‘लालू के 9 बच्चों’ की ‘नीतीश-गुगली’ पर तेजस्वी का ‘सात सहोदर मोदी’ छक्का!


राजद नेता व महागठबंधन के मुख्यमंत्री उम्मीदवार तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार के बयान को पीएम मोदी के तरफ इशारे करते हुए कहा, ‘ हमारे बहाने नितीश जी पीएम मोदी जी को निशाना बनाया जा रहा हैं, क्योंकि पीएम जी भी 6-7 भाई-बहन हैं. हमने पहले भी कहा है कि नीतीश जी थक चुके हैं वो हमें कितना भी गाली दें लेकिन वो बेरोज़गारी, गरीबी पर बात नहीं करना चाहतें.


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


बिहार विधानसभा चुनाव की पहली चरण की मतदान से एक दिन पहले सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार फिर एक बार अपने बिगड़े बोल के लिए चर्चा में हैं. कल 26 अक्टूबर के शाम एक सभा के दौरान बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव-राबड़ी देवी पर व्यक्तिगत हमला किया हैं. उन्होंने कहा कि किसी को चिंता है. लोग 8-9 बच्चे पैदा करते रहते हैं. क्या मालूम हैं किसी को! बेटी पर भरोसा ही नहीं। कई बेटियाँ हो गई, तब बेटा हुआ. और  आप सोच लीजिए! कैसा बिहार बनाना चाहते हैं? अगर यही लोगों का आदर्श है, तो समझ लीजिए बिहार का क्या बुरा हाल होगा! कोई पूछने वाला नहीं रहेगा, सब बर्बाद हो जाएगा!

इसके जवाब में राजद नेता व महागठबंधन के मुख्यमंत्री उम्मीदवार तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार के बयान को पीएम मोदी के तरफ इशारे करते हुए कहा, ‘ हमारे बहाने नितीश जी पीएम मोदी जी को निशाना बनाया जा रहा हैं, क्योंकि पीएम जी भी 6-7 भाई-बहन हैं. हमने पहले भी कहा है कि नीतीश जी थक चुके हैं वो हमें कितना भी गाली दें लेकिन वो बेरोज़गारी, गरीबी पर बात नहीं करना चाहतें. अगर ऐसी बोली वो बोलते हैं तो वो महिलाओं की मर्यादा को ठेस पहुंचा रहें हैं. आगे उन्होंने कहा हैं कि नीतीश कुमार महिलाओं की गरिमा पर सवाल उठा रहे हैं, इसलिए उन्होंने मेरी माँ की भी मर्यादा को ठेस पहुँचाया है.

तेजस्वी यादव ने इसे लेकर एक ट्वीट भी किया हैं. अपने ट्वीट में उन्होंने कहा हैं कि आदरणीय नीतीश जी मेरे बारे में कुछ भी अपशब्द कहे वो मेरे लिए आशीर्वचन है. नीतीश जी शारीरिक-मानसिक रूप से थक चुके है इसलिए वो जो मन करे, कुछ भी बोले. मैं उनकी हर बात को आशीर्वाद के रूप में ले रहा हूँ. इस बार बिहार ने ठान लिया है कि रोटी-रोजगार और विकास के मुद्दों पर ही चुनाव होगा.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की इस बयान पर कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने भी प्रतिक्रिया दी हैं. उन्होंने कहा है कि नीतीश बाबू के माथे पर हार साफ लिखी है. मुख्यमंत्री जी तैश में आ गए हैं अब उनकी जुबान लड़खड़ा गई है इसलिए शायद वो इस प्रकार की व्यक्तिगत बातों पर उतर आए है.

गौरतलब हो कि नीतीश कुमार इससे पहले भी कई बार तेजस्वी यादव और उनके परिवार पर व्यक्तिगत टिपण्णी कर चुकें हैं. 24 अक्टूबर को बेगुसराय के एक सभा में अपने संबोधन के दौरान उन्होंने कहा था, “अगर पढ़ना चाहते चाहते हो तो अपने बाप से पूछो..अपनी माता से पूछो कि कहीं कोई स्कूल था, कहीं कोई स्कूल बन रहा था, कहीं कोई कॉलेज बना था? जरा पूछ लो! राज करने का मौक़ा मिला तो ग्रहण करते रहे और जब अंदर चले गये तो पत्नी को बैठा दिया गद्दी पर.”


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।