BSNL और MTNL के 60 हजार से अधिक कर्मचारियों ने किया VRS के लिए आवेदन!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) और महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (एमटीएनएल) के 60,000 से अधिक कर्मचारी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) के लिए आवेदन कर चुके हैं। शुक्रवार, 4 नवंबर की शाम को इस योजना के शुरू करने के बमुश्किल चार दिन बाद वीआरएस के लिए आवेदन करने वाले कर्मचारियों की संख्या 57,000 हो गई थी।

बीएसएनल की तरफ से कर्मचारियों के लिए वीआरएस (स्वैच्छिक रिटायरमेंट) स्कीम रोल आउट करने के सिर्फ दो दिनों में ही 22 हजार कर्मचारियों ने इसके लिए अप्लाई कर दिया था। बीएसएनएल के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर पीके पुरवर ने बताया कि यह स्कीम 5 नवंबर से 3 दिसंबर तक लागू रहेगी।

बीएसएनएल के कर्मचारियों की कुल संख्या 1.50 लाख है, जिनमें से एक लाख कर्मचारी इस योजना के लिए पात्र हैं।सरकार ने कुल 94,000 कर्मचारियों को वीआएस देने का लक्ष्य रखा था।

इस योजना के लिए योग्य कर्मचारियों को मिलने वाला एक्स-ग्रेशिया में सर्विस में पूरे किए गए हर साल पर 35 दिनों की सैलरी और रिटायरमेंट में बाकी प्रत्येक वर्ष के लिए 25 दिनों की सैलरी को जोड़ा जाएगा।

बता दें कि पिछले माह ही केंद्र सरकार ने BSNL और MTNL को 69,000 करोड़ रुपये का राहत पैकेज देने का ऐलान किया था। इसमें संपत्तियों को बेचकर पूंजी जुटाने और कर्मचारियों को VRS देना भी शामिल हैं। सरकार ने कहा था कि दोनों कंपनियों का विलय भी किया जाएगा।

महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (MTNL) ने भी अपने कर्मचारियों के लिए वीआरएस स्कीम रोल आउट की है। यह स्कीम वीआरएस के गुजरात मॉडल पर आधारित है। यह स्कीम भी 3 दिसंबर तक खुली रहेगी।

वेतन न मिलने से एक कर्मचारी ने लगाई फांसी

केरल के मल्लापुरम जिले में भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) के एक कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारी ने ऑफिस में खुद को फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। उन्हें बीते 10 महीने से वेतन नहीं मिला था। कर्मचारी का नाम रामकृष्णन था। उम्र 52 साल थी। 7 नवंबर के दिन उन्होंने BSNL के ही ऑफिस में फांसी लगा ली।

के मुताबिक, रामकृष्णन आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे। उन्हें 10 महीने से सैलरी नहीं मिली थी। पिछले 30 साल से वो BSNL में कॉन्ट्रैक्चुअल कर्मचारी के तौर पर काम कर रहे थे। 30 साल पहले हाउसकीपिंग स्टाफ के तौर पर उन्होंने कंपनी जॉइन की थी। वो रोज की तरह 7 नवंबर के दिन भी ऑफिस आए और एक खाली कमरे में फांसी लगा ली।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।