‘MSP लूट कैलकुलेटर’: 22 मार्च को 9 फसलों में देशभर के किसान से 15 करोड़ रु की लूट!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


सरकार के एमएसपी को लेकर दावों का सच अब देश के सामने आता जा रहा हैं। ‘जय किसान आंदोलन’ द्वारा लॉन्च किये गए ‘MSP लूट कैलकुलेटर’ ने आज देशभर के किसानों के साथ 22 मार्च के दिन 9 प्रमुख फसलों पर हुई लूट को लेकर खुलासा किया है। इन फसलों में गेंहू, चना, मक्का, धान, बाजरा, ज्वार , हरा चना, रागी और कुसुम (safflower) शामिल हैं।

‘MSP लूट कैलकुलेटर’ के अनुसार सिर्फ 1 दिन यानी सिर्फ 22 मार्च के दिन किसानों के साथ 15 करोड़ रुपये की लूट हुई है। किसान का सिर्फ 2 % बाजरा ही एमएसपी पर बिका। 22 मार्च को सबसे ज्यादा लूट चने की फसल में हुई। चने की फसल में किसान से 8 करोड़ रुपये से ज्यादा की लूट हुई।

कल के दिन देश भर की मंडियों में 188615 क्विंटल चना आया जिसमे से 179998 क्विंटल चना बिका। चने का एमएसपी यानी न्यूनतम समर्थन मूल्य सरकार ने 5100 रुपये निर्धारित किया था लेकिन देश की सभी मंडियों में 22 मार्च को किसान को औसतन 4622 रुपये  ही मिल पाए। कुल चने फसल में से सिर्फ 5 % फसल ही एमएसपी पर बिकी।

रागी और कुसुम की के किसान की पूरी की पूरी फसल एमएसपी के नीचे बिकी। इसमें किसान के साथ 14 लाख और 13 लाख का नुकसान सिर्फ कल के दिन में हुआ, और जिस गेंहू की फसल पर सरकार इतने बड़े बड़े दावे करती है उसका सिर्फ 15 % फसल एमएसपी पर बिका, गेंहू की फसल में किसान के साथ 22 मार्च को 3 करोड़ से ज्यादा की लूट हुई।

जय किसान आंदोलन के संस्थापक और ‘संयुक्त किसान मोर्चा’ के सात सदस्यीय कमेटी के मेम्बर योगेंद्र यादव ने कहा कि सच यह है कि किसान की सारी फसल एमएसपी पर खरीदने की सरकार की ना तो नीति है, न नीयत। अधिकांश इलाकों में एमएसपी किस चिड़िया का नाम है, यही किसान को पता नहीं है। मोदी जी ने एमएसपी के नाम पर किसानों को एक और जुमला दिया है।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।