तीन साल हेल्थ बीमा का पैसा भरा, बीमार हुए तो एचडीएफसी अर्गो ने दिखाया ठेंगा!


कंपनी के सिविल लाइंस ब्रांच में बैठे कुछ उपभोक्ताओं ने बताया कि 1 लाख के ऊपर जिनका भी बिल होता है उनका पेमेंट करने में कंपनी ऐसे ही आनाकानी करती है, और फिर कोई न कोई बहाना बनाकर चलता कर देती है। रिइम्बर्समेंट का केस लेकर आये एक एजेंट को वहां के ऑफिसर ने हमारे सामने ही कहा कि ‘क्या कर रहे हो, कोरोना में पॉलिसी एक भी नहीं ला रहे बस क्लेम लेकर चले आ रहे हो ऐसे कैसे काम चलेगा।’


सुशील मानव सुशील मानव
ख़बर Published On :


दो साल पहले जौनपुर निवासी शैल कुमारी ने भाई को राखी बाँधी तो भाई ने राखी बँधाई में बहन को ‘अपोलो म्युनिख’ का हेल्थ इंश्युरेंस दे दिया। तब से भाई ने दो बार उस हेल्थ इंश्युरेंस का रिन्युवल भी करवाया। वहीं इस साल अपोलो म्युनिख को एचडीएफसी अर्गो ने खरीद लिया। इस तरह शैल कुमारी अपोलो म्युनिख से एचडीएफसी अर्गो की कस्टमर बन गईं। पिछले तीन साल में शैल कुमारी कभी बीमार न पड़ीं तो उन्हें उस हेल्थ इंश्युरेंस की ज़रूरत ही न पड़ी। लेकिन इस साल कोरोना-काल में वो बीमार पड़ गई। उन्होंने कर्ज लेकर अपना इलाज़ करवाया। सोचा था कि भाई की राखी बँधाई में मिली हेल्थ इंश्युरेंस इस मुसीबत में काम आयेगी, लेकिन जब उन्होंने अपने हेल्थ इंश्युरेंस कंपनी से सहायता माँगी तो कंपनी ने उन्हें ठेंगा दिखा दिया।

शैल कुमारी फूट-फूटकर रोते हुए बताती हैं कि कंपनी वालों ने उन्हें बर्बाद कर दिया। वो बताती हैं कि- “हर साल साढ़े सात हजार रुपये मेरा भाई कंपनी की जेब में भरता है और कंपनी ने गाढ़े वक्त में हमें ठेंगा दिया दिया।”

शैल कुमारी तमाम अस्पतालों के पर्चे दिखाते हुए बताती हैं कि पेट के ऊपर एक छोटी सी फुन्सी हो गई थी। और उसी फुन्सी की ववजह से पूरे पेट में अचानक असहनीय दर्द हुआ तो 11 जुलाई को वो बेलवार स्थित सामुदायिक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र दवा लेने गयीं। दो खुराक दवा देने के साथ ही उनसे कहा गया कि आराम न मिले तो किसी प्राइवेट अस्पताल में दिखा लो। अगले दिन यानि 12 जुलाई को शैल कुमारी सुजानगंज स्थित ‘सुशीला हॉस्पिटल’ में डॉ शुचिता गुप्ता को दिखाकर दवा ले आयीं। डॉ शुचिता गुप्ता ने अल्ट्रासाउंड करवाया और दवाई दी। शौल कुमारी बताती हैं कि –“दो दिन दवाई खायी लेकिन आराम मिलने के बजाय तबीयत और बिगड़ती चली गई। 15 जुलाई की रात तबीयत ज़्यादा खराब हो गई तो पति आनंद, देवरानी और देवर मुझे अचेतावस्था में निजी वाहन से लेकर इलाहाबाद गये। यहां फूलपुर तहसील में मेरा मायका है। वहां से भाई को लेकर मुझे इलाहाबाद ले जाया गया। राते के 10-11 बजे कई निजी अस्पताल के दरवाजे पर गये सबने कोरोना टेस्ट का सर्टिफिकेट मांगकर लौटा दिया। कोरोना काल में रात में कोई लेने को तैयार नहीं था। तब इलाहाबाद के धोबीघाट स्थित अमन अस्पताल गई। वहां मुझे रात में 1 बजे भर्ती किया गया। तमाम जांच हुई। डॉक्टर एम.आई ख़ान जोकि इलाहाबाद मे पेट के अच्छे सर्जन में गिने जाते हैं ने  बताया कि ऑपरेशन करना पड़ेगा। पेट में इन्फेक्शन हो गया है पस भर गया है। अतः ऑपरेशन करके पस बाहर निकालना पड़ेगा।”

