फसल को आग लगाते किसान का वीडियो साझा कर वरुण गांधी और पूर्व आईएएस ने BJP को घेरा!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


निडरता से अपनी बात रखते वाले भाजपा सांसद वरुण गांधी और पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने किसान की एक वीडियो शेयर कर बीजेपी सरकार को घेरा है। सांसद वरुण गांधी ने शनिवार को एक वीडियो क्लिप साझा की, जिसमें एक व्यक्ति अपनी धान की फसल को आग लगाते हुए दिख रहा है। वरुण ने अपनी पार्टी की भाजपा सरकार से इस वीडियो को शेयर करते हुए कृषि नीति पर पुनर्विचार की मांग पर विचार करने के लिए कहा है।

कृषि नीति पर पुनर्विचार सबसे बड़ी ज़रूरत: वरुण

वरुण गांधी ने वीडियो ट्वीट करते हुए कहा, “उत्तर प्रदेश के किसान श्री समोध सिंह पिछले 15 दिनों से अपनी धान की फसल बेचने के लिए मंडियों में घूम रहे थे, जब धान नहीं बिका तो उन्होंने मायूस होकर इसमें स्वयं आग लगा दी। इस व्यवस्था ने किसानों को कहाँ खड़ा किया है? कृषि नीति पर पुनर्विचार करना समय की मांग है।

“किसे बधाई दें, मोदी जी को या योगी जी को?”

वहीं सोशल मीडिया पर सरकार की खुल कर आलोचना करने वाले पूर्व आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने किसान द्वारा अपनी धान की फसल को आग लगाने वाली इस वीडियो को शेयर करते हुए माचिस से बढ़ाए गए दाम का भी जिक्र किया उन्होंने लिखा ” न बिकने के कारण किसान फसल को आग लगाने लगे हैं। इसलिए 14 साल बाद माचिस के दाम दोगुने कर दिए। किसे बधाई दें, मोदी जी को या योगी जी को?”

आपको बता दें कि महंगाई की मार झेल रही आम जनता के लिए अब चूल्हा जलाना भी मंगा हो गया। क्योंकि करीब 14 साल बाद माचिस की डिब्बी के दाम बढ़ने जा रहे हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक अगले महीने यानी 1 दिसंबर से माचिस के दाम 1 रुपए बढ़ जाएंगे। यानी अब माचिस की नई कीमत 2 रुपए होगी। दामों में बढ़ोतरी का फैसला ऑल इंडिया चैंबर ऑफ मैचेस की बैठक में लिया गया है। इस बैठक में पांच प्रमुख माचिस उद्योग निकायों के प्रतिनिधि शामिल थे। इन्होंने सर्वसम्मति से माचिस के दाम बढ़ाने का फैसला लिया है।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।