थाईलैंड के ‘अतुल्‍यतेज’ को अपने अंग्रेज़ी प्रेम में पचा गए BBC और NBT!



थाईलैण्ड के राजा के निधन पर आज कुछ हिन्दी पोर्टल ने जो खबर लिखी है उसमें बीबीसी और नभाटा ने उनका नाम “अदुन्यदेज पुमीपोन” लिखा है। कहां कहां तक लोग अपनी जहालत सिर पर लादे ढो रहे हैं, समझ नहीं आता। उनका नाम था अतुल्यतेज भुमिबोल। त का थाई में द हो जाता है तो अतुल्यतेज को थाई में अदुन्यदेज लिखा जाता है लेकिन भूमिबोल जस का तस है। यह पुमीपोन कहां से आ गया?

जाहिर है डेस्क पर बैठे लोगों के दिमाग में कुछ तो ऐसा भरा है जो विषाक्त है और थाइलैण्ड से भारत के उस रिश्ते को छिपाना चाहता है जो नाम सुनकर सोचने पर मजबूर करता। थाइलैण्ड बौद्ध देश है और वहां राज परिवार की परंपरा आज भी कायम है ब्रिटेन की तरह। थाईलैण्ड में राजा को “राम” कहा जाता है। बौद्ध देश होते हुए भी थाई लोग अपने राजा को विष्णु का अवतार राम मानते हैं। अतुल्यतेज भूमिबल नौवें राम थे जिन्होंने सबसे लंबे समय (70 साल) तक राज्य करने का रिकार्ड बनाया।

nbt

इतने लंबे समय तक शासन का कारण यह था कि उनके पिता अतुल्यतेज महिडोल का निधन महज 37 साल की उम्र में हो गया था। पिता की मृत्यु के बाद दस साल की उम्र में राजा बने बड़े भाई आनंद महिडोल का निधन भी महज 20 साल की उम्र में हो गया। इसके बाद 18 साल की उम्र में थाइलैण्ड के राजा बने भूमिबोल ने सत्तर साल तक शासन किया। इस वर्ष पहले उनकी पत्नी का निधन हुआ और अब वे भी नहीं रहे।

खबर बनाना तो सही है क्योंकि थाई राजा के नाम कई तरह के रिकार्ड दर्ज हैं लेकिन खबर के साथ यह पुमीपोन वाली बदमाशी क्यों की गयी?

(संजय तिवारी की फेसबुक वॉल से साभार)

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।