हम संघी विधान को देश का संविधान नहीं बनने देंगे: प्रियंका गांधी

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी में नागरिकता संशोधन बिल (CAB) 2019 को संविधान विरोधी करार दिया है। नागरिकता संशोधन बिल भारत के संविधान को हटाकर संघ (RSS) के विधान को लाने की ओर बढ़ाया गया कदम है। भाजपा आरएसएस के संविधान के एक एक नुख्ते को लागू करना चाहती है।अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी का प्रदेश की जनता और कार्यकर्ताओं को संबोधित पत्र लिखा है।

पत्र में प्रियंका गांधी ने कहा है कि CAB बिल भारत के संविधान को हटाकर संघ (RSS) के विधान को लाने की ओर बढ़ाया गया कदम है। भारत का संविधान कहता है कि सबको बराबरी की नज़र से देखो। भाजपा का CAB का बिल कहता है कि देश के नागरिकों को बराबरी की नज़र से नहीं बाँटकर देखो। बाँटना देश के संविधान में नहीं है बल्कि RSS की शाखाओं-किताबों में सिखाया जाता है। हमारा संविधान हमारे सभी धर्मों, सभी जातियों, सभी संस्कृतियों की रक्षा करता है। गरीबों, पिछड़ों, कमज़ोरों की रक्षा करता है।

भारत की जड़ों में गौरवशाली इतिहास, एकता और समानता है। भारत के संविधान को नष्ट करने से हर एक धर्म, जाति और संस्कृति की सुरक्षा पर आँच आएगी। अगर आज हमने ये होने दिया तो कल ये सरकार हर उस व्यक्ति, संस्था, संस्कृति, जाति और धर्म को निशाना बनाएगी जो संघ के विधान को नहीं मानेगा।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के नेतृत्व में कांग्रेसजनों ने महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष नागरिकता संशोधन बिल 2019 की प्रतियों और संघी विधान को जलाकर पर रोष प्रकट किया,धरना भी दिया।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि नागरिक संशोधन बिल देश के संविधान के खिलाफ है। इस बिल में एक धर्म को निशाना बनाया गया है जोकि संविधान की मूल आत्मा के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि भाजपा देश मे संघी विधान लागू करना चाहती है। पर संघ परिवार का सपना कभी पूरा नहीं होगा।

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के संविधान को हटाकर भाजपा संघ के विधान को लागू करने की कोशिश में है लेकिन उसके मंसूबों पर कांग्रेस पार्टी कुचलने का काम करेगी। अजय कुमार लल्लू ने बताया कि CAB के खिलाफ कल से पूरे सूबे में विरोध होगा और संघी विधान की प्रतियां जलाई जाएंगी।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।