त्रिभंग: विक्टिमहुड से इल्हाम की यात्रा!


दरअसल ये कहानी अस्थिर से स्थिर होने की कहानी है। अज्ञात से ज्ञात को प्राप्त करने की कहानी है। ये भी कह सकते हैं कि अपूर्ण से पूर्ण बनने की भी कहानी है।ये लक्ष्य ये फ़िल्म तीन अत्यंत अलग औरतों के द्वारा प्राप्त करती हैं। इन तीन औरतों में पहला क्रम आता है नयनतारा आप्टे का जिसको तन्वी आज़मी ने अभिनीत किया है, दूसरी हैं अनुराधा आप्टे जो कि नयनतारा आप्टे की बेटी है और इसे प्ले किया है काजोल ने, तीसरी हैं अनुराधा आप्टे की बेटी माशा जिसको प्ले किया है मिथिला पालकर ने।


संध्या Kn संध्या Kn
ओप-एड Published On :

तीन औरतें एक फ्रेम में।


हमारे अंदर का बच्चा बड़ा नहीं होता है। बचपन में खुद पर बीती गई बात को हम भूल नहीं पाते और वही कड़वी, अच्छी और विभिन्न संवेदनाओं से जुड़ी बातें हमारा निर्माण करती हैं, या… अगर यूँ कहें कि यही यादें या घटनाएं हम पर हावी रहती हैं। अगर बचपन की यादों में कड़वाहट, घिनौनापन या किसी अन्य भी प्रकार की नकारात्मक बातें हो तो… वो हमें victimhood की ओर ले जाती हैं… अगर सुनहरी, रंगीन और बेहद हसीन याद हो तो Nostalgic बना देती है। दोनों ही परिस्थितियों में जो हमें होना चाहिए वो नहीं होते हैं। लेकिन इसका एक दूसरा पहलू भी है… ये victimhood ही वो सीढ़ी है जिससे होकर हम पूर्णता की ओर गमन करते हैं। इन दोनों ही अवस्थाओं में हम एक अलग तरीके की बेचैनी से गुजरते हैं, एक बदहवासी में खुद को खोने लगते हैं लेकिन ये बदहवासी कोई मामूली चीज़ नही होती है। ये बदहवासी एक “इल्हामी दस्तक” (revelation, revelation, divine inspiration) होती है बशर्ते कि इसको पहचानने की हमारी ताकत हो। मैंने इसे “इल्हामी दस्तक” इसलिए कहा क्योंकि इस दोहे का ध्यान गया-

मोको कहां ढूँढे रे बन्दे, मैं तो तेरे पास में

ना तीरथ मे ना मूरत में, ना एकान्त निवास में

ना मंदिर में ना मस्जिद में, ना काबे कैलास में

मैं तो तेरे पास में बन्दे, मैं तो तेरे पास में

ना मैं जप में ना मैं तप में, ना मैं बरत उपास में

ना मैं किरिया करम में रहता, नहिं जोग सन्यास में

नहिं प्राण में नहिं पिंड में, ना ब्रह्याण्ड आकाश में

ना मैं प्रकुति प्रवार गुफा में, नहिं स्वांसों की स्वांस में

खोजि होए तुरत मिल जाऊँ, इक पल की तालास में

कहत कबीर सुनो भई साधो, मैं तो हूं विश्वास में

इसकी आखिरी पंक्ति सारे बेचैनी का पटाक्षेप कर देती है, यहाँ ईश्वर को विश्वास में बताया गया हैं। ईश्वर इंसान के भीतर है और भीतर की सच्चाई श्वास है। वो श्वास जो हम विश्वास के साथ लेते हैं, इसीलिए इसे विश्वास कहते हैं। यही श्वास ईश्वर है। जब हम  खुद को विक्टिम समझते हैं तब एक मानसिक हिंसा स्वयं पर करते हैं और दूसरा अपने आस-पास के समाज पर। लेकिन अगर किसी इंसान के पास संवेदनशीलता का धन है तो इल्हाम की  उत्पति  होती है। मुझे ऐसा लगता है  victimhood का ही दूसरा पहलू इल्हाम है, जिससे संबंधित व्यक्ति (संवेदनशील) को गुजरना ही होता है। ज्यों ही हम इल्हाम की ओर गमन करते हैं तभी हमारी श्वास में विश्वास का आगमन होता है तो उस victimhood का खात्मा होता है और हमें सामने वाले की तकलीफ का एहसास होता है। इसी विश्वास के संचार के साथ त्रिभंग अपनी यात्रा पूर्ण कर लेती है।

नोट: (इल्हाम एक अरबी शब्द है जिसका अर्थ देववाणी, ईश्वरीय वाणी, आत्मा की आवाज या अंतर्दृष्टि से लिया जाता है।)

त्रिभंग को मैं सिर्फ एक मूवी या चलचित्र या कुछ और नहीं मानती बल्कि मैं इसे एक धारा मानती हूं जो भी इसे देखे  उसके अंदर ये खुद बहने लगे।


