यूएस और यूके के विशेषज्ञों ने कहा: आतंकवाद विरोधी क़ानून का दुरुपयोग कर रही है मोदी सरकार!


यूएपीए ने नागरिक और राजनीतिक अधिकारों पर अंतर्राष्ट्रीय अनुबंध (आईसीसीपीआर) का उल्लंघन किया, जिसमें भारत एक पक्ष है, और जो “मौलिक नियत प्रक्रिया और निष्पक्ष परीक्षण सुरक्षा की रूपरेखा तैयार करता है जो सभी देशों में हर समय लागू होते हैं, जिन्होंने उस संधि पर हस्ताक्षर किए हैं। सिफ्टन ने कहा कि “संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1456 में उल्लेख किया गया है कि किसी देश के आतंकवाद विरोधी उपायों को, मानवाधिकार कानून के तहत अपने अंतरराष्ट्रीय दायित्वों का पालन करना चाहिए। भारत उन मामलों में विफल रहा है।”


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


मोदी राज में भारत में नागरिक अधिकारों पर ज़बरदस्त हमला हो रहा है। यह कहना है अमेरिका, ब्रिटेन और भारत के कानूनी विशेषज्ञों का। हाल ही मं एक ऑनलाइन परिचर्चा में उन्होंने कहा कि भारत सरकार आतंकवाद विरोधी कानून का दुरुपयोग करके मानवाधिकार रक्षकों और नागरिक कार्यकर्ताओं को झूठे आरोपों में बिना जमानत या मुकदमे के सालों तक जेल में डाले रखती है

बुधवार को वाशिंगटन डीसी में ऑनलाइन आयोजित की गयी कांग्रेस ब्रीफिंग में विशेषज्ञों ने कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार, पिछली सरकारों की तुलना में यूएपीए का इस्तेमाल बेहद आक्रामक तरीके रूप से कर रही है। उन्होंने साफ़ कहा कि इस क़ानून को निरस्त किया जाना चाहिए।

ह्यूमन राइट्स वॉच के डी.सी स्थित एशिया एडवोकेसी निदेशक जॉन सिफ्टन ने कहा, “भारत सरकार अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हमला कर रही है। शांतिपूर्ण ढंग से आलोचना या प्रदर्शन करने वालों को कड़े रूप में दंडित कर रही है। प्रेस की स्वतंत्रता पर भी हमला हो रहा है। ऐसा क़ानून का दुरुपयोग करके किया जा रहा है। उन्होंने कहा- यूएपीए आतंकवाद को “पूरी तरह से अस्पष्ट तरीके से परिभाषित करता है, जिसमें अहिंसक … राजनीतिक विरोध सहित गतिविधियों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है। मोदी की सरकार यूएपीए का दुरुपयोग दलितों, आदिवासी समुदायों और धार्मिक अल्पसंख्यकों, विशेष रूप से मुसलमानों को निशाना बनाने के लिए कर रही है।”

यूएपीए ने नागरिक और राजनीतिक अधिकारों पर अंतर्राष्ट्रीय अनुबंध (आईसीसीपीआर) का उल्लंघन किया, जिसमें भारत एक पक्ष है, और जो “मौलिक नियत प्रक्रिया और निष्पक्ष परीक्षण सुरक्षा की रूपरेखा तैयार करता है जो सभी देशों में हर समय लागू होते हैं, जिन्होंने उस संधि पर हस्ताक्षर किए हैं। सिफ्टन ने कहा कि “संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1456 में उल्लेख किया गया है कि किसी देश के आतंकवाद विरोधी उपायों को, मानवाधिकार कानून के तहत अपने अंतरराष्ट्रीय दायित्वों का पालन करना चाहिए। भारत उन मामलों में विफल रहा है।”

“संगठनों पर प्रतिबंध, समूहों की सदस्यता को अपराध बनाना, वारंट-रहित तलाशी, बरामदगी और गिरफ्तारी करना, तीसरे पक्ष को बिना अदालत के आदेश के, बंद कमरे की सुनवाई, गुप्त गवाहों और सबूतों में जानकारी प्रदान करने के लिए मजबूर करना, और 180 दिनों तक बिना किसी आरोप हिरासत में रखना, सबसे अधिक परेशान करने वाला है,” सिफ्टन ने कहा।

