Home ख़बर पूर्वांचल से शुरू होकर दादरी पहुंचा UP में हत्‍याओं का सिलसिला, आठ...

पूर्वांचल से शुरू होकर दादरी पहुंचा UP में हत्‍याओं का सिलसिला, आठ दिन में 28 मर्डर का दावा

SHARE

लोकसभा चुनाव-2019 का चुनाव परिणाम आने के बाद उत्तर प्रदेश में राजनीतिक हत्याओं का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. उत्तर प्रदेश के जौनपुर में समाजवादी पार्टी के नेता लालजी यादव और ग्रेटर नोएडा में रामटेक कटारिया की शुक्रवार, 31 मई को गोली मार कर हत्या कर दी गई.

यादव सेना के प्रदेश अध्‍यक्ष रणधीर यादव ने ट्वीट कर के कल जानकारी दी है कि आज़मगढ़ में भी एक ग्राम प्रधान धर्मेंद्र यादव की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई है. इस बारे में हालांकि मीडिया में कहीं कोई कवरेज नहीं है. यादव का दावा है कि यूपी और बिहार मिलाकर बीते आठ दिनों में 28 यादवों की हत्‍या हुई है.

जौनपुर और दादरी के हत्‍याकांड पर हालांकि समाजवादी पार्टी ने ट्वीट किया है.

शुक्रवार को जौनपुर के सराय ख्वाजा थाना क्षेत्र में सपा नेता लालजी यादव को कुछ बदमाशों ने गोली मार दी. जौनपुर के पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी के अनुसार,सुबह 9:30 बजे के आसपास लालजी यादव एक स्कूल के पास गांव में एक वकील से मिलने गए थे जहां मोटरसाइकिल सवार तीन-चार अज्ञात हमलावरों ने उन्हें गोली मार दी.पुलिस ने अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर इस घटना की जांच शुरू कर दी है.

घटना के बाद, समाजवादी पार्टी के कुछ नेताओं ने एसपी और डीएम से मुलाकात की और उन्हें मामले में त्वरित कार्रवाई का आश्वासन दिया गया. मौके पर पहुंचे पूर्व राज्य मंत्री शैलेन्द्र यादव ललई ने अमेठी में पूर्व प्रधान की मौत के बाद कंधा देने पहुंची कैबिनेट मंत्री स्मृति ईरानी से मांग करते हुए कहा कि वो जौनपुर में आकर मृतक लालजी यादव को कंधा दें या फिर इस देश में धर्म और जाति के आधार पर राजनीति ही चलती रहेगी. उन्होंने आरोप लगाया कि इस हत्याकांड के तार शासन से जुड़े हैं, जिसमें पुलिस व जिला प्रशासन मदद कर रहा है.

वहीं ग्रेटर नोएडा के थाना दादरी क्षेत्र के गढ़ी गांव में रहने वाले समाजवादी पार्टी के एक नेता रामटेक कटारिया पर उनके गाँव में मोटरसाइकिल व कार में सवार होकर आये अज्ञात बदमाशों ने अंधाधुंध गोलियां चलाई. गोली लगने से वह गंभीर रूप से घायल हो गए. उन्हें गाजियाबाद के यशोदा अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

विनीत जायसवाल, पुलिस अधीक्षक गौतम बुद्ध नगर (ग्रामीण) के अनुसार, हत्या के पीछे राजनीतिक मकसद के अब तक कोई सबूत नहीं मिले हैं. उनके अनुसार अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक इस हत्या के पीछे पारिवारिक कलह है.

दोनों हत्याकांड पर सपा नेता अमीक जामेई ने ट्वीट कर लिखा है- “आज दिन मे जौनपुर के बाद समाजवादी पार्टी के दूसरे बड़े नेता की दादरी मे हत्या!
दादरी में @samajwadiparty विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष राम टेक कटारिया को दिन दहाड़े गोली मारी गयी. जश्न में मस्त @CMOfficeUP क़ानून व्यवस्था पर भी ध्यान दीजिए.”

इस वर्ष 4 जनवरी को दादरी के वार्ड नंबर 19 के सभासद के भाई रमेश कार समेत लापता हो गए थे. बाद में रमेश का शव अलीगढ़ में रेलवे लाइन पर मिला था. पुलिस ने रमेश का अज्ञात में अंतिम संस्कार भी कर दिया था, लेकिन 14 जनवरी को परिजन ने रमेश के कपड़ों से शव की पहचान की थी. 21 जनवरी को रमेश के परिजन ने इस मामले में रामटेक कटारिया समेत पांच लोगों को नामजद करते हुए एक अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कराया था.

यादव सेना के अध्‍यक्ष रणधीर यादव की मानें तो भाजपा की चुनावी जीत के बाद बीते आठ दिनों में यादव समुदाय के कुल 28 लोगों की हत्‍या यूपी और बिहार में हो चुकी है. अपने ट्वीट में यादव ने यह सूची जारी करते हुए 2 जून को विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है:

इससे पहले गाजीपुर में एक अन्य सपा नेता विजय यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी और बिजनौर में बसपा नेता हाजी एहसान के भतीजे की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. दोनों ही मामले मीडिया में काफी चर्चित हुए थे.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.