हाथरस की निर्भया मरी नहीं, उसे एक निष्ठुर सरकार ने मारा है- सोनिया गाँधी

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


हाथरस के बेटी के साथ गैंगरेप के बाद हुई मौत ने पूरे देश को झकझोर दिया है। लोग गुस्से में हैं। इसके साथ ही बीती रात जिस तरह से यूपी पुलिस ने पीड़ित परिवार की इच्छा के खिलाफ उसका अंतिम संस्कार किया उसके बाद से लोगों का गुस्सा और बढ़ गया है। लोग जगह जगह सड़कों पर निकलकर अपने गुस्से इजहार कर रहे हैं। इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने वीडियो संदेश जारी कर बीजेपी सरकार पर तीखा हमला बोला है।

सोनिया गांधी ने कहा कि हाथरस की ‘निर्भया’ की मृत्यु नहीं हुई है, उसे मारा गया है- एक निष्ठुर सरकार द्वारा, उसके प्रशासन द्वारा, उत्तरप्रदेश सरकार की उपेक्षा द्वारा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि क्या इस देश में बेटी होना गुनाह है? कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि मासूम लड़की के साथ जो हैवानियत हुई है, वो हमारे समाज पर कलंक है।

सोनिया गांधी ने अपने वीडियो संदेश में कहा कि आज देश के करोड़ों लोग दुख और गुस्से में हैं। हाथरस की मासूम लड़की के साथ जो हैवानियत की गई वो हमारे समाज पर एक कलंक है। मैं पूछना चाहती हूं क्या लड़की होना गुनाह है? क्या गरीब की लड़की होना अपराध है? उत्तर प्रदेश सरकार क्या कर रही थी? हफ्तों तक पीड़ित परिवार की न्याय की पुकार को सुना नहीं गया। पूरे मामले को दबाने की कोशिश की गई। समय पर बच्ची को सही इलाज नहीं दिया गया। आज एक बेटी हमारे बीच से चली गई।

#Hathras मामले पर बोली सोनिया – 'सरकार ने इस मामले में घोर पाप किया है!'

#HathrasCase में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक वीडिया संदेश जारी किया है। इस में पीड़िता की मृत्यु के लिए यूपी सरकार और प्रशासन को ज़िम्मेदार ठहराते हुए, इस घटना को न केवल सोनिया गांधी ने समाज पर कलंक बताया है, ये भी कहा है कि पीड़िता के परिवार को अंतिम संस्कार से वंचित करना – सरकार का घोर पाप है…

Posted by MediaVigil on Wednesday, September 30, 2020

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि मैं कहना चाहती हूं हाथरस की निर्भया की मृत्यु नहीं हुई है उसे मारा गया है- एक निष्ठूर सरकार द्वारा, उसके प्रशासन द्वारा, उत्तर प्रदेश सरकार की उपेक्षा द्वारा। जब वो जिंदा थी उसकी सुनवाई नहीं हुई। उसकी रक्षा नहीं हुई। मृत्यु के बाद उसे अपने घर की मिट्टी और हल्दी भी नसीब नहीं होने दी। उसे उसके परिवार को सौंपा नहीं गया।

सोनिया गांधी ने कहा कि एक रोती बिलखती मां को अपनी बेटी को आखिरी बार विदा भी नहीं करने दिया गया। यह घोर पाप है। जोर जबरदस्ती करके लड़की की लाश जला दी गई। मरने के बाद भी इंसान की एक गरिमा होती है। हमारे हिंदु धर्म उसके बारे में भी कहता है। मगर उस बच्ची को अनाथों की तरह पुलिस की ताकत के जोर से जला दिया गया। ये कैसा न्याय है? ये कैसी सरकार है? आपको लगता है आप कुछ भी कर लेंगे और देश देखता रहेगा। बिल्कुल नहीं। देश  बोलेगा। आपके अन्याय के खिलाफ ।

सोनिया गांधी ने कहा कि मैं कांग्रेस पार्टी की तरफ से हाथरस के पीड़ित परिवार की न्याय की मांग के साथ खड़ी हूं। भारत सबका देश है।यहां सबको इज्जत की जिंदगी जीने का अधिकार है। संविधान ने हमें ये अधिकार दिया है। हम भाजपा को संविधान और देश को नहीं तोड़ने देंगे।

 


 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।