स्टीफन हॉकिंग की प्रेमिकाएँ!


हॉकिंग की मौत के बाद एलेन ने लेनार्ड म्लोदिनोव को बताया – “वह किसी अभिनेता की तरह थे. उन्हें हर बार बातचीत का केंद्रबिंदु बनना होता था. उन्हें ब्रह्माण्ड का केंद्रबिंदु होना होता था. उन्हें यह सब अच्छा लगता था. इससे उन्हें ऊर्जा मिलती थी. उन्हें लोगों से मोहब्बत थी. उनका जीवन बहुत- बहुत मुश्किल था लेकिन वे अकल्पनीय रूप से बहादुर इंसान थे. उन्होंने कभी कोई शिकायत नहीं की लेकिन उन्हें हर बार केंद्रबिंदु होना होता था. हाँ, मुझे इस बात से चिढ़ होती थी. हमेशा नहीं लेकिन जब मैं थकी हुई होती थी या जब कोई नर्स उनके साथ फ्लर्ट कर रही होती थी.


अशोक पाण्डे अशोक पाण्डे
संस्मरण Published On :


सदा व्हीलचेयर में बैठे रहने वाले और चलने-बोलने से लाचार जीनियस स्टीफन हॉकिंग की प्रेमकथाएँ अकल्पनीय रूप से जीवंत और तूफानी रहीं.

आइन्स्टीन के बाद आधुनिक समय के सबसे बड़े वैज्ञानिक के रूप में दुनिया भर में प्रतिष्ठित हो चुके हॉकिंग ने 1965 में अपनी प्रेमिका जेन बेरिल वाइल्ड से शादी की थी. स्टीफन तेईस के थे और जेन इक्कीस की. दोनों की मुलाक़ात तीन साल पहले यानी 1962 में एक कॉलेज पार्टी में हुई थी. 1963 में स्टीफन के शरीर में मोटर न्यूरोन नाम की घातक बीमारी के शुरुआती लक्षण दिखाई देने लगे थे. डाक्टरों ने चेता दिया था कि या तो स्टीफन की बहुत जल्दी मौत हो जाएगी या उन्हें भयानक शारीरिक अक्षमता के साथ अपना जीवन बिताना होगा. दोनों ने तब भी विवाह सूत्र में बंधने का फैसला किया. जेन साहित्य की छात्रा थी जिन्होंने बाद में मध्यकालीन स्पेनिश कविता पर पीएचडी पूरी की और स्टीफन के तीन बच्चों की माँ बनीं.

समय के साथ स्टीफन का स्वास्थ्य खराब होता चला गया. पति-पत्नी का सेक्स जीवन बहुत जटिल हो गया. ‘स्टीफन हॉकिंग: अ मेमोयर ऑफ़ फ्रेंडशिप एंड फिजिक्स’ में लेखक और स्टीफन के पक्के दोस्त लेनार्ड म्लोदिनोव को दी गए एक इंटरव्यू में जेन ने कहा था – “मुझे डर लगता था सेक्स करने से कहीं स्टीफन की मौत न हो जाए. उसके साथ प्रेम करना एक डराने वाला और खोखल अनुभव होता था. उसके साथ सेक्स करने का विचार भी अप्राकृतिक लगने लगा और उसके लिए किसी तरह की शारीरिक इच्छा मेरे भीतर धुंधली पड़ती गयी. उसकी जरूरतें किसी नवजात बच्चे जैसी थीं जबकि उसकी देह प्रलय से किसी तरह बच निकले इंसान जैसी.”

जेन ने कोई तीन दशकों तक स्टीफन को खाना खिलाने, कपड़े पहनाने, नहलाने और अनगिनत बार अस्पताल ले जाने जैसे काम किये. इनमें कई बार स्टीफन को मौत के बिलकुल नजदीक से खींच कर लाने के अनुभव भी थे.

इस दौर ने जेन के भीतर की स्त्री को मार डाला और वह बार-बार अपनी स्वतंत्र पहचान को लेकर डिप्रेशन में आ जाया करती.

1985 में हुए स्टीफन के एक ऑपरेशन के बाद स्टीफन और अस्पताल की नर्स एलेन मेसन के बीच मोहब्बत पनप गई. तेजतर्रार एलेन को स्केटबोर्डिंग का शौक था और फ्लर्ट करने में मजा आता था. वह स्टीफन की जिजीविषा से आकर्षित हुई. एलेन शादीशुदा थी और उसका इन्जीनियर पति डेविड स्टीफन हॉकिंग का फैन था और उनके लिए स्पीच सिंथेसाइजर बनाने के प्रोजेक्ट में लगा हुआ था.

उन्हीं दिनों जेन का कैम्ब्रिज चर्च के संगीतकार जोनाथन हेलर जोन्स के साथ अफेयर शुरू हो चुका था.

