गाजीपुर जेल से रिहा होने के बाद सत्याग्रहियों की पदयात्रा फिर शुरू

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


11 फरवरी 2020 से गाजीपुर जेल में बंद नागरिक सत्याग्रहियों को सोमवार, 16 फरवरी की शाम लगभग 7:30 बजे रिहा कर दिया गया। रिहाई के बाद सभी सत्याग्रहियों ने घोषणा की कि वे 17 फरवरी 2020 को सुबह 11:00 बजे उसी स्थान से पैदल मार्च शुरू करेंगे जहां पुलिस ने रोका था और 11 फरवरी 2020 को हमें गिरफ्तार किया था। आज सुबह फिर से गाजीपुर पुलिस ने गाजीपुर में उनके ठहरने के स्थान से 6 पदयात्रियों को उठाया। 20 कारों के साथ लगभग 150 पुलिसकर्मी पदयात्राएं लेने आए थे। उन्होंने उन्हें हिरासत में लिया और 60 किलोमीटर की दूरी तय की और आखिरकार उन्हें बीएचयू गेट, वाराणसी में उतार दिया।

जबकि अन्य पदयात्रियों ने गांधी पार्क, गाजीपुर से सुबह 11:00 बजे अपना पैदल मार्च शुरू किया। आज पैदल मार्च में गाजीपुर से मनीष शर्मा, विकास सिंह, विनय शंकर राय और दर्जनों स्थानीय लोग शामिल हैं। उन्होंने पीजी कॉलेज गाजीपुर का भी दौरा किया और छात्रों के साथ बातचीत की। पदयात्रा आज सैदपुर (ग़ाज़ीपुर) पहुंच गई।

पदयात्रा शुरू करने में सफल रहे सत्याग्रही विकास सिंह ने कहा, “मैं अब भी सोच रहा हूं कि पुलिस एक पैदल मार्च से इतना डरती क्यों है जिसमें लोग गांधी के विचारों के बारे में बात कर रहे हैं। यह देश हमेशा विविध विचारों वाला देश रहा है। नफरत और विभाजन की राजनीति नही होनी चाहिए। देश में इसकी अनुमति नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि यह छात्रों, युवाओं, किसानों, एससी-एसटी और अन्य वंचित समुदायों के मुद्दों को छुपाता है। हम शांति और सच्चाई की इस यात्रा को जारी रखेंगे। गांधी जीतेंगे। ”

पहले की योजना के अनुसार यह यात्रा कार्यक्रम के अनुसार जारी रहेगी और हम राजघाट दिल्ली तक जाएंगे।

बनारस पहुँचे सत्याग्रहियों ने विश्वविद्यालय परिसर में नागरिक सत्याग्रह की घोषणा की और कहा, आने वाले 3 दिन परिसर में सत्याग्रह में शामिल पदयात्री छात्रावासों और कक्षाओं तक जाएंगे और इस सत्याग्रह के बारे में बताएंगे।

नागरिक सत्याग्रह फेज 2 के कार्यक्रम, सत्याग्रहियों की दूसरी टोली के बनारस पहुँचने के बाद तय की जाएगी।

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।