समीर वानखेड़े के ख़िलाफ़ मिली शिकायतों की जाँच के लिए मुंबई पुलिस ने बनाई टीम!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


मुंबई पुलिस के एसीपी स्तर के एक अधिकारी ने बुधवार को एनसीबी के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े के खिलाफ जबरन वसूली और अन्य मुद्दों के आरोपों की स्वतंत्र जांच शुरू कर दी है। वानखेड़े के खिलाफ मुंबई के अलग-अलग थानों में चार शिकायतें दर्ज की गई हैं। मुंबई पुलिस ने इस मामले में 4 अधिकारियों की टीम का गठन किया है।

चारों शिकायतों की जांच के लिए एक टीम..

समीर वानखेड़े के खिलाफ अधिकारी ने कहा कि यह टीम क्रूज़ ड्रग्स मामले में स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सैल, अधिवक्ता सुधा द्विवेदी, कनिष्क जैन और नितिन देशमुख द्वारा की गई शिकायतों की जांच करेगी। मुंबई पुलिस प्रभाकर सैल का बयान पहले ही दर्ज कर चुकी है। पुलिस ने मंगलवार और बुधवार को लगातार दो दिनों तक सैल से घंटों पूछताछ की थी, और अब इन चारों शिकायतों की जांच के लिए एक टीम बनाई गई है। इन सभी शिकायतों की एक साथ जांच की जा रही है। संयुक्त पुलिस आयुक्त विश्वास नांगरे पाटिल ने बुधवार को इस मामले में आदेश जारी किया।

जांच टीम में शामिल होंगे यह लोग..

इस जांच टीम में एसिस्टेंट कमिश्नर ऑफ पुलिस (एसीपी) मिलिंद खेटले, पुलिस इंस्पेक्टर अजय सावंत, एसिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर (पीआई) श्रीकांत कारकर और सब-इंस्पेक्टर प्रकाश गवली शामिल होंगे। जांच में इस टीम को साउथ रीजन के एडिशनल कमिश्नर ऑफ पुलिस दिलीप सावंत की मदद भी मिलेगी, जो इस टीम की निगरानी करेंगे। वहीं, डीसीपी हेमराजसिंह बगुल भी सावंत को असिस्ट करेंगे। इस जांच टीम का नेतृत्व एसीपी मिलिंद खेतले करेंगे।

वानखेड़े क्रूज़-ड्रग्स मामले में जांच अधिकारी बने रहेंगे…

इस बीच, एनसीबी ने बुधवार को कहा कि जोनल निदेशक समीर वानखेड़े क्रूज़-ड्रग्स मामले में जांच अधिकारी बने रहेंगे, जब तक कि उनके खिलाफ ठोस सबूत नहीं मिल जाते। हालांकि एनसीबी की टीम प्रभाकर सैल द्वारा समीर वानखेड़े पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की भी जांच करेगी। चार शिकायतकर्ताओं में से एक, आर्यन खान मामले में एनसीबी के   एक स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सैल की है। प्रभारक सैल ने आर्यन खान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ रुपये की डील करने का आरोप लगाया है।

सैल ने पुलिस को दिए बयान में कहा है कि समीर वानखेड़े के कहने पर ही किरण गोसावी ने शाहरुख के बेटे आर्यन खान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ रुपये की डिमांड की थी। इसमें से कुछ रकम का लेन-देन भी हुआ था। सैल ने मंगलवार को कहा था कि वह वानखेड़े और अन्य के खिलाफ जबरन वसूली की मांग के अपने आरोप पर टिके हैं और किसी ने उन्हें बरगलाया नहीं है। प्रभाकर सैल के द्वारा लगाए गए आरोप की ही अब एनसीबी टीम जांच कर रही है। एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक ने भी वानखेड़े पर कई आरोप लगाए हैं, जिनमें अवैध तरीके से फोन टैप करना और नौकरी के लिए फर्ज़ी दस्तावेजों का इस्तेमाल करना शामिल है।

वानखेड़े ने आरोपों को किया खारिज..

बता दें कि इस पूरे घटनाक्रम के बीच वानखेड़े मंगलवार को एनसीबी के दिल्ली स्थित मुख्यालय पहुंचे थे। उन्होंने सभी आरोपों को खारिज किया है। वहीं, बुधवार को जांच के तौर पर समीर वानखेड़े से चार घंटे तक पूछताछ हुई।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।