वाशिंगटन, डीसी के हावर्ड विश्वविद्यालय में एडजंक्ट लॉ प्रोफेसर वारिस हुसैन ने कहा कि बिना मुकदमे के जमानत और कैद से इनकार करना “यूएपीए का संपूर्ण बिंदु” है, और इसमें ‘प्रक्रिया ही सज़ा’ हो जाती है। भारतीय न्यायपालिका ने अतीत में मानवाधिकारों की रक्षा करने वाले “बहुत बहादुर” फैसले पारित किए थे, लेकिन फ़िलहाल वह कुछ कम स्वतंत्र नज़र आ रही है।

“आपराधिक न्याय तंत्र जिसमें पुलिस, अभियोजन और जांच एजेंसियां ​​शामिल हैं, असहमति को शांत करने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और अन्य नागरिक और राजनीतिक अधिकारों को कम करने के लिए सरकार की समस्याग्रस्त रणनीति का पालन कर रही हैं” डॉ हुसैन ने कहा, जो अमेरिकन बार एसोसिएशन में वरिष्ठ स्टाफ अटॉर्नी भी है। उनके मुताबिक अमेरिकी सरकार और कांग्रेस, और वैश्विक समुदाय इस संबंध में दबाव बनाना चाहिए था।

लंदन के SOAS विश्वविद्यालय में कानून के वरिष्ठ व्याख्याता डॉ. मयूर सुरेश ने कहा कि भारत की पुलिस और अभियोजन “आतंकवादी संगठनों की सदस्यता के आरोपों लगाने के लिए ‘भाषण’ का उपयोग करने का प्रयास करते हैं। पुलिस ने आतंकवादी गतिविधि के सबूत के तौर पर ‘साहित्य’ का हवाला दिया।”

उन्होंने कहा कि आरोप [यूएपीए के तहत] दोषसिद्धि प्राप्त करने के उद्देश्य से नहीं लगाये जाते, इनका उपयोग लंबे समय तक लोगों को हिरासत में रखने के लिए और संगठनों को प्रतिबंधित करने के लिए किया जाता है। डॉ. सुरेश ने स्टूडेंट्स इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) का हवाला दिया जिस पर 2001 में प्रतिबंध लगाने के लिए, इसके सदस्य होने का आरोप लगाकर लोगों को गिरफ्तार किया गया। डॉ. सुरेश ने कहा, यह “बहुत स्पष्ट” था कि यूएपीए और संगठनों पर प्रतिबंध लगाने की इसकी शक्ति ने “संघ की स्वतंत्रता और भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता दोनों के लिए एक मौलिक खतरा पैदा किया।”

भारत से ब्रीफिंग में शामिल होते हुए, अनुभवी वकील इंदिरा जयसिंह ( भारत के एक पूर्व अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल) ने कहा कि यूएपीए ने आतंकवाद को व्यापक रूप से परिभाषित किया है कि “भारत की एकता, अखंडता, सुरक्षा, संप्रभुता को धमकी देने या खतरे में डालने के इरादे से की गई कोई भी कार्रवाई” इसके दायरे में आयेगी, लेकिन हाल के दो प्रमुख मामलों में यूएपीए के तहत दर्जनों आरोप लगाए गए थे – फरवरी 2020 में दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा और महाराष्ट्र से तथाकथित भीमा कोरेगांव मामला– जबकि अभियोजन पक्ष ने भी ऐसी किसी धमकी की बात नहीं की थी।

