To द Point – किसान आंदोलन पर योगेंद्र यादव से रैपिड फ़ायर, हर सवाल, जो आपके मन में है!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
साक्षात्‍कार Published On :


मीडिया विजिल के लिए, अवनि बंसल ने दिल्ली-जयपुर हाईवे पर अनशन पर बैठे योगेंद्र यादव से रैपिड फ़ायर अंदाज़ में वो सारे सवाल, बिना लाग-लपेट के पूछ लिए, जो आपके मन में हो सकते हैं। इन सवालों में किसानों के आंदोलन से योगेंद्र यादव तक पर लग रहे आरोप और एमएसपी तय करने के तरीके से लेकर, क़ानूनी मामलों तक पर वो सारे सवाल पूछे गये, जो आपके मन में आ सकते हैं…कुछ दिलचस्प और अहम सवालों को हम प्रकाशित कर रहे हैं, बाकी के लिए आप देख सकते हैं, ये इंटरव्यू –

अवनि बंसल – रैपिड फ़ायर में हम कुछ फटाफट सवाल करेंगे, कॉफ़ी विद योगेंद्र यादव मान सकते हैं…

योगेंद्र यादव – बस कॉफ़ी नहीं है…

अवनि बंसल – जी, हम अनशन पर इंटरव्यू करेंगे…

अवनि बंसल – किसान अमीर है, फिर वो क्यों प्रोटेस्ट कर रहा है?

योगेंद्र यादव – आप यहां आ क्यों नहीं जाते? इनकी अमीरी का हिस्सा आप भी बन जाते, आप भी इनकी तरह अमीर बन जाइए। किसान की तरह बाकी भी अमीर बन जाएं। एक बार इनके घर क्यों नहीं हो कर आते? भारतीय किसान की सर्वेक्षण के मुताबिक़, किसान की मासिक औसत आय, 7 हज़ार रुपए से कम है। 

अवनि बंसल – किसान तो बड़े मासूम हैं, इन्हें राजनैतिक दलों और लोगों ने बहला-फुसला दिया है..

योगेंद्र यादव – मतलब ए़़डल्ट हैं कि बच्चे हैं…5वीं कक्षा के बच्चे के लिए ये बात कही जा रही है…एक दिन ये कहा जा सकता है, 6 महीने से बहला-फुसला रखा है? ये सुनकर मुझे बड़ा अच्छा लग रहा है कि मैं करोड़ों लोगों को बहला-फुसला सकता हूं।

अवनि बंसल – किसान खालिस्तानी है..आतंकवादी है..

योगेंद्र यादव – देश के गृहमंत्री को बर्खास्त करना चाहिए। खालिस्तानी-आतंकवादी-पाकिस्तानी यहां घूम रहे हैं, देश का गृहमंत्री उन्हें अरेस्ट क्यों नहीं करता??

अवनि बंसल – योगेंद्र यादव, इतना मीठा कैसे बोल लेते हैं? सर पर लाठी पड़ रही हों तब भी…अर्णब गोस्वामी के शो में भी योगेंद्र यादव इतना धैर्य और मिठास कहां से लाते हैं?

योगेंद्र यादव – अभी हाल ही में मेरे पिता का देहांत हुआ है..अगर आप उनसे मिली होती, तो ये नहीं कह पाती…ये सब कुछ उनका ही दिया हुआ है।

 

(बाकी के सवालों के लिए देखें, ऊपर दिया गया इंटरव्यू…)


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।