लखीमपुर हिंसा: मंत्री के बेटे को समन, 2 हिरासत में, SC की सख्ती के बाद हरकत में यूपी पुलिस!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


लखीमपुर खीरी हिंसा में चारो ओर से दबाव और सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस हरकत में आ गई है। पुलिस ने दो लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की है। वहीं पुलिस ने केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के घर पर नोटिस चिपका दिया है और उनके बेटे को 8 अक्टूबर यानी कल सुबह 10 बजे पेश होने का आदेश दिया है। इससे पहले पूछताछ के लिए पुलिस ने आशीष मिश्रा को समन भी भेजा है।

घटना के 5 दिन बाद 2 हिरासत में..

यूपी पुलिस की यह कार्रवाई घटना के 5 दिन बाद सामने आई है। केंद्रीय राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा का अभी पता नहीं चल पाया है। पुलिस ने आज दो आरोपियों अशीष पाण्डेय और लवकुश राणा को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने कहा कि हिरासत में लिए गए दोनों आरोपी आशीष के करीबी सहयोगी हैं। अभी और छापेमारी की जा रही है। लखनऊ रेंज की आईजी लक्ष्मी सिंह ने बताया कि लवकुश राणा और आशीष पांडे ने पूछताछ में 3 लोगों का नाम लिया था जिनकी गिरफ्तारी होनी थी। लेकिन तीनों की पहले ही मृत्यु हो चुकी है।

नोटिस में कहा गया साक्ष्य भी पेश करें..

पुलिस ने IPC की धारा 160 के तहत चिपकाए गए नोटिस में कहा कि आशीष मिश्रा को 8 अक्टूबर को सुबह 10 बजे अपराध शाखा कार्यालय, रिजर्व पुलिस लाइन में व्यक्तिगत रूप से पेश होना होगा। उन्हें लिखित/मौखिक और इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य पेश करने के लिए भी कहा गया है।

हथियार से घायल होने की घटनाओं की पुष्टि नहीं हुई है: पुलिस

आईजी लक्ष्मी सिंह ने गुरुवार को बताया कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के बेटे और लखीमपुर घटना के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा को पूछताछ के लिए बुलाया गया है। अगर आशीष पूछताछ के लिए नहीं आते हैं तो इसके लिए कानूनी प्रक्रिया अपनाई जाएगी। आईजी लक्ष्मी सिंह ने ये भी कहा कि मंत्री के बेटे को भेजे गए समन में कोई समय सीमा नहीं बताई गई है। आईजी लक्ष्मी सिंह ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि फायरिंग से या किसी हथियार से घायल होने की घटनाओं की पुष्टि नहीं हुई है। इसलिए हमें अन्य सबूतों के साथ आगे बढ़ना होगा जो हमें दिए गए हैं। बताते चले कि हिंसा में मरे हुए एक किसान के परिजनों का आरोप है की उनकी मौत गोली लगने से हुई है और पोस्ट मॉर्टम रिपोर्ट में यह बात छुपाई गई है।

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से किया था ये सवाल..

मालूम हो कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का बेटा आशीष तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी जिले के तिकोनिया इलाके में एसयूवी से कुचलने की घटना और चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत का मुख्य आरोपी है। सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को एक दिन के भीतर यानी 8 अक्टूबर को मामले में अब तक कितनी गिरफ्तारियां की गई हैं? किसपर एफआईआर हुई? इस संबंध में एक स्थिति रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा था। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के कुछ घंटे बाद ही पुलिस ने एक्शन लिया और दोनों को हिरासत में लिया गया।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।