बिहार में हारती BJP पाकिस्तान की शरण में- सुरजेवाला


रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि बिहार की जनता द्वारा सिरे से खारिज किए जाने की खीज़ और बौखलाहट से छटपटाया भाजपा नेतृत्व हार नहीं पचा पा रहा। भ्रमजाल फैलाने के लिए भाजपा ने तीन ‘ठगबंधन’ किए- भाजपा- जदयु, भाजपा  लोजपा तथा भाजपा- ओवैसी। इसके बावजूद भी चुनाव के पहले चरण में करारी हार माथे पर लिखी देख अब प्रधानमंत्री, भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष सहित सारे भाजपाई अपना ‘राजनीतिक संतुलन’ भी खो बैठे हैं तथा भाषा की मर्यादा भी।


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
राजनीति Published On :


भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने कहा है कि बिहार में हार की कगार पर खड़ी भाजपा पहुंची पाकिस्तान की शरण में पहुंच गई है। कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि बिहार की जनता द्वारा सिरे से खारिज किए जाने की खीज़ और बौखलाहट से छटपटाया भाजपा नेतृत्व हार नहीं पचा पा रहा। भ्रमजाल फैलाने के लिए भाजपा ने तीन ‘ठगबंधन’ किए- भाजपा- जदयु, भाजपा  लोजपा तथा भाजपा- ओवैसी। इसके बावजूद भी चुनाव के पहले चरण में करारी हार माथे पर लिखी देख अब प्रधानमंत्री, भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष सहित सारे भाजपाई अपना ‘राजनीतिक संतुलन’ भी खो बैठे हैं तथा भाषा की मर्यादा भी।

सुरजेवाला ने कहा कि हर बार जब भाजपा को हार नज़र आती है, तो वो पाकिस्तान की शरण में चली जाती है। उन्होंने कहा कि..

भाजपा और मोदी जी के पास नितीश सरकार के भ्रष्टाचार का जवाब नहीं,

भाजपा और मोदी जी के पास बिहार में भयंकर बेरोजगारी का जवाब नहीं,

भाजपा और मोदी जी के पास बिहार के किसान को फसल के दाम न देने का जवाब नहीं,

भाजपा और मोदी जी के पास बिहार में स्वास्थ्य सेवाओं को आईसीयू में पहुंचाने का जवाब नहीं,

भाजपा और मोदी जी के पास बिहार को अशिक्षा के अंधेरे में धकेलने का जवाब नहीं,

भाजपा और मोदी जी के पास बिहार में उद्योग और धंधे ठप्प कर देने का जवाब नहीं,

भाजपा और मोदी जी के पास बिहार को बदहाली की कगार पर ला खड़ा करने का जवाब नहीं,

भाजपा और मोदी जी के पास मुंगेर के नरसंहार का जवाब नहीं,

इसीलिए…

इन सारे सवालों का जवाब भाजपा और मोदी जी पाकिस्तान की शरण में ढूंढते हैं।

सुरजेवाला ने कहा- भाजपा की पाकिस्तान परस्ती जग जाहिर है:-

  1. 73 सालों में नरेन्द्र मोदी अकेले ऐसे प्रधानमंत्री हैं, जो ऊधमपुर व गुरदासपुर उग्रवादी हमले के बावजूद ‘बिन बुलाए मेहमान’ के तौर पर 25 दिसम्बर, 2015 को पाकिस्तान ‘केक काटने और दावत उड़ाने’ गए तथा अपने पद का अपमान करवाया।
  2. 73 वर्षों में नरेन्द्र मोदी अकेले ऐसे प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने वायुसेना के पठानकोट एयरबेस पर हुए उग्रवादी हमले की जांच के लिए उग्रवाद के पोषण के लिए बदनाम पाकिस्तान की ‘आईएसआई’ को भारत बुलाया और आईएसआई ने वापस जा भारत पर ही इल्ज़ाम लगाया।
  3. भारतीय जनता पार्टी ही वो पार्टी है, जो हजारों हिंदुस्तानियों के कातिल तथा पुलवामा हमले के मुख्य आरोपी, आतंकवादी मौलाना मसूद अज़हर को हमारी जेल से रिहा कर अफगानिस्तान-पाकिस्तान छोड़ कर आई थी।
  4. नरेन्द्र मोदी ही वो प्रधानमंत्री हैं, जिनकी नाक के नीचे कुख्यात आतंकवादी दाऊद इब्राहिम की पत्नी, साल 2016 में हवाई जहाज से मुम्बई आई और वापस चली गई पर मोदी सरकार ने गिरफ्तारी तो दूर, एक शब्द नहीं कहा।
  5. भाजपा के मध्य प्रदेश के आईटी सेल का पदाधिकारी ध्रुव सक्सेना पाकिस्तान की आईएसआई के लिए भारतीय सेना की जासूसी करते पकड़ा गया।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान परस्त भाजपा को असली सवालों का जवाब बिहार और देश को देना चाहिए:-

  1. 30 अक्टूबर 2015 को बिहार में प्रधानमंत्री, नरेन्द्र मोदी ने जनसभा में नितीश सरकार के 33 घोटाले गिनवाए। पांच साल में नितीश सरकार के उन भ्रष्टाचारी घोटोलों की जांच क्यों नहीं करवाई?
  2. भाजपा व नरेन्द्र मोदी बिहार को ‘विशेष राज्य’ का दर्जा क्यों नहीं दे रहे?
  3. भाजपा व नरेंद्र मोदी ने 1,25,000 करोड़ बिहार के विशेष पैकेज में से पांच वर्षों में केवल 1,559 करोड़ के कार्य ही क्यों पूरे किए? बाकि पैसे किसकी जेब में गए?
  4. भाजपा व नरेन्द्र मोदी बिहार में 25 हजार करोड़ की ‘नल-जल योजना’ के घोटाले बारे कुछ क्यों नहीं बोलते? क्या यह सही नहीं कि पिछले 24 घंटे में ‘नल-जल योजना’ के ठेकेदारों पर हुई इंकम टैक्स रेड में सैंकड़ों करोड़ का घालमेल उजागर हुआ है?
  5. भाजपा व नरेन्द्र मोदी मुंगेर की बेहिसाब हिंसा और नरसंहार पर कन्नी क्यों काट रहे हैं? क्या मोदी जी बताएंगे कि 17 साल के मृतक अनुराग कुमार का क्या कसूर था और दुर्गा माँ के भक्तों पर गोलियाँ क्यों चलाई गई?
  6. भाजपा और नरेन्द्र मोदी बिहार के रोजगार, किसानी, शिक्षा, स्वास्थय, उद्योग सहित बिहार की बदहाली पर कब जवाब देंगे?

बिहार 15 साल का हिसाब मांगता है,

बिहार 15 साल का जवाब मांगता है।


विज्ञप्ति पर आधारित


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।