किसान आंदोलन को अंतर्राष्ट्रीय हस्तियों का समर्थन गर्व की बात- संयुक्त किसान मोर्चा

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


मोदी सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन का नेतृत्व कर रहे ‘संयुक्त किसान मोर्चा’ ने कहा है कि वो किसान आंदोलन के प्रति अंतर्राष्ट्रीय व्यक्तित्वों के समर्थन को स्वीकार करता है। मोर्चा ने कहा कि एक तरफ, यह गर्व की बात है कि दुनिया की प्रख्यात हस्तियां किसानों के प्रति संवेदनशीलता प्रकट कर रही हैं, वहीं दूसरी ओर, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि भारत सरकार किसानों के दर्द को समझ नहीं रही है और कुछ लोग शांतिपूर्ण किसानों को आतंकवादी भी कह रहे हैं।

‘संयुक्त किसान मोर्चा’ ने कहा कि वो देश भर के बिजली कर्मचारियों की एक दिन की हड़ताल को समर्थन करता है। हम बिजली क्षेत्र के निजीकरण का कड़ा विरोध करते हैं। ड्राफ्ट इलेक्ट्रिसिटी अमेंडमेंट बिल 2020 किसानों के साथ-साथ अन्य नागरिकों पर भी हमला है।

किसान आंदोलन दिन पर दिन मजबूत होता जा रहा है। उत्तर प्रदेश में किसान महापंचायतों में भारी समर्थन के बाद, किसानों ने मध्य प्रदेश के डबरा और फूलबाग, राजस्थान के मेहंदीपुर और हरियाणा के जींद में महापंचायतें आयोजित की हैं। आने वाले दिनों में बड़ी संख्या में किसान दिल्ली आएंगे।

राजस्थान और पंजाब के किसान लगातार शाहजहाँपुर सीमा पर पहुँच रहे हैं। सरकार व पुलिस के अत्याचारों के बाद, किसानों ने फिर से पलवल सीमा पर धरना शुरू कर दिया है। आने वाले दिनों में मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और राजस्थान से बड़ी संख्या में किसान इस स्थल पर पहुँचेंगे।

‘संयुक्त किसान मोर्चा’ के नेताओं ने कहा कि हम सिंघु धरनास्थल पर पत्रकारों के प्रवेश को रोकने के लिए पुलिस की कार्रवाई की निंदा करते हैं। सरकार ने इंटरनेट को पहले ही बंद कर दिया है और अब मीडिया के लोगों के विरोध स्थलों पर प्रवेश और कवरेज को भी सरकार रोक लगा रही है। सरकार इस आंदोलन की वास्तविकता को देश भर में आम लोगों तक पहुंचने से डर रही है और विरोध स्थलों से संचार को अवरुद्ध करने की पूरी कोशिश कर रही है। यह सब करके सरकार अपना किसान विरोधी प्रचार प्रसार करना चाहती है, जिसे किसान किसी भी कीमत पर नहीं होने देंगे।

किसान मोर्चा ने कहा कि जरूरत है कि इंटरनेट सेवाएं बहाल की जाएं, मुख्य और आंतरिक सड़कों की बैरिकेडिंग को हटाया जाए, आपूर्ति को स्वतंत्र रूप से अनुमति दी जाएं, निर्दोष प्रदर्शनकारियों को रिहा किया जाए, सुनियोजित भीड़ द्वारा शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर हमले सरकार द्वारा तुरंत रोके जाएं।


‘संयुक्त किसान मोर्चा’ की ओर से डॉ दर्शन पाल द्वारा जारी


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।