शैलकुमारी के पति आनंद कुमार बताते हैं कि –“16 जुलाई को लगभग 5 घंटे का ऑपरेशन हुआ। ऑपरेशन करके लगभग 6 इंच पेट फाड़ा गया। उससे पस निकाला गया। डॉक्टर ने मुझसे कहा कि दिन में दो बार एंटी प्वाइजन इंजेक्शन देना पड़ेगा। इंजेक्शन महंगा है, अफोर्ड कर लोगे कि नहीं।”

आनंद कुमार आगे बताते हैं कि –“मेरे पास उस समय कोई और चारा नहीं था। मेरे पास कोई ज़मीन जायदाद या प्रॉपर्टी नहीं है। मैं गरीब आदमी हूँ। बीबी के गहने गिरवी रखे, ब्याज पर पैसे लिए, दोस्तों से उधार लिया, कुछ ससुराल पक्ष से मदद मिली । कुल मिलाकर अस्पताल में एक सप्ताह के इलाज का बिल आया 1 लाख 19 हजार रुपये।

कैशलेस पेमेंट के सवाल पर शैल कुमारी के भाई प्रवीण कुमार बताते हैं कि –“हमने अस्पताल मैनेजमेंट से बात की थी इस बाबत। पता चला कि अमन हॉस्पिटल का एचडीएफसी अर्गो के साथ कोई कंटैक्ट नहीं है। तो मैंने सोचा कि कैशलेस नहीं हो रहा न सही, बाद में रिइम्बर्समेंट क्लेम से इलाज में खर्च हो रहे रुपये इंश्युरेंस कंपनी से मिल जाएंगे तो जिनसे उधार या ब्याज पर पैसा लिया जा रहा है, उन्हें चुका दिया जायेगा।”

प्रवीण कुमार आगे बताते हैं कि -“हम अस्पताल से रिलीज होते ही रिइम्बर्समेंट क्लेम के लिए सिविल लाइंस स्थित कंपनी के ब्रांच गये तो वहां कहा गया कि सब कुछ ऑनलाइन होगा। डॉक्युमेंट ऑनलाइन भेजिए। सभी डॉक्टुमेंट जिसमें अस्पताल का डिस्चार्ज कार्ड, मेडिकल बिल, इलाज करने वाले डॉक्टर का लेटर हेड पर इलाज का सर्टिफिकेशन, अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट, मेडीकेशन/ ट्रीटमेंट चार्ट, वाइटल साइन चार्ट, डॉक्टर्स प्रोग्रेस नोट्स सब अटैच करके भेज दिया। कंपनी की ओर से क्लेम नंबर – RR-HS20-1199643 जेनरेट कर दिया गया। इंश्युरेंस कंपनी के लोग 3 सितंबर को वेरीफिकेशन के लिए घर आये, मरीज से बात की, सारे मेडिकल डॉक्युमेंट्स देखे और तस्वीरें खींचकर ले गये। जाते जाते वेरीफिकेशन करने वाले लोगो ने कहा भी कि आपका केस जेनुइन है, बहुत जल्द ही आपके क्लेम को मंजूरी मिल जाएगी। फिर उनके कुछ लोग अस्पताल भी गये। लेकिन पहले कोरोना के नाम पर लंबे समय तक प्रोसेसिंग का झांसा देकर कंपनी ने टरकाया फिर 2 अक्टूबर को कंपनी का ईमेल आया कि आपका क्लेम रिजेक्ट कर दिया है। कारण में बताया गया ‘मिसरिप्रेजेंटेशन ऑफ मटेरियल फैक्ट।’ हमने बहुत जानने की कोशिश की क्या फैक्ट गलत या झूठा था लेकिन उन्होंने हमें कुछ भी डिटेल नहीं दिया। हम कस्टमर केयर से लेकर इलाहाबाद सिविल लाइंस स्थित ऑफिस तक गये पर कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई न कोई डिटेल दिया गया कि क्यों हमारा बिल रद्द कर दिया गया। जबकि हमने उनके द्वारा मांगे गए हर एक कागज को जमा किया था।”

