BJP नेता को गिरफ्तार करने पहुंची बंगाल पुलिस को भाजपाइयों ने पीटा! बंगाल CM पर रखा था इनाम..

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


अलीगढ़ के भाजपा नेता योगेश वार्ष्णेय को गिरफ्तार करने के लिए शुक्रवार को बंगाल पुलिस की टीम उनके घर पहुंची। बंगाल पुलिस सिविल ड्रेस में दबिश देने पहुंची थी। इस दौरान बड़ी संख्या में एकत्र हुए स्थानीय लोगों और बीजेपी नेता के समर्थकों ने बंगाल की पुलिस टीम को पकड़ लिया और पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट की। इसके बाद वहां जमकर हंगामा हुआ। हालांकि, हंगामे की सूचना मिलने पर स्थानीय गांधी पार्क पुलिस ने पहुंच पुलिसकर्मियों को बचाया और सुरक्षित वहां से बाहर निकाल सभी को थाने ले आई। जिसके बाद भाजपाइयों ने थाने में भी जमकर हंगामा कर दिया।

इस लिए बंगाल पुलिस ने बीजेपी नेता के घर दबिश दी..

बता दें कि इस घटना के दौरान सांसद सतीश गौतम, विधायक संजीव राजा, विधायक अनिल पराशर समेत भाजपा के कई वरिष्ठ नेता भी मौके पर पहुंचे। दरअसल, 2017 में बीजेपी नेता ने पश्चिम बंगाल सीएम पर एक अभद्र टिप्पणी की थी, जिसका बंगाल में मुकदमा भी दर्ज हुआ था। इसी कारण भाजपा नेता को बंगाल पुलिस गिरफ्तार करने आई थी। वर्ष 2017 में अलीगढ़ में भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ता और भाजपा नेता योगेश वार्ष्णेय ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सिर पर 11 लाख रुपये का इनाम रखा था। वार्ष्णेय ने बंगाल सीएम के लिए आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए कहा था कि जो भी ममता बनर्जी का सिर काटकर लाएगा, वह इनाम का हकदार होगा। इसके बाद भाजपा नेता योगेश वार्ष्णेय के खिलाफ पश्चिम बंगाल में मुकदमा दर्ज किया गया था।

जांच के बाद आगे कार्यवाही..

भाजपा नेता के घर पहुंचे बंगाल के पुलिसवालों पर अब बीजेपी नेताओं ने घर में घुसकर छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। अलीगढ़ पुलिस पूरे मामले में जांच की बात कह रही है। पुलिस क्षेत्राधिकारी मोहसिन खान का कहना है कि दूसरे राज्य से पुलिस के कुछ लोग आए थे। हम पूरे मामले की जांच कर रहे हैं। जांच करके ही कुछ आगे कार्यवाही करेंगे।

एमएलसी मानवेंद्र प्रताप सिंह का आरोप..

वहीं,इस पूरे मामले में अलीगढ़ के एमएलसी मानवेंद्र प्रताप सिंह ने भाजपा नेता को गिरफ्तार करने आई पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा है कि पुलिस ने हमारे कार्यकर्ता योगेश के घर छापेमारी का काम बिना कोई सूचना दिए किया। उन्होंने कहा कि कुछ तथाकथित लोग पश्चिम बंगाल से आए थे जो सिविल में आए थे। हमने बंगाल पुलिस के खिलाफ तहरीर भी दी है। उन्होंने बिना जानकारी घर में घुसकर अभद्रता की है। महिलाओं के साथ छेड़खानी और शोषण का प्रयास किया गया है।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।