काँग्रेस में लौटे ‘प्रभात-फेरियों’ वाले दिन, प्रियंका बोलीं-मज़बूती से लड़ेंगे विचारधारा की लड़ाई!


सबसे बड़ी बात, कांग्रेस ने वैचारिक रूप से अपने को मज़बूत करने पर ध्यान देना शुरू कर दिया है। एक बार फिर प्रभात फेरियों और आज़ादी के आंदोलन के दौरान विकसित हुए मूल्यों की हिफ़ाज़त की बात हो रही है। कांग्रेस नेता राहुल गाँधी जिस तरह से आरएसएस पर भारतीय संविधान पर सुचिंतित हमला करने का आरोप लगा रहे हैं, उसके बाद यह ज़रूरी हो गया है कि कांग्रेस जन वैचारिक मोर्चे पर भी धार दें।


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को ज़मीनी स्तर पर मज़बूत करने के कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी के प्रयासों का असर दिखने लगा है। सबसे बड़ी बात, कांग्रेस ने वैचारिक रूप से अपने को मज़बूत करने पर ध्यान देना शुरू कर दिया है। एक बार फिर प्रभात फेरियों और आज़ादी के आंदोलन के दौरान विकसित हुए मूल्यों की हिफ़ाज़त की बात हो रही है। कांग्रेस नेता राहुल गाँधी जिस तरह से आरएसएस पर भारतीय संविधान पर सुचिंतित हमला करने का आरोप लगा रहे हैं, उसके बाद यह ज़रूरी हो गया है कि कांग्रेस जन वैचारिक मोर्चे पर भी धार दें।

इसी को ध्यान में रखते हुए पूर्वांचल ज़ोन के ब्लॉक अध्यक्षों के प्रशिक्षण शिविर गोरखपुर में लगाया गया जिसका आज दूसरा दिन था। इस शिविर में कांग्रेस के पूर्वी ज़िलों के 155 ब्लॉक अध्यक्ष हिस्सा ले रहे हैं। आज के शिविर की शुरुआत गोला बाज़ार में निकाली गयी प्रभात फेरी से हुई। कांग्रेस जन शहीदों की याद में और भारत माता की जयकारा करते हुए चल रहे थे। साथ ही देशभक्ति की गीत गा रहे थे।

फ़ोन पर इस शिविर को संबोधित करते हुए प्रियंका गाँधी ने कहा कि ब्लॉक अध्यक्ष कांग्रेस संगठन की नींव हैं। उनकी मेहनत से ही कांग्रेस संगठन मज़बूत हुआ है। विधानसभा के आगामी चुनाव में सबसे बड़ी भूमिका ब्लॉक अध्यक्षों की होगी। उन्होंने कहा कि यह सरकार किसान विरोधी है और मात्र कुछ पूँजीपतियों के लिए काम कर रही है। हमारा फ़र्ज़ है कि अन्याय के ख़िलाफ़ खड़े हों। प्रियंका गाँधी ने कहा कि यह विचारधारा की लड़ाई है जिसे मज़बूती से लड़ा जायेगा।

प्रशिक्षण शिविर में आज सोशल मीडिया, संगठन और पंचायत चुनाव पर चर्चा हुई। कांग्रेस नेताओं का मानना है कि निचले स्तर पर संगठन को मज़बूत बनाकर उत्तर प्रदेश को एक मज़बूत विकल्प देने के लिए पार्टी तेज़ी से तैयार हो रही है।

 

नदी अधिकार पदयात्रा

 

उधर, निषादों के नदी पर अधिकार के लिए प्रयागराज के बसवार से निकली ‘नदी अधिकार यात्रा’ आज चन्दौली पहुंची। यात्रा का आज 14 वां दिन, था और 308 किलोमीटर की पदयात्रा पूरी हो चुकी है। कल यह यात्रा गाज़ीपुर के पटना गांव पहुंच रही है। गंगा किनारे गांवों में संपर्क करते आगे बढ़ रही है पदयात्रा बलिया के मांझी घाट पर सम्पन्न होगी।

यात्रा में चल रहे कांग्रेस नेता देवेंद्र निषाद ने कहा है कि नदी पे पहला हक़ उसके किनारे रहने वालों का है। नदियों से बालू निकालने, मछली पकड़ने का हक़ निषाद समाज का है जिसे दिलाने के लिए कांग्रेस पूरा संघर्ष कर रही है। उन्होंने नदी पर अधिकार के लिए संघर्ष करने वाले निषाद समाज के लोगों पर लगे फ़र्ज़ी मुक़दमे वापस लेने की माँग करते हुए कहा कि कांग्रेस निषाद समाज का उत्पीड़न बरदाश्त नहीं करेगी।

कांग्रेस की प्रभात फेरी का वीडियो नीचे देखिये–

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।