Home प्रदेश उत्तर प्रदेश हत्या में यूपी टॉप पर, आँकड़ों पर पर्दा डालने के सिवा योगी...

हत्या में यूपी टॉप पर, आँकड़ों पर पर्दा डालने के सिवा योगी ने कुछ न किया- प्रियंका

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि “देश में हत्याओं के आंकड़ें देखें तो यूपी पिछले 3 सालों से लगातार टॉप पर रहा है। हर दिन औसतन 12 हत्या के मामले आते हैं। 2016-2018 के बीच में बच्चों पर होने वाले अपराध यूपी में 24% बढ़ गए। यूपी के गृह विभाग और सीएम ने इन आंकड़ों पर पर्दा डालने के अलावा किया ही क्या है? आज उसका नतीजा है कि यूपी में अपराधी बेलगाम हैं। उनको सत्ता का संरक्षण है। कानून व्यवस्था उनके सामने नतमस्तक है। कीमत हमारे कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी व जवान चुका रहे हैं।“

SHARE

उत्तर प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेस ने योगी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। प्रदेश में बढ़ते अपराध के खिलाफ जहां एक ओर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू अपने कार्यकर्ताओं के साथ सड़क पर उतर रहे हैं, वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी एनसीआरबी के आंकड़ों के जरिये योगी सरकार पर गंभीर सवाल उठा रही हैं। आज भी प्रियंका गांधी ने एनसीआरबी के आंकड़ों के ग्राफ शेयर कर योगी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि हत्याओं के मामले में यूपी पिछले तीन साल से टॉप पर है। हर दिन 12 हत्या के मामले सामने आ जाते हैं। लेकिन मुख्यमंत्री योगी इन आंकड़ों पर पर्दा डालने के अलावा कुछ नहीं कर रहे हैं।

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा कि “देश में हत्याओं के आंकड़ें देखें तो यूपी पिछले 3 सालों से लगातार टॉप पर रहा है। हर दिन औसतन 12 हत्या के मामले आते हैं।

2016-2018 के बीच में बच्चों पर होने वाले अपराध यूपी में 24% बढ़ गए।”

प्रियंका ने आगे कहा कि “यूपी के गृह विभाग और सीएम ने इन आंकड़ों पर पर्दा डालने के अलावा किया ही क्या है? आज उसका नतीजा है कि यूपी में अपराधी बेलगाम हैं। उनको सत्ता का संरक्षण है।

कानून व्यवस्था उनके सामने नतमस्तक है। कीमत हमारे कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी व जवान चुका रहे हैं।“

प्रियंका गांधी ने एक अन्य ट्वीट में शहीद पुलिस अधिकारी देवेंद्र मिश्र का वरिष्ठ अधिकारियों को लिखा पत्र शेयर करते हुए कहा है कि “कानपुर कांड में शहीद हुए पुलिस अधिकारी श्री देवेन्द्र मिश्र का वरिष्ठ अधिकारियों को मार्च में लिखा गया पत्र इस नृशंस वारदात का अलार्म था।

आज कई खबरें आ रही हैं कि वो पत्र गायब है। ये सारे तथ्य यूपी के गृह विभाग की कार्यशैली पर एक गंभीर प्रश्न उठाते हैं।“

प्रियंका गांधी ने सोमवार को महिलाओं और दलितों पर बढ़ते हमलों को लेकर योगी सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि “दलितों के खिलाफ होने वाले कुल अपराध के एक तिहाई अपराध यूपी में होते हैं। यूपी में महिलाओं के खिलाफ अपराध में साल 2016 से 2018 तक 21% की बढ़ोत्तरी हुई।

ये सारे आंकड़ें यूपी में बढ़ते अपराधों और अपराध के मजबूत होते शिंकजे की तरफ इशारा कर रहे हैं।

हैरानी इस बात की है कि इन सब पर जवाबदेही फिक्स करने की बजाय यूपी सरकार “अपराध खत्म हो जाने” का झूठा प्रचार करती रही।”

रविवार को प्रियंका गांधी ने 26 जून से 3 जुलाई के बीच हुए अपराध के आंकड़े शेयर कर ट्वीट किया कि “पिछले एक हफ्ते में उप्र में करीब 50 हत्याएं हुईं। सीएम के प्रचार में तो यूपी “अपराधमुक्त” हो चुका है लेकिन सच्चाई कुछ और ही है।

आँकड़ों के अनुसार कई अपराधों में यूपी पूरे देश में टॉप पर है।

आज फिर जौनपुर में एक नृशंस हत्या का मामला सामने आया। अब बहुत हुआ। जवाबदेही किसकी है?”

यूपी में बढ़ते अपराध पर प्रियंका गांधी लगातार हमला बोल रही हैं। 3 जुलाई को भी प्रयागराज में एक परिवार के चार सदस्यों की हत्या को लेकर यूपी सरकार पर सवाल उठाए थे। प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा था कि “कानपुर की भयावह घटना की खबर आई ही थी कि प्रयागराज में एक परिवार के चार लोगों की हत्या कर दी गई। गाजियाबाद में पिता-पुत्री की हत्या कर दी गई। उप्र में अपराधियों का इस तरह हावी हो जाना असामान्य है। इस जंगलराज को देखते हुए जवाबदेही तो फिक्स करनी ही होगी।“

कानपुर में बदमाशों के हमले में 8 पुलिसकर्मियों की शहादत के बाद प्रियंका गांधी ने कहा था “यूपी में कानून व्यवस्था बेहद बिगड़ चुकी है, अपराधी बेखौफ हैं। आमजन व पुलिस तक सुरक्षित नहीं है। कानून व्यवस्था का जिम्मा खुद सीएम के पास है। इतनी भयावह घटना के बाद  उन्हें सख़्त  कार्यवाही करनी चाहिए। कोई भी ढिलाई नहीं होनी चाहिए।“


 

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.