प्रियंका ने फ़ोन पर बाँटा डॉ कफ़ील की पत्नी का दर्द, कहा- जब ज़रूरत हो बेझिझक करें फोन!’

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


यूपी की मथुरा जेल से साढ़े 7 महीने बाद छूटे डॉ कफ़ील खान की पत्नी शबिस्ता से कांग्रेस महासचिव व यूपी की प्रभारी प्रियंका गांधी ने फ़ोन पर बात की और उनके परिवार का कुशल क्षेम पूछा। बात यूपी अल्पसंख्यस्क कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने कराई।

ग़ौरतलब है कि मथुरा जेल से छूटने के बाद डॉ कफ़ील का परिवार सुरक्षा की दृष्टि से कांग्रेस शासित राजस्थान के एक रेसॉर्ट में रह रहा है। कल कफ़ील ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रियंका गांधी और कांग्रेस के सहयोग के लिए धन्यवाद दिया था।

यूपी अल्पसंख्यस्क कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने बताया कि प्रियंका गांधी ने डॉ कफ़ील की पत्नी डॉ शबिस्ता खान से आज सुबह साढ़े 10 बजे बात की और कफ़ील की बुज़ुर्ग मां और उनके बच्चों की ख़ैरियत जानी। उन्होंने उनको अपना निजी नम्बर भी दिया और कहा कि जब भी कोई ज़रूरत हो वो उन्हें बेझिझक फ़ोन करें।

प्रियंका गांधी के निर्देश पर मथुरा से ही डॉ कफ़ील के साथ शाहनवाज़ आलम व अन्य कांग्रेस नेता डॉ कफ़ील के साथ राजस्थान आए हैं।

मथुरा जेल से रिहा होने के बाद डॉ कफील खान अपने परिवार के साथ जयपुर आ गए हैं। उनके परिवार का कहना है कि वे यहां ज्यादा सुरक्षित हैं। जयपुर में मीडिया से बात करते हुए डॉ कफील खान ने कहा कि उत्तर प्रदेश में उनकी जान को खतरा है, शायद यूपी सरकार उनपर कोई दूसरा केस भी लगा दे,  इसलिए अब यूपी से थोड़ा दूर रहेंगे।

जयपुर के पिंक सिटी प्रेस क्लब में डॉ कफ़ील खान ने कांग्रेस महासचिव आदरणीय प्रियंका गांधी जी को मुश्किल वक़्त में सहयोग देने के लिए धन्यवाद दिया।

Posted by Shahnawaz Alam on Friday, September 4, 2020

डॉ कफील ने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने हमसे राजस्थान आने के लिए कहा था। उन्होंने कहा था कि हम आपको सुरक्षित जगह देंगे। इसलिये जेल से छूटने के बाद मैं राजस्थान आ गया। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है, इसलिए हम यहां सुरक्षित रह सकते हैं। परिवार को भी ऐसा ही लग रहा है। उन्होंने कहा कि मैं अपने परिवार के साथ कुछ अच्छा समय बिताना चाहता हूं।


 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।