स्टीफन को जब भी लेक्चर देने विदेश जाना होता, एलेन उनके साथ जाती. उसे स्टीफन की अंदरूनी ताकत से मोहब्बत हो गयी थी.
कुछ समय बाद जेन ने अपने पति स्टीफन को अपने प्रेम सम्बन्ध के बारे में बताया. स्टीफन ने भी उसे एलेन के बारे में सूचित किया. दोनों के बीच तय हुआ कि पूरे मामले को गुप्त और व्यक्तिगत रखा जाएगा और दोनों के बच्चों और प्रेमियों समेत सारे लोग एक इकाई के तौर पर इकठ्ठे रहेंगे. अन्तरिक्ष के किसी तारामंडल जितना जटिल यह परिवार 1990 तक एक ही छत के नीचे साथ रहा. 1995 में स्टीफन और जेन ने तलाक ले लिया. उसी साल एलेन और स्टीफन हॉकिंग ने शादी कर ली. जेन और जोनाथन हेलर की शादी 1997 में हुई.

अब नर्स होने के साथ एलेन पत्नी भी थी और उसे स्टीफन के लिए उसका पसंदीदा खाना पकाने में आनंद आता था. तमाम मशीनों से जुड़े रहने वाले स्टीफन की शारीरिक हालत ऐसी थी कि दोनों साथ नहीं सो सकते थे अलबत्ता एलेन रात में कई बार स्टीफन को देखने और छूने आया करती.

एलेन ने लेनार्ड म्लोदिनोव को बताया – “मैंने स्टीफन की मदद की पर उन्होंने भी मेरी बहुत सहायता की. मेरे माता-पिता की आपस में ज़रा भी नहीं बनती थी. मैंने जिस आदमी से विवाह किया मैं उससे कभी मोहब्बत न कर सकी. स्टीफन द्वारा प्यार किये जाने अहसास स्पेशल था. उन्होंने मुझे स्वीकार किया और मुझे उस चीज के लिए प्यार दिया जो मैं भीतर से थी.

इसके बावजूद यह सम्बन्ध भयंकर रूप से विवादित रहा. स्टीफन के बच्चों ने पुलिस केस कर दिया कि एलेन उनके पिता के साथ क्रूरतापूर्ण व्यवहार करती रही है. चार साल तक जांच चली लेकिन पुलिस एलेन पर कोई आरोप सिद्ध न कर सकी. परिवार के नजदीकी लोग तब भी मानते थे कि एलेन और स्टीफन का सम्बन्ध किसी तूफ़ान जैसा था. कभी दोनों एक दूसरे से अनंत मोहब्बत की कसमें खाते थे कभी एक दूसरे को जीवन भर न देखने की धमकियां देते थे.

एक रात लेनार्ड म्लोदिनोव को डिनर पर बुलाया गया था. खाने के बीच में एलेन चीख पड़ी – “मैं बीस साल से इस आदमी की गुलाम बनी हुई हूँ. अब मामला हद से गुजर चुका है.” बाद में एलेन ने अपने गुस्से के लिए माफी माँगी.

हॉकिंग की मौत के बाद एलेन ने लेनार्ड म्लोदिनोव को बताया – “वह किसी अभिनेता की तरह थे. उन्हें हर बार बातचीत का केंद्रबिंदु बनना होता था. उन्हें ब्रह्माण्ड का केंद्रबिंदु होना होता था. उन्हें यह सब अच्छा लगता था. इससे उन्हें ऊर्जा मिलती थी. उन्हें लोगों से मोहब्बत थी. उनका जीवन बहुत- बहुत मुश्किल था लेकिन वे अकल्पनीय रूप से बहादुर इंसान थे. उन्होंने कभी कोई शिकायत नहीं की लेकिन उन्हें हर बार केंद्रबिंदु होना होता था. हाँ, मुझे इस बात से चिढ़ होती थी. हमेशा नहीं लेकिन जब मैं थकी हुई होती थी या जब कोई नर्स उनके साथ फ्लर्ट कर रही होती थी. लेकिन वह सब अस्थाई होता था. मेरी चिढ़ जल्दी ही निबट जाया करती. बहुत गहरे वे मेरी इकलौती मोहब्बत थे.”

इसके बावजूद 2006 में एलेन और स्टीफन का तलाक हो गया. इस बार स्टीफन को एक और नर्स डायना किंग से मोहब्बत हो गयी. घनघोर डिप्रेशन की शिकार डायना स्टीफन से 39 साल छोटी थी.

इसके अलावा डायना बुद्धिमान थी और खूब-पढ़ी लिखी भी. स्टीफन को उससे बात करने में आनंद आता था. वह उन्हें नई-नई चीजें सिखाया-बताया करती थी.

दोनों ने सगाई कर ली लेकिन उसके बाद स्टीफन चिंतित हो गए. उन्हें लगने लगा था कि इस शादी से उनके बच्चों के साथ सम्बन्ध बहुत बिगड़ जाएगे. उन्होंने अपने कदम वापस खींच लिए. इस निर्णय ने डायना के व्यक्तिगत जीवन को तबाह कर डाला लेकिन उसने बार-बार कहा – “संसार में वैसा अभिव्यक्तिवान चेहरा किसी के पास नहीं था. उनके मुंह के हिलने की हरकतों भर मैं जान जाती थी वे क्या सोच रहे हैं.”
14 मार्च 2018 को स्टीफन हॉकिंग की मृत्यु हो गयी.

कोई आश्चर्य नहीं स्त्रियों को दुनिया का सबसे बड़ा रहस्य बताने वाले स्टीफन हॉकिंग की स्टडी में मर्लिन मुनरो का पोर्ट्रेट लगा रहता था.

 

लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।