कहानी की हल्की सी झलकी

दरअसल ये कहानी अस्थिर से स्थिर होने की कहानी है। अज्ञात से ज्ञात को प्राप्त करने की कहानी है। ये भी कह सकते हैं कि अपूर्ण से पूर्ण बनने की भी कहानी है।ये लक्ष्य ये फ़िल्म तीन अत्यंत अलग औरतों के द्वारा प्राप्त करती हैं। इन तीन औरतों में पहला क्रम आता है नयनतारा आप्टे का जिसको तन्वी आज़मी ने अभिनीत किया है, दूसरी हैं अनुराधा आप्टे जो कि नयनतारा आप्टे की बेटी है और इसे प्ले किया है काजोल ने, तीसरी हैं अनुराधा आप्टे की बेटी माशा जिसको प्ले किया है मिथिला पालकर ने।

नयनतारा आप्टे को प्रख्यात लेखिका के रूप में पेश किया गया है। अपने लिखने के पैशन की वजह से नयनतारा को जीवन मे अत्यंत उतार चढ़ाव से गुजरना पड़ता है। इस उतार में नयन का विवाह टूटना, विवाह के बाद कई ओपन रिलेशनशिप में होना और इन सारी परिस्थितियों के कारण विवाह से पैदा हुए बच्चों के नज़र में एक खलनायिका बन जाना।

जब फ़िल्म शुरू होती है तो नयनतारा अपनी आत्मकथा लिखवा रही होती हैं। आत्मकथा के दौरान अपने जीवन से जुड़ी प्रत्येक घटना का वर्णन विस्तार से करती हैं। घटना के साथ-साथ अपने बच्चों द्वारा उन्हें अपने जीवन से निकाल देने की पीड़ा का भाव आता है और इस पीड़ा को बयां करते समय कुछ संवाद पे हमारी सीख ठहर जाती है जैसे-

वो कहती हैं कि

कभी कभी मैं सोचती हूँ कि काश ये (अर्थात इनके बच्चे अनु और रॉबिन्द्रों) मेरे किरदार होते तो मैं इन्हें अपनी मनचाही दिशा में ले जाती।

फिर वो मुझसे प्यार करते, काश की मैं आपसी रिश्तों की कड़वाहट भुला सकती।

अपनी आत्मकथा में अपने बच्चों को भी अपने बारे में विचार रखने का मौका देते हुए कहती है जो कि अत्यंत महत्वपूर्ण है-

हमारी याददाश्त कितनी सेलेक्टिव होती है न… हमारी ऐब छिपाती है और हमारी अच्छाइयों को लार्जर दैन लाइफ बना देती हैं। इसलिए मैं अपनी आत्मकथा में अपने बच्चों को भी मौका देना चाहती हूँ मुझे जी भर के कोसने के लिए।

ये कहानी जरूर तीन पीढ़ी की है लेकिन सच ये है कि ये कहानी अपनी पूरी बात अनुराधा के माध्यम से कहती है। अनुराधा आप्टे जिसको प्ले काजोल कर रही हैं वो चरित्र ऐसा है कि इंट्री के साथ ही पूरी कहानी का नेतृत्व अपने हाथों में ले लेती हैं और मैं यहां ये विशेष तौर पर मेंशन करना चाहूंगी कि सिर्फ नेतृत्व नहीं लेती बल्कि loud और पूर्णतः योग्यतम उदघोष के साथ नेतृत्व ले चुकी होती है और जो दो बाकी चरित्र है वो इस कैरेक्टर को डिफाइन करने के लिए है। अगर नयनतारा आप्टे नहीं होती तो अनुराधा आप्टे जो कि अपनी माँ से नफरत करती है और बहुत ही outspoken है वो नही बन पाती और अगर…अगर… माशा अनुराधा की बेटी नहीं होती तो पुनः अनुराधा का चरित्र परिभाषित नहीं हो पाता, क्योंकि माशा ने अपने लिए एक अत्यंत  नॉर्मल लाइफ को चुना। इस नॉर्मल लाइफ को चुनने  का कारण उनकी  माँ का असमान्य लाइफ था जिसके कारण जब माशा स्कूल में थी तो उसे अपने शिक्षक और स्कूल के विद्यार्थियों  के सामने शर्मिंदा होना पड़ता था।

मैं  फिर से अनुराधा के चरित्र पर आती हूँ। अनुराधा अपने जीवन मे होने वाले हर बुरे चीज़ के लिए अपनी माँ नयन को जिम्मेवार मानती हैं जो कि एक हद तक सही भी है।

मैंने शुरुआत में ही इस बात को कहा है कि अपनी माँ से नफरत करने वाली इस चरित्र की बेचैनी, गुस्सा और बदहवासी ही वो इल्हामी दस्तक है, ज्ञान और एहसास की वो सीढ़ी है जिसपे चढ़कर कोई भी इंसान अपने जीवन को पूरे तरीके से और भरपूर जी सकता है। मैंने इसे इल्हामी इसलिए कहा क्योंकि इल्हाम वो ज्ञान है जो अत्यंत रूहानी और ईश्वर के करीब है… और हमारा ज्ञान और एहसास उस वक्त इल्हामी हो जाता है जब हम अपने तकलीफ से निकलकर दूसरे की तकलीफ को महसूस करना प्रारंभ कर देते हैं। अनु के लिए इस इल्हामी यात्रा को तय करने का जरिया बनता है ओडिसी नृत्य। और इस जरिया से उसका परिचय करवाने वाले भाष्कर रैना नामक एक बुद्धिजीवी कलाकार। इन भाष्कर रैना की वजह से दो नए लोगों का जन्म होता है एक अनुराधा आप्टे और दूसरा अनुराधा का भाई रौबीन्द्रों। रॉबिन्द्रों ने बिना कोई पाखण्ड या ताम-झाम के आध्यात्मिक दुनिया को अपना लिया। इस बात का ज़िक्र करते हुए फ़िल्म में अनुराधा कहती है..

