बिहार में जगह-जगह चक्का जाम, 8 दिसंबर के भारत बंद को वामदलों का समर्थन

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


तीनों कृषि कानूनों की वापसी की माँग पर दिल्ली में डटे किसान संगठनों के आह्वान पर आज बिहार के वामदल जगह-जगह चक्का जाम और प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान संगठनों ने 5 दिसंबर को पूरे देश में पीएम मोदी और अंबानी-अडानी समेत कॉरपोरेट कंपनियों का पुतला फूँकने का ऐलान किया था। बिहार में इसका ख़ासा असर देखा जा रहा है।

वहीं अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के  8 दिसंबर के भारत बंद के आह्वान को वाम दलों ने सक्रिय समर्थन देने का निर्णय किया है सीपीआई, सीपीआई (एम), भाकपामाले, फारवर्ड ब्लाॅक आरएसपी की राष्ट्रीय स्तर पर हुई बैठक के आलोक में आज इन पार्टियों के बिहार राज्य स्तर के नेताओं ने संयुक्त बयान जारी करके यह जानकारी दी

भाकपामाले के राज्य सचिव कुणाल, सीपीआई के राज्य सचिव रामनरेश पांडेय, सीपीआई (एम) के राज्य सचिव अवधेश कुमार फारवर्ड ब्लाॅक के अमीरक महतो आरएसपी वीरेन्द्र ठाकुर ने बयान जारी करके कहा है कि पहले तो मोदी सरकार ने दमन अभियान चलाकर किसानों को डराना चाहा, फिर तरहतरह का दुष्प्रचार अभियान चलाया गया और अब वार्ता का दिखावा किया जा रहा है सरकार के दमननात्क नकारात्मक रूख के कारण अब तक तीन किसानों की मौत हो चुकी है 

वाम नेताओं ने कहा कि दो दौर की हुई वार्ता असफल हो चुकी है क्योंकि सरकार कानूनों को वापस लेने की मांग पर तैयार नहीं है. ये कानून पूरी तरह से खेतीकिसानी को चैपट कर देने वाले तथा खेती को काॅरपोरेट घरानों के हवाले कर देने वाले हैं. देश के किसान इन कानूनों को किसी भी कीमत पर स्वीकार नहीं करेंगे पंजाब से आरंभ हुआ आंदोलन अब देश के दूसरे हिस्सों में भी फैल रहा है सरकार को यह असंवैधानिक कानून रद्द करना ही होगा

वाम नेताओं ने कहा कि भारत बंद में तीनों काले कृषि कानूनों को रद्द करने के साथसाथ प्रस्तावित बिजली बिल की वापसी , न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरकारी दर पर फसल खरीद की गारंटी, स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने की भी मांग प्रमुखता से उठाई जाएगी। बिहार में नीतीश कुमार की सरकार ने 2006 से ही मंडियों को खत्म कर दिया और राज्य की खेती को बर्बादी के रास्ते धकेल दिया आज बिहार में कहीं भी धान खरीद नहीं हो रही है किसानों की फसलें बर्बाद हो रही हैं, लेकिन नीतीश कुमार ने विगत 15 वर्षों में कभी भी इसकी चिंता नहीं की  हमारी मांग है कि सरकार तत्काल न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सभी किसानों के धान खरीद की गारंटी करे

वाम नेताओं ने बिहार की जनता से अपील की है कि कृषि प्रधान देश में यदि किसान ही नहीं बचेंगे, तो देश कैसे बचेगा? इसलिए समाज के सभी लोग इस आंदोलन का समर्थन करें और इसका विस्तार दूरदराज के गांवों तक करें


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।