“दिल्ली दंगों के मामले में, युवा नागरिकता (संशोधन) अधिनियम का विरोध कर रहे थे, जो अत्यधिक भेदभावपूर्ण है। ऐसा कोई कानून नहीं है जो कहता हो कि आप किसी कानून के खिलाफ विरोध नहीं कर सकते। भीमा-कोरेगांव मामले में, एक आरोपी के खिलाफ “हंसने योग्य” आपत्ति यह है कि उसने सुप्रीम कोर्ट के एक पूर्व न्यायाधीश द्वारा आयोजित एक सार्वजनिक बैठक में “बर्टोल्ट ब्रेख्त की एक कविता का पाठ” किया। कविता ने उत्पीड़न के खिलाफ विद्रोह का आह्वान किया, “जो यह कहने का एक काव्यात्मक तरीका था कि हम सभी को दमन का विरोध करना चाहिए। इसे आतंकवाद की कार्रवाई के रूप में लिया गया था।”

कांग्रेस के विभिन्न सदस्यों के साथ-साथ अमेरिकी विदेश विभाग के अधिकारियों के नीति कर्मचारियों ने भी वर्चुअल ब्रीफिंग में भाग लिया। यह ब्रीफ़िग एमनेस्टी इंटरनेशनल यूएसए, हिंदू फॉर ह्यूमन राइट्स, इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल, इंटरनेशनल क्रिश्चियन कंसर्न, जुबली कैंपेन, दलित सॉलिडेरिटी फोरम, न्यूयॉर्क स्टेट काउंसिल ऑफ चर्च, फेडरेशन ऑफ इंडियन अमेरिकन क्रिश्चियन ऑर्गनाइजेशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका, इंडिया सिविल वॉच इंटरनेशनल, सभी के लिए न्याय, बहुलवाद केंद्र, अमेरिकी मुस्लिम संस्थान, इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर पीस एंड जस्टिस और एसोसिएशन ऑफ इंडियन मुस्लिम ऑफ अमेरिका द्वारा आयोजित की गयी थी।

जिसे पिछले साल सीएए के विरोध में गिरफ्तार की गयीं सफ़ूरा जरगर भी इसमें शामिल थीं, जिन्होंने गर्भावस्था के बावजूद महीनों बाद जमानत दी गई थी। उन्होंने बताया कि पुलिस रात के अंधेरे में उनके दरवाजे पर दस्तक दे रही थी, जबकिल”मेरे ससुराल वालों और पति ने उन्हें बताया कि मैं गर्भवती हूं और मुझे आराम की जरूरत है।” उन्होंने कहा- “मुझे जांच में शामिल होने के लिए कोई नोटिस जारी नहीं किया गया था। मुझे एक बार भी पूछताछ के लिए नहीं बुलाया गया, बस गिरफ्तार कर लिया गया बिना किसी वारंट के। सफ़ूरा ने कहा “मुझे रात के 10:30 बजे बताया गया कि मुझे गिरफ्तार किया जा रहा है, और मेरे पति को एक गिरफ्तारी ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा गया, जिसमें शाम 5:30 बजे मेरी गिरफ्तारी को झूठा दिखाया गया। मुझे किसी भी वकील के पास जाने से रोक दिया गया था।”

ग़ौरतलब है कि भारतीय कानून के अनुसार, पुलिस सूर्यास्त के बाद किसी महिला को गिरफ्तार नहीं कर सकती है और उसे जल्द से जल्द मजिस्ट्रेट के सामने पेश करना होता है। लेकिन “कानून की सभी उचित प्रक्रिया को दरकिनार कर दिया गया।

एक मजिस्ट्रेट द्वारा दी गई तीन दिनों की पुलिस हिरासत के बाद, जरगर पर एक अन्य मामले में आरोप लगाया गया और उनकी पुलिस हिरासत दो दिनों के लिए बढ़ा दी गई। जब उसे अदालत जाना था, तो जेल अधिकारियों ने “जानबूझकर” उन के वकीलों को अदालत के स्थान के बारे में गलत जानकारी दी। गिरफ्तारी के ग्यारह दिन बाद, जमानत से इनकार करने के लिए यूएपीए लगाया गया था।

सफ़ूरा जरगर के वकील रितेश धर दुबे ने कहा कि “सफ़ूरा जरगर को जिस “देशद्रोही” भाषण देने के लिए गिरफ्तार किया गया था,उस कथित भाषण को किसी भी अदालत के समक्ष पेश नहीं किया गया है।”


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।