केरल: बैकफुट पर सरकार, कोरोना की मौतों में ‘और 7000 लोग’ होंगे शामिल!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


कोरोना से हुई मौतों के आंकड़ों को छुपाने के लिए कई राज्यों की सरकारों पर शुरू से ही आरोप लगते आए हैं, लेकिन कोई भी इसे मानने को तैयार नहीं। इन राज्यों में केरल भी शामिल है केरल सरकार पर कोरोना से मौतों के आंकड़ों में हेराफेरी के आरोप लग रहे थे। जिसके बाद अब इन आरोपों का सामना कर रही केरल सरकार आखिरकार बैकफुट पर आ ही गई है। विपक्ष की आलोचनाओं और तीखी टिप्पणियों के बाद राज्य सरकार ने फैसला किया है कि मरने वाले 7000 लोगों को भी कोरोना से होने वाली मौतों की सूची में शामिल किया जाएगा।

विपक्ष के सरकार पर गंभीर आरोप..

दरअसल, राज्य में कोरोना से हुई मौतों के आंकड़ों पर विपक्ष ने सरकार को घेरा था। इसके बाद केरल सरकार बैकफुट पर आ गई। विपक्ष का सरकार पर आरोप है कि मौत के आंकड़ों में हेराफेरी की गई है और कम मौतों को दिखाया जा रहा है। इस मामले पर स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज का कहना है कि सूची में गड़बड़ी की शिकायतों का समाधान किया जाएगा। उन्होंने कहा ऑनलाइन फीडिंग से पहले कोरोना से होने वाली 7,000 मौतों का आंकड़ा भी राज्य के आंकड़ों में शामिल किया जाएगा।

वहीं अधिकारियों का कहना है कि नए आंकड़ों को शामिल करके अंतिम सूची का आंकलन राज्य सरकार कर रही है।जल्द से जल्द सही आंकड़े पेश किए जाएंगे। बता दें की केरल में कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा अब तक 26 हज़ार है। सरकार द्वारा आंकड़ों को शामिल करने के बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 33 हजार तक पहुंच जाएगा। वहीं केरल में कुल 47 लाख से अधिक कोरोनो के मामले सामने आ चुके है। 8 अक्टूबर को केरल में कोरोना से मरने वालों की संख्या 120 थी।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।