रायना हमें Art exhibition, musical recital में ले जाते थे। एक दिन हम केलुचरण मोहपात्रा के ओडिसी नृत्य को देखने गए। इतना सुंदर नृत्य कर रहे थे कि our mind completely blown। रौबीन्द्रों को उसके कृष्ण भगवान मिल गए और मैं कृष्ण प्रेमी बन गई… राधा की तरह।

रौबीन्द्रो का जीवन के उतार-चढ़ाव के कारण आध्यात्मिक दुनिया को अपनाना और अनुराधा का ओडिसी के प्रति समर्पण कमोबेश उसी इल्हामी दस्तक का परिणाम था। रॉबिन्द्रो का किरदार वैभव तत्ववादी ने बखूबी निभाया है।

गौर करेंगे तो समझ मे आएगा कि जिस किरदार में गुस्सा, खीज हो उसमे एक अलग ही प्रकार की गतिशीलता होती और उसकी यही गतिशीलता जाने कौन-कौन सी नई और अलग दुनिया से परिचय करवा दे, अनुराधा के किरदार के साथ इस बात का एहसास होता है।

अनुराधा ने तीनों औरतों के चरित्र को बड़ी ही आसान और कलात्मक भाषा में समझा दिया है.. इस संवाद के माध्यम से..

मुझे लगता है कि नयन सोचती है लेकिन किसी के बारे में नहीं, अपने किरदारों को लेके वो सोचती है। She is so cerebral, how do I explain it कैसे समझाऊं… She is like अभंग… अज़ीब है पर जीनियस है तो अज़ीब होगी ही…. मेरी माशा समभंग, completely balance और मैं टेढ़ी, मेढ़ी, क्रेजी त्रिभंगम।

अभंग नृत्य की मुद्रा में शरीर का एक हिस्सा एक तरफ झुका होता है.. इस तस्वीर की तरह-

अभंग मुद्रा

 

समभंग मुद्रा में शरीर एकाकार रूप में संतुलित रहता है.. इस तस्वीर की तरह-

समभंग मुद्रा

त्रिभंग मुद्रा में शरीर के तीन अंगों को तीन दिशाओं में ले जाते हुए मुद्रा बनाया जाता है.. इस तस्वीर की तरह –

त्रिभंग मुद्रा

पता नही क्यों लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि तन्वी आज़मी की आँखें, त्रिभंग की नयनतारा और उसका किरदार कहीं- कहीं एक दूसरे से जुड़े हैं। वृद्ध नयनतारा की आँखें दर्शकों से सबसे ज्यादा बातें करती हैं। इसमे कोई शक नहीं है कि लगभग प्रत्येक व्यक्ति इस से सहमत होगा कि तन्वी आज़मी की आँखे अपने हर किरदार में बोलती हैं लेकिन इस किरदार के लिए इस बात को विशेष तौर पर रेखांकित करना एकदम से जरूरी हो जाता है।

मैं यहाँ कुणाल रॉय कपूर के बारे में बताना चाहूंगी जिन्होंने मिलन उपाध्याय का चरित्र निभाया है। इस किरदार को बिल्कुल अनुराधा के किरदार के सामने लाकर खड़ा कर दिया है। ये दोनों आमने-सामने थे इसलिए इन दोनों का किरदार पूरे मजबूती के साथ उभर कर दर्शकों के प्रत्यक्ष होता है।

शानदार प्रस्तुति, अद्भुत प्रवाह, सटीक कास्टिंग, सुंदर छायांकन के साथ यह फ़िल्म जबरदस्त है।

रेणुका शहाणे का लेखन और निर्देशन कमाल का है। सारी बारीकियों का ध्यान रखा गया है। रेणुका शहाणे को इस नीले रंग में लिपटी हुई कहानी के लिए सैल्यूट करती हूँ। निर्देशन और लेखन की दुनिया में उनका भव्य स्वागत है।

फिल्म की लेखक और निर्देशक, रेणुका शहाणे

यह फ़िल्म अगर आपने नहीं देखी है तो इसे देखें।

इस त्रिभंग के साथ आपकी यात्रा इल्हामी हो, इसकी उम्मीद है।


संध्या वत्स, फिलहाल स्वतंत्र रूप से लेखन करती हैं। अरविंदो सोसायटी समेत कई संस्थाओं से बतौर कंटेंट राइटर जुड़ी रही हैं।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।