आरएसएस का तिरंगा हटाने का सपना हुआ हरा, कर्नाटक के मंत्री ने कहा- भगवा बन सकता है राष्ट्रीय ध्वज!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


आज़ादी के बाद ही आरएसएस ने तिरंगे का विरोध किया था, लेकिन संवैधानिक व्यवस्था के दबाव में उसने पैर पीछे कर लिए थे। लेकिन अब केंद्र और कई राज्यों में सत्ता पाने के बाद उसका पुराना सपना फिर हरा हो गया है। वे राष्ट्रीय संप्रुभता के प्रतीक तिरंगा झंडा को हटाने की बात करने लगे हैं। और यह संकेत कर्नाटक के बीजेपी सरकार के एक मंत्री ने ही दिया है।

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के वरिष्ठ नेता और कर्नाटक के ग्रामीण विकास एवं पंचायत राज मंत्री के एस ईश्वरप्पा ने विवादित बयान दिया है। बुधवार को उन्होंने दावा किया कि, भगवा भविष्य में कभी राष्ट्रीय ध्वज बन सकता है हालांकि, उन्होंने कहा कि तिरंगा अभी राष्ट्रीय ध्वज है और इसका सभी को सम्मान करना चाहिए।

ईश्वरप्पा ने कहा कि सैकड़ों साल पहले भगवान रामचंद्र और मारुति के रथों पर भगवा झंडे थे। क्या तब हमारे देश में तिरंगा झंडा था? अब यह हमारा राष्ट्रीय ध्वज है, इसलिए इसे पूरा सम्मान देना चाहिए। जब उनसे पूछा गया कि क्या लाल किले पर भगवा झंडा फहराया जा सकता है? उन्होंने जवाब दिया कि आज नहीं, शायद भविष्य में किसी दिन। आज देश में ‘हिंदू विचार’ और ‘हिंदुत्व’ पर चर्चा हो रही है। एक समय लोग हंसते थे जब हम कहते थे कि अयोध्या में राम मंदिर बनेगा, क्या हम इसे अभी नहीं बना रहे हैं? उसी तरह कुछ भविष्य में समय, 100 या 200 या 500 वर्षों के बाद भगवा ध्वज राष्ट्रीय ध्वज बन सकता है। मुझे नहीं पता।

ईश्वरप्पा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डी के शिवकुमार के दावों का जवाब दे रहे थे कि छात्रों ने मंगलवार को हिजाब के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान शिवमोगा के एक कॉलेज में तिरंगा की जगह भगवा झंडा फहराया।