इस बाबत जब हमने शैल कुमारी का इलाज करने वाले सर्जन डॉक्टर एम. आई. ख़ान से बात की तो उन्होंने बताया कि- “हां मैंने जौनपुर निवासी शैल कुमारी का ट्रीटमेंट किया था। जब वो अमन अस्पताल लायी गई थी तो उसकी तबीअत बहुत ज़्यादा खराब थी। थोड़ा और लेट हो जाता तो जान बचानी मुश्किल हो जाती। डॉ खान बताते हैं कि शैलकुमारी के पेट में बायीं तरफ नेकरिटाइजिंग फसाईटिस (Necrotising fasciitis) हो गया था।

डॉ.खान इंश्युरेंस कंपनी के वेरीफिकेशन के बाबत बताते हैं कि – “एचडीएफसी अर्गो से कुछ लोग आये थे। वो लोग जिस कमरे में शैल कुमारी एडमिट थी उसकी तस्वीर तक खींचकर ले गये। पेमेंट से लेकर ट्रीटमेंट का सारा डॉक्युमेंट मांगा, लिया। मुझसे मेरा मेडिकल सर्टिफिकेट मांगा, मेरी सर्टिफिकेट तक की फोटो मोबाइल में क्लिक करके ले गये।”

डॉ. खान से बात करने के बाद जब हमने गूगल पर Necrotising fasciitis सर्च किया तो पाया ये रेयर बैक्टीरियल इन्फेक्शन की बीमारी है, जो शरीर में बहुत तेजी से फैलता है और मौत का कारण बनता है। इस बीमारी में मृत्युदर 32.2 प्रतिशत है। ये बीमारी पेट के ऊतकों पर हमला करती है। ‘सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन’ की साइट पर साफ लिखा है कि इस बीमारी के इलाज के लिए एक्युरेट डायग्नोसिस, रैपिड एंटीबॉयोटिक ट्रीटमेंट और तत्काल सर्जरी बहुत ज़रूरी है।

वहीं जब हम एचडीएफसी अर्गो के सिविल लाइंस स्थित ऑफिस गये तो वहां हमें बताया गया कि वहां पर सिर्फ़ पॉलिसी से जुड़े मुद्दे देखे जाते हैं। क्लेम का काम दिल्ली ऑफिस से हैंडिल किया जाता है। जब हमने शैल कुमारी के क्लेम की डिटेल जाननी चाही तो हमसे कहा गया कि इसकी जानकारी उन लोगो के पास नहीं होती है।

वहीं कंपनी के सिविल लाइंस ब्रांच में बैठे कुछ उपभोक्ताओं ने बताया कि 1 लाख के ऊपर जिनका भी बिल होता है उनका पेमेंट करने में कंपनी ऐसे ही आनाकानी करती है, और फिर कोई न कोई बहाना बनाकर चलता कर देती है। रिइम्बर्समेंट का केस लेकर आये एक एजेंट को वहां के ऑफिसर ने हमारे सामने ही कहा कि ‘क्या कर रहे हो, कोरोना में पॉलिसी एक भी नहीं ला रहे बस क्लेम लेकर चले आ रहे हो ऐसे कैसे काम चलेगा।’

जौनपुर निवासी आनंद शुक्ला मुंबई में सिरोया ज्वैलर्स में काम करते थे, 15 हजार रुपये मासिक के वेतन पर। लेकिन कोरोना महामारी में उन्हें भी व्यवस्था ने मार भगाया। तब से 10 महीने हो गये हैं वो सुजानगंज बेल्वार स्थित अपने घर पर बेरोजगारी के दिन काट रहे हैं। उन्होंने जिन जिन लोगो से पैसा उधार लिया था वो सब अब उनका बाल नोच रहे हैं। शैल कुमारी-आनंद शुक्ला के दो बच्चे हैं, बूढ़े मां-बाप है। आमदनी का कोई जरिया नहीं है और बीबी की बीमारी ने डेढ़ लाख का कर्ज़दार बना दिया है। ब्याज जोड़कर कर्ज़ 2 लाख के करीब हो गया है।

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।