कृषि क़ानूनों के विरोध में ट्रैक्टर चलाकर संसद पहुँचे राहुल गाँधी!


कांग्रेस शुरू से किसानों के आंदोलन का साथ दे रही है। किसानों के समर्थन में पंजाब के नेता लगातार जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे। राहुल गाँधी और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब में किसानों के समर्थन में रैली कर चुके हैं। राहुल गाँधी का आज का तेवर बता रहा है कि मोदी सरकार के ख़िलाफ़ किसानों के आंदोलन को वह बड़ा चुनावी मुद्दा बनाने की तैयारी में है।


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गाँधी आज दिल्ली की सड़कों पर ट्रैक्टर चलाते नज़र आये। दरअसल वे ट्रैक्टर से संसद जा रहे थे और मक़सद कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ किसानों के आंदोलन और सरकार की संवेदनहीनता के प्रति ध्यान दिलाना था।

राहुल गाँधी के साथ ट्रैक्टर पर रणदीप सुरेजावाला, बी.वी.श्रीनिवास और दीपेंद्र हुड्डा समेत की कांग्रेस नेता नज़र आये। बाद में सुरजेवाला और श्रीनिवास को पुलिस ने हिरासत में भी लिया। कांग्रेस नेता लगातार ‘काला कानून वापस लो’ का नारा लगा रहे थे।

कृषि क़ानूनों को रद्द करने की माँग को लेकर जारी दिल्ली घेरेबंदी के आज यानी 26 जुलाई को आठ महीने पूरे हो गये। किसानों का यह ऐतिहासिक आंदोलन अब राजनीति में दखल देने के लिए मजबूर है। संयुक्त किसान मोर्चा ने ऐलान किया है कि बीजेपी के नेताओं और मंत्रियों का विरोध किया जायेगा और जहाँ भी चुनाव होंगे बीजेपी के विरोध में प्रचार किया जायेगा। इसी के तहत आज से मिशन यूपी शुरू हो रहा है। किसानों के जत्थे यूपी के गाँव-गाँव जाकर बीजेपी को हराने की अपील करेंगे।

कांग्रेस शुरू से किसानों के आंदोलन का साथ दे रही है। किसानों के समर्थन में पंजाब के नेता लगातार जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे। राहुल गाँधी और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब में किसानों के समर्थन में रैली कर चुके हैं। राहुल गाँधी का आज का तेवर बता रहा है कि मोदी सरकार के ख़िलाफ़ किसानों के आंदोलन को वह बड़ा चुनावी मुद्दा बनाने की तैयारी में है।

कई कांग्रेस नेता कहते नज़र आये कि मोदी सरकार का अंहाकर जोतने के लिए राहुल आज ट्रैक्टर पर सवार होकर संसद पहुँचे हैं।

उधर,कांग्रेस की यूपी  प्रभारी और महासचिव प्रियंका गाँधी ने फ़ेसबुक पर राहुल के ट्रैक्टर चलाने का वीडियो डालकर लिखा कि अन्नदाता का अपमान बरदाश्त नहीं किया जायेगा।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।