यूपी: दो छात्रों ने घर में घुसकर गणित शिक्षक को उतारा मौत के घाट..!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


शिक्षक यानी गुरु जिसे समाज में मां-बाप से ऊंचा दर्जा दिया जाता है। एक शिष्य एकलव्य था जीवन गुरु दक्षिणा में अपने गुरु को अंगूठा दे दिया था। वहीं आज के शिष्य है जो गुरु दक्षिणा के नाम पर गुरु की हत्या ही कर देते है। एक ऐसा ही मामला सामने आया है उत्तर प्रदेश में स्थित उरई के मोहल्ला राजेंद्र नगर से जहां शुक्रवार को हनुमान चबूतरा के पास रहने वाले एक निजी गणित शिक्षक को देर रात घर में घुसकर उसी के दो छात्रों ने बेरहमी से मार डाला। जिन छात्रों ने गुरु की हत्या की वह कभी शिक्षक से कोचिंग लेते थे। मामला गुरु दक्षिणा यानी फीस से जुड़ा है। फिलहाल अभी हत्यारे फरार है। पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

सब्बल से किया ताबड़तोड़ वार..

शिक्षक का नाम नर्मदा था, उनको उमर 65 साल बताई जा रही है। नर्मदा राजेंद्र नगर में छात्र-छात्राओं के लिए मैथ की कोचिंग चलाते थे। उनसे कभी कोचिंग लेने वाले दो लड़के शुक्रवार को रात करीब 12 बजे आए और उन्हें आवाज़ लगाई, जिसके बाद दरवाज़ा खुलवा कर वह अंदर पहुंचे। जैसे ही वह घर के हॉल में पहुंचे दोनों छात्रों ने शिक्षक के सिर पर सब्बल से वार कर किए, शिक्षक खून में लथपथ हो गए और ज़मीन पर गिर पड़े, जिसके बाद दोनों हमलावर छात्र मेन गेट से फरार हो गए। घर में सो रही शिक्षक की पत्नी और बेटी हमले का शोर सुनकर जाग गई और बाहर आईं। जिसके बाद फर्श पर पड़े शिक्षक को देख आस-पड़ोस के लोगों की मदद ली और उन्हें अस्पताल ले गईं, लेकिन अफसोस शिक्षक बच न सके रास्ते में ही उनकी मौत हो गयी।

फीस को लेकर छात्रों से था विवाद..

घटना की खबर मिलते ही एसपी समेत भारी बल मौके पर पहुंचा और शिक्षिक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। बेटी और पत्नी ने बताया कि फीस को लेकर छात्रों से विवाद हुआ था। हालांकि यूपी अब आरोप मुक्त हो गया है यूपी में कानून का शासन है इसी लिए शायद अरिपियों की जगह अब छात्रों ने आरोप का ज़िम्मा उठा लिया गई। एक शिक्षक की घर ने घुस कर हत्या कर दी गई। लेकिन कहा जाता है कि यूपी में अपराध नहीं होते है। अखबारों वा भाषणों में उपलब्धियां तो गिनाई जाति है लेकिन राज्य की खामियां कौन गिनाएगा?

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।