डॉ.आंबेडकर के संविधान पर BJP-RSS का क्रूर हमला- संयुक्त किसान मोर्चा


सयुंक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर देशभर के किसानों के धरनास्थलों पर 14 अप्रैल को अम्बेडकर जयंती के अवसर पर सविंधान बचाओ दिवस और किसान बहुजन एकता दिवस मनाया जाएगा। इस दिन देश भर के दलितों आदिवासियों व बहुजनो को दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे धरनों में शामिल होने का भी आह्वान किया जाता है। बहुजन समाज के अनेक नुमाइंदे 14 अप्रैल को सिंघु, टिकरी, गाज़ीपुर व अन्य बोर्डर्स पर पहुंचकर किसानों को समर्थन देंगे।


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन आज 137वें दिन भी जारी रहा।

सयुंक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर देशभर के किसानों के धरनास्थलों पर 14 अप्रैल को अम्बेडकर जयंती के अवसर पर सविंधान बचाओ दिवस और किसान बहुजन एकता दिवस मनाया जाएगा। इस दिन देश भर के दलितों आदिवासियों व बहुजनो को दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे धरनों में शामिल होने का भी आह्वान किया जाता है। बहुजन समाज के अनेक नुमाइंदे 14 अप्रैल को सिंघु, टिकरी, गाज़ीपुर व अन्य बोर्डर्स पर पहुंचकर किसानों को समर्थन देंगे।

डॉ भीमराव अम्बेडकर देश के शोषित, उत्पीड़ित लोगों की आजादी के सपनो के नायक थे। हम उन्हें संविधान निर्माता के रूप में जानते हैं, जिस संविधान में आजादी के दिये गये कई मौलिक अधिकारों पर आज आरएसएस-भाजपा की मोदी सरकार तीखे व क्रूर हमले कर रही है। आज, जब बेरोजगारी बेइंतहा तेजी से बढ़ रही है और खेती में घाटा व कर्जदारी बढ़ रही है, तब इसके चलते खेती से जुड़े लोगों पर सकंट बढ़ता जा रहा है।

खेती के लिए बनाए गये ये तीन कानून और बिजली बिल 2020 भी मोदी सरकार के गरीब विरोधी नीतियों में अगला कदम है। आज ये कानून दोनों जमीन वाले व बिना जमीन वाले किसानों के लिए खतरा बन गए हैं। खेती का यह नया प्रारूफ़ बटाईदार किसानों के लिए और भी घातक है क्योंकि खेती को लाभकारी बनाने के लिए कम्पनियां बड़े पैमाने पर इसमें मशीनों का प्रयोग कराएंगी और बटाईदारों का काम पूरा छिन जाएगा। बटाईदारों की बड़ी संख्या बहुजन समाज से आती है। देश के मेहतनकशों के लिए एक उत्साह की बात है कि जमीन वाले किसान और इनके संगठन, इन कानूनों को रद्द कराने के लिए लड़ रहे हैं।

इससे पहले कल खालसा पंथ के स्थापना दिवस के शुभ अवसर पर दिल्ली की सीमाओं पर बैठे किसान इस कार्यक्रम को पूरे पारंपरिक ढंग से मनाएंगे। किसानों मजदूरों व सामाजिक न्याय के लिए लंबे समय से संघर्षशील खालसा पंथ पर सिंघु बॉर्डर पर भी कार्यक्रम होंगे। टिकरी बॉर्डर पर भी “कैलिफोर्निया पिंड” में वैशाखी के सांस्कृतिक, खेल व अन्य पारंपरिक कार्यक्रम होंगे।

– डॉ दर्शन पाल
संयुक्त किसान मोर्चा


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।