिस अत्याचार करेगी और हम सह लेंगे। जदयू पुलिस बेचारे भाजपा कार्यकर्ताओं और नेताओं को पीट सकती है लेकिन राजद के नहीं।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में तेजस्वी यादव के साथ भाकपा माले पॉलितब्यूरो सदस्य धीरेंद्र झा, वरिष्ठ माले नेता केडी यादव और माले विधायक सत्यदेव राम समेत महागठबंधन के कई नेता मौजूद थे।

महागठबंधन के बिहार बंद को ऐतिहासिक बना दें: माले

बिहार, बिहार की जनता व विधानसभा को शर्मसार कर लोकतंत्र की हत्या करने वाले नीतीश कुमार को बिहार की जनता से माफी मांगनी होगी। भाकपा-माले ने विधानसभा के अंदर विपक्ष के विधायकों पर बर्बर पुलिसिया दमन व उनके मनोबल को गिराने की भाजपा-जदयू की कोशिशों के खिलाफ 26 मार्च को महागठबंधन के द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित बिहार बंद को ऐतिहासिक बनाने की अपील राज्य की जनता से की है।

पार्टी के पोलित ब्यूरो के सदस्य धीरेन्द्र झा, वरिष्ठ माले नेता केडी यादव व विधायक सत्यदेव राम ने संयुक्त प्रेस बयान जारी करके कहा कि पहले से ही तीनों किसान विरोधी कानून, निजीकरण व 4 श्रम कोडों के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा का भारत बंद से ही घोषित है। हमारी पार्टी उसका समर्थन कर रही है। अब उसके साथ-साथ लोकतंत्र की धरती को लोकतंत्र की कब्रगाह बनाने की भाजपा-जदयू की कोशिशों के खिलाफ कल बिहार बंद होगा, जो तानाशाह नीतीश कुमार को एक करारा जवाब होगा। अपने लोहिया व जेपी का शिष्य बताने वाले नीतीश कुमार हिटलर की भाषा बोल रहे हैं, तो उनका भी वही हश्र होगा जो हिटलर का हुआ था।

माले नेताओं ने सभी न्यायप्रिय नागरिकों व बुद्धिजीवियों से लोकतंत्र को बचाने की इस लड़ाई में आगे आने का आह्वान किया है। कहा कि जिस प्रकार से आनन-फानन में तीन कृषि कानून बनाकर किसानों से जमीन छीन लेने की पटकथा लिखी गई, उसी प्रकार से जबरन यह पुलिस राज विधेयक पारित कराया गया है. आखिर नीतीश कुमार को इतनी हड़बड़ी क्यों थी? किसी भी विधेयक को लेकर यदि विपक्ष की आपत्ति होती है, तो उसपर व्यापक चर्चा कराने की ही परंपरा लोकतांत्रिक व्यवस्था की परंपरा रही है. लेकिन पुलिस बल के जोर पर कानून बनाना लोकतंत्र को एक भद्दे मजाक में तब्दील कर देना है. हम यह लड़ाई लड़ते रहेंगे. हम पटना के डीएम व एसपी पर भी कड़ी कार्रवाई की मांग करते हैं.

पटना में 12 बजे जीपीओ गोलबंर से बंद का मार्च निकलेगा. सभी जिला कमिटियां अभी से बंद को सफल बनाने में लग गई हैं।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।