सोनिया गांधी का पीएम को ख़त, कोरोना संकट में पेट्रोल-डीज़ल महंगे होने पर किए सवाल

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने देश में कोविड 19 संक्रमण के बिगड़ते हालात और उसी के साथ पेट्रोल-डीज़ल के दामों में लगातार बढ़ोत्तरी को लेकर, पीएम नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिखी है। पिछले 4-5 दिन से कांग्रेस, लगातार ईधन तेल के बढ़ते दामों के ख़िलाफ़ अभियान चला रही है। कांग्रेस अध्यक्ष ने इस चिट्ठी में कुछ तथ्यों का उल्लेख करते हुए गंभीर सवाल उठाए हैं। पढ़िए ये चिट्ठी;

सोनिया गांधी की प्रधानमंत्री को चिट्ठी

16 जून, 2020

प्रिय प्रधानमंत्री जी, 

मैं आपकी कुशलता की कामना करती हूँ।

कोविड-19 के खिलाफ जंग में देश ने स्वास्थ्य, अर्थव्यवस्था व सामाजिक ताने बाने पर आई अभूतपूर्व चुनौतियों का सामना किया है। मुझे अत्यधिक खेद है कि इस भारी संकट के समय में भी मार्च महीने से आज तक सरकार ने दस अलग-अलग अवसरों पर पेट्रोल व डीज़ल की कीमतें बढ़ाने का पूर्णतः असंवेदनशील निर्णय लिया है।
केवल एक्साईज़ शुल्क तथा पेट्रोल व डीज़ल के मूल्यों की इस नासमझ व अविवेचित वृद्धि से केंद्र सरकार 2,60,000 करोड़ रु. का अतिरिक्त राजस्व एकत्रित कर रही है। पहले से ही लोगों को व्यापक स्तर पर भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है तथा उनमें डर व असुरक्षा की भावना व्याप्त है। मूल्यों में इस अप्रत्याशित वृद्धि से आम भारतीय पर अत्यधिक आर्थिक बोझ डाला गया है, जो न तो उचित है और न ही तर्कसंगत। सरकार का कर्तव्य व जिम्मेदारी है कि वह लोगों की पीड़ा कम करे, न कि उन पर और ज्यादा बोझ डाले।
यह समझ से परे है कि केंद्र सरकार ने मूल्यों में बढ़ोत्तरी करने का यह निर्णय उस समय क्यों लिया, जब कोविड-19 की आर्थिक मार ने लाखों लोगों की नौकरी व आजीविका छीन ली, बड़े व छोटे व्यवसायों को तबाह कर दिया, मध्यम वर्ग की आय में भारी गिरावट हुई तथा देश का किसान खरीफ की फसल बोने के लिए कड़ी चुनौतियों का सामना कर रहा है।
पिछले एक हफ्ते में कच्चे तेल की कीमतों में लगभग 9 प्रतिशत की कमी आई है (पिछले कई महीनों में तो कच्चे तेल की कीमत बहुत अधिक गिरी हैं), इसके बावजूद केंद्र सरकार देश के नागरिकों की जेब से पैसा निकाल ऐसे समय में मुनाफा कमा रही है, जब वो पहले ही मंदी से त्रस्त हैं।
कच्चे तेल के दामों में ऐतिहासिक कमी के बावजूद केंद्र सरकार ने पिछले छः सालों में बारह बार अलग अलग अवसरों पर पेट्रोल एवं डीज़ल पर एक्साईज़ शुल्क बढ़ाकर भारी भरकम कमाई की है (पेट्रोल पर एक्साईज़ शुल्क में 23.78 रु. प्रति लीटर एवं डीज़ल पर 28.37 रु. प्रति लीटर की अतिरिक्त बढ़ोत्तरी करके)। यानि पेट्रोल पर एक्साईज़ शुल्क में 258 प्रतिशत वृद्धि तथा डीज़ल के एक्साईज़ शुल्क में 820 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जिससे इन छः सालों में केंद्र सरकार ने पेट्रोल एवं डीज़ल पर एक्साईज़ शुल्क से लगभग 18,00,000 करोड़ रुपया कमाया है। इस पैसे का देश की जनता की सेवा में सदुपयोग करने का आज से बेहतर कोई समय नहीं हो सकता। 

मैं आपसे आग्रह करती हूँ कि पेट्रोल व डीज़ल के मूल्यों में की गई इस अप्रत्याशित बढ़ोत्तरी को वापस लें और कच्चे तेल के कम दामों का लाभ देश के नागरिकों को मिले। यदि आप चाहते हैं कि देश के नागरिक वाकई आत्मनिर्भर बनें, तो फिर उन्हें वित्तीय बंधनों में बांधकर आगे बढ़ने से रोकें नहीं। मैं एक बार फिर अपनी बात दोहराती हूँ कि: सरकार के संसाधनों का इस्तेमाल सीधे देशवासियों के हाथ में पैसा पहुंचाने के लिए करें, जिन्हें इस मुश्किल घड़ी में उसकी सबसे ज्यादा जरूरत है।

आदर सहित,
कृते
(सोनिया गांधी)

प्रेषित

श्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री
भारत सरकार
7, लोक कल्याण मार्ग
नई दिल्ली – 110 001

हालांकि इस चिट्ठी का न तो अभी तक कोई औपचारिक उत्तर पीएम या सरकार की ओर से आया है, न ही पिछले कुछ सालों में इस तरह की परंपरा हमने देखी है कि विपक्ष के नेताओं की चिट्ठी का पीएम की ओर से कोई औपचारिक जवाब आए। लेकिन उम्मीद है कि कुछ ही देर में भाजपा नेताओं या सरकार के मंत्रियों की ओर से, इस चिट्ठी पर कोई जवाबी हमला शुरु हो ही जाएगा। इस चिट्ठी की मूल प्रति नीचे दी गई है;

CP-PM letter-16June

मीडिया विजिल का स्पॉंसर कोई कॉरपोरेट-राजनैतिक दल नहीं, आप हैं। हमको आर्थिक मदद करने के लिए – इस ख़बर के सबसे नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

हमारी ख़बरें Telegram पर पाने के लिए हमारी ब्रॉडकास्ट सूची में, नीचे दिए गए लिंक के ज़रिए आप शामिल हो सकते हैं। ये एक आसान तरीका है, जिससे आप लगातार अपने मोबाइल पर हमारी ख़बरें पा सकते हैं।

इस लिंक पर क्लिक करें

मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।