बिहार चुनाव: संघर्ष के इलाक़े नहीं छोड़ेगा माले, आरजेडी से तालमेल अटका

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


बिहार विधानसभा चुनाव में सीटों के तालमेल को लेकर भाकपा-माले व राष्ट्रीय जनता दल के बीच राज्य स्तर पर चली कई राउंड की वार्ता प्रक्रिया का कोई ठोस नतीजा नहीं निकलने के उपरांत उसे स्थगित कर दिया गया है। भाकपा-माले के पोलित ब्यूरो सदस्य व वार्ता कमिटी के इंचार्ज धीरेन्द्र झा ने कहा कि दोनों दलों ने अब इसे अपने-अपने केंद्रीय नेतृत्व पर छोड़ दिया है।

आज की वार्ता में भाकपा-माले की ओर से धीरेन्द्र झा के अलावा पूर्व सांसद रामेश्वर प्रसाद व केडी यादव शामिल थे।

भाकपा-माले ने कहा है कि राजद की ओर से हमारे लिए प्रस्तावित सीटों में पाटलिपुत्र, औरंगाबाद, जहानाबाद, गया, बक्सर, नालंदा जो हमारे कामकाज के प्रमुख इलाके हैं, में एक सीट भी शामिल नहीं है। हम अपने संघर्ष व बलिदान के महत्वपूर्ण इलाकों को नहीं छोड़ सकते हैं। नतीजतन, राज्य स्तर पर जारी प्रक्रिया स्थगित कर दी गई है।

आपको बता दे कि 18 सिंतबर को भाकपा माले महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य, माले राज्य सचिव कुणाल और पोलित ब्यूरो सदस्य धीरेन्द्र झा ने बिहार में एनडीए विरोधी विपक्ष की कारगर एकता में जारी गतिरोध दुर्भाग्यपूर्ण बताया था। उन्होंने कहा था कि भाजपा-जदयू की हार सुनिश्चित करने के लिए विपक्ष की व्यापक व कारगर एकता बिहार की जनता की चाहत है, ताकि जनता का आक्रोश संगठित हो सके, लेकिन यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस दिशा में अबतक कोई बड़ी प्रगति नहीं हो सकी है।

भाकपा माले नेताओं ने कहा था कि विगत लोकसभा चुनाव में जिस प्रकार का तालमेल हुआ था और उसके जो अनुभव हैं, उसने स्पष्ट कर दिया है कि माले और अन्य वाम दलों को उचित जगह दिए बिना कोई कारगर विपक्षी एकता नहीं बन सकती और भाजपा-जदयू के खिलाफ निर्णायक गोलबंदी संभव ही नहीं है। लेकिन तालमेल को लेकर अभी तक राजद का जो रुख और प्रस्ताव है, वह जनता की भावना और राजनीतिक जरूरत से कत्तई मेल नहीं खाती है। हम चाहते हैं कि राजद इसपर गंभीरता से विचार करे ताकि विपक्षी दलों के बीच कारगर एकता का निर्माण हो सके।

माले महासचिव ने कहा था कि विपक्षी दलों के बीच कारगर तालमेल नहीं होने की स्थिति में भाकपा-माले बिहार की जनता से अपील करती है कि ऊपर के स्तर पर जारी गतिरोध को दरकिनार कर नीचे के स्तर पर जनता के विभिन्न हिस्सों और नीचे के आंदोलनों का मोर्चा बनाएं और विश्वासघाती एनडीए सरकार को निर्णायक शिकस्त देने की तैयारी आरंभ कर दें!


 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।