उद्धव का इस्तीफ़ा, फड़नवीस की मिठाई, भाजपा का जश्न – लोकतंत्र का???

मयंक सक्सेना मयंक सक्सेना
ख़बर Published On :


मुंबई में जिस समय उद्धव ठाकरे फेसबुक पर लाइव आए, उस समय शहर का बड़ा हिस्सा तेज़ हवाओं, मूसलधार बारिश और आने वाले तूफ़ान की आशंकाओं से घिरा था। समुद्र तट की सैकड़ों साल पुरानी बस्तियों के बाहर मछुआरे, किनारे बंधी अपनी नावों को ढंक कर, उनकी रस्सियां जांच रहे थे। शहर हर बारिश की तरह अफ़रातफ़री में था और लोग छाते संभालते काम से वापस घर लौटने की जल्दी में दौड़ते हुए लोकल स्टेशनों की ओर बढ़ रहे थे। सबकुछ किसी फिल्म के सीन की तरह घटना था, घट रहा था..

भारतीय राजनीति में पिछले 8 साल से जारी, चलती हुई सरकारों को गिराने का चाणक्यीय गिरावट का उपक्रम एक और नए सोपान पर अंततः पहुंचता दिख रहा है। महाराष्ट्र में शिवसेना में हुई विधायकों की बगावते के अंतिम पड़ाव पर सीएम उद्धव ठाकरे ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। उन्होंने साथ ही महाविकास अगाढ़ी के अपने स्थान और विधान परिषद की सदस्यता से भी इस्तीफ़ा दे दिया है।

फेसबुक लाइव पर इस्तीफ़े का एलान करते उद्धव

सुप्रीम कोर्ट में राज्यपाल द्वारा फ्लोर टेस्ट के आदेश को लेकर स्टे मांगने की याचिका पर जैसे ही सुप्रीम कोर्ट ने न कहा, उद्धव ठाकरे ने अपना इस्तीफ़ा दे दिया। उद्धव ने एक फेसबुक लाइव में अपने इस्तीफ़े का एलान किया। वर्तमान राजनैतिक परिदृश्य पर अपनी टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि मेरी पीठ में छुरा भोंका गया और बालासाहेब के बेटे को गिराने की कोशिश की गई। उन्होंने कहा कि जिनसे धोखे का डर दिखाया गया, वो उनके साथ रहे जबकि जिनको उनके सामने अपनी बात रखनी चाहिए थी, उन्होंने दगा दिया।

इसके बाद उद्धव ठाकरे ने एनसीपी के मुखिया शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के प्रति आभार प्रकट किया और शिवसेना नेता अनिल परब, उनका इस्तीफ़ा लेकर राजभवन रवाना हो गए।

उद्धव के इस्तीफ़े के बाद मिठाई खाते फड़नवीस – ANI

इधर भाजपा में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जश्न का माहौल देखा गया। जिस तरह से ताज होटल में बैठक के लिए पहुंचे देवेंद्र फड़नवीस और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल, उद्धव के इस्तीफ़े के बाद एक-दूसरे को मिठाई खिलाते देखे गए – उससे इस दावे की भी पोल खुल ही गई कि इस बग़ावत के पीछे भाजपा की कोई भूमिका नहीं है।

इसके साथ ही, फिलहाल गुरूवार को फ्लोर टेस्ट की संभावना क्षीण है क्योंकि सीएम इस्तीफ़ा दे चुके हैं। हां, शिवसेना के बागी विधायक, एकनाथ शिंदे के साथ गोवा पहुंच रहे हैं और इसी के साथ उनकी लंबी छुट्टियों का भी समापन हो जाएगा।

मुंबई से हमारे एक्सीक्यूटिव एडिटर मयंक सक्सेना


Related