यूपी पुलिस ने कांग्रेस के अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन को उठाया, कांग्रेस नेता थाने में जमे

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम को देर शाम लखनऊ में उनके घर से पुलिस ने संदिग्ध तरीके से उठा लिया। सीसीटीवी में पूरी घटना कैद हुई है। पुलिस ने अबतक गिरफ्तारी का कोई कारण नहीं बताया है। ना ही ये बता रही है कि शाहनवाज आलम को कहां ले गई है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा हजरतगंज कोतवाली पहुंचे हुए हैं।

वहीं खबर है कि हजरतगंज थाने के बाहर शाहनवाज आलम की रिहाई की मांग कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया है। जिसमें कांग्रेस कार्यकर्ता तारिक का हाथ टूट गया है जबकि कई घायल हुए हैं।

 

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि “रात के अंधेरे में सादे ड्रेस में पुलिस गिरफ्तारी करे। कुछ भी बताने से इंकार करें। कोतवाली आकर पूछने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज करे- ये यूपी की बहादुर पुलिस है। राजनीतिक आकाओं के दबाव में यह अपनी शपथ भूल चुकी है।

उन्होंने कहा कि “उप्र पुलिस ने हजरतगंज कोतवाली के बाहर अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम जी की रिहाई की मांग कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठी चार्ज करके मानवता की हदें लांघ दी है। लाठी चार्ज में कांग्रेस कार्यकर्ता का हाथ टूट गया है एवं कई घायल हुए हैं। यह तानाशाही है।“

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने ट्वीट कर कहा है कि “हम सब हजरतगंज कोतवाली में बैठे है, पुलिस अब भी साफ – साफ नहीं बता रही कि शाहनवाज जी को कहां लें गई है और ना ही यह स्पष्ट कर रही कि किस मामले में लाई है। जब तक प्रशासन स्पष्ट नहीं करती तब तक हम यहीं बैठेंगे।”

यूपी  कांग्रेस ने कहा है कि योगी सरकार कांग्रेस द्वारा मुख्य विपक्षी पार्टी के रूप में जनता के मुद्दे उठाए जाने से बुरी तरह परेशान है। कुछ दिनों पहले हमारे अध्यक्ष जी पर फर्जी मुकदमे लगाए गए थे और आज यूपी कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष शाहनवाज आलम को यूपी पुलिस संदिग्ध तरीके से उठाकर ले गई।


 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।