इस राजनीतिक मुकदमे का मैं स्‍वागत करता हूं: गौतम नवलखा

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


इकनॉमिक एंड पॉलिटिकल वीकली के सलाहकार संपादक रहे गौतम नवलखा को कल गिरफ्तार किए जाने के बाद पुणे पुलिस की ट्रांजिट रिमांड को आज तक दिल्‍ली हाइकोर्ट से रोक दिया गया था। आज दो बजे दिन में उनके मामले की सुनवाई है।

उससे पहले गौतम नवलखा ने अपने शुभचिंतकों को एक संदेश भेजा है जिसे नीचे पढ़ा जा सकता है

यह समूचा केस इस कायर और प्रतिशोधी सरकार द्वारा राजनीतिक असहमति के खिलाफ़ की गई राजनीतिक साजिश है जो भीमा कोरेगांव के असली दोषियों को बचाने के लिए जी जान लगा रही है और इस तरह से उसने अपने उन घोटालों और नाकामियों की ओर से ध्‍यान बंटाने का काम किया है, जो कश्‍मीर से लेकर केरल तक फैली हुई हैं। एक राजनीतिक मुकदमे को राजनीतिक तरीके से ही लड़ा जाना चाहिए और मैं इस अवसर का स्‍वागत करता हूं। मुझे कुछ नहीं करना है। अपने सियासी आकाओं की शह पर काम कर रही महाराष्‍ट्र पुलिस का असल काम है कि वह मेरे खिलाफ और मेरे संग गिरफ्तार हुए साथियों के खिलाफ अपना केस साबित करे। हमने पीयूडीआर में रहते हुए बीते चालीस साल के दौरान सामूहिक रूप से निडर होकर लोकतांत्रिक अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी है और मैं, पीयूडीआर का हिस्‍सा होने के नाते ऐसे कई मुकदमे कवर कर चुका हूं। अब मैं खुद किनारे खड़े रह कर एक ऐसे ही सियासी मुकदमे का गवाह बनने जा रहा हूं।

तू जि़ंदा है तो जि़ंदगी की जीत पर यक़ीन कर

अगर कहीं है स्‍वर्ग तो उतार ला ज़मीन पर

ये ग़म के और चार दिन सितम के और चार दिन

ये दिन भी जाएंगे गुजर

गुज़र गए हज़ार दिन

तू जि़ंदा है…

 

गौतम नवलखा
29 अगस्‍त, 2018
नई दिल्